Home » movie review » Gold Review in Hindi

Gold Review in Hindi

User Rating: 3.2
Gold Review in Hindi

Average Ratings:3.2/5
Score: 80% Positive
Reviews Counted:5
Positive:4
Neutral:0
Negative:1

Ratings:2/5 Review By: पराग छापेकर Site:  Dainik Jagran

निर्देशक रीमा कागती का सबसे कमजोर विभाग रहा स्क्रीन प्ले! मध्यांतर के पहले फिल्म बिखरी-बिखरी नज़र आती है! कहीं-कहीं कालखंड का ग़लत प्रयोग भी खटकता है! अगर स्क्रीनप्ले पर और मेहनत की जाती तो फिल्म का अंदाज़ कुछ अलग ही होता। हालांकि मध्यांतर के बाद फिल्म की गति आपको फिल्म में बहा ले जाती है। अभिनय की बात करें तो अक्षय कुमार तपन दा के किरदार में छा जाते हैं! मौनी रॉय का बॉलीवुड डेब्यू सफल रहा! अमित साध भी अपने किरदार में जंचे हैं। कुल मिलाकर गोल्ड एक साधारण फिल्म है और अगर आप अक्षय कुमार के हार्डकोर फैन हैं तो आप फिल्म देख सकते हैं।

Visit Site For more

Ratings:3/5 Review By: रवि बुले Site:  Amar Ujala

हालांकि उनकी भूमिका कहानी में विशेष उल्लेखनीय नहीं है। निर्देशक ने 1940 का दशक उभारने के लिए सबसे ज्यादा उस वक्त की वेशभूषा की मदद ली। हॉकी के दृश्य सहज हैं और इन्हें भावनाओं के साथ अच्छे ढंग से पिरोया गया है। निर्देशक ने गीत-संगीत की जगह निकालनी परंतु उसका विशेष इस्तेमाल नहीं हो सका। संगीतमय मौके यहां कहानी की मदद नहीं करते और न ही सुनने में प्रभावी हैं। यह कह सकते हैं कि गोल्ड अक्षय कुमार के देशभक्ति ब्रांड वाला ही सिनेमा है। अक्षय और देशभक्ति ब्रांड आपको पसंद है तो फिल्म आपके लिए है।

Visit Site For more

Ratings:3.5/5 Review By: Rachit Gupta Site:  Navbharat Times

प्रॉडक्शन डिजाइन और कॉस्ट्यूम ने उस दौर को रीक्रिएट करने में अहम भूमिका निभाई है। सिनेमटॉग्रफी और बैकग्राउंड स्कोर तकनीक और गुणवत्ता के मामले में काफी कमाल के हैं। फिल्म में होने वाले हॉकी मैच थ्रिल बनाए रहते हैं। मैच का अंत जानते हुए भी आप पूरे मैच के दौरान रोमांच महसूस करेंगे और भारतीय टीम के लिए चीयर करेंगे। फिल्म की एडिटिंग कुछ बेहतर हो सकती थी और कहानी में ‘चढ़ गई’ और ‘नैनो ने बांधी’ गाने की जरूरत नहीं थी। इमोशनल एंड पर फिल्म काफी दमदार है क्योंकि कुछ लोग अपने निजी विरोधों को दूर रखकर भारत की जीत के लिए मिलकर प्रयास करते हैं। आजादी के बाद .यह पहला गेम था इसलिए ग्राउंड पर खेल रही भारतीय टीम के लिए पाकिस्तानी टीम भी चीयर करती है।

Visit Site For more

Ratings:4.5/5 Review By: Mahendra Gupta  Site:  Aaj Tak

फिल्म की कहानी काफी दमदार है. आजादी के पहले का दौर कैसा है और फिर आजादी के बाद किस तरह खिलाड़ियों का मनोबल बढ़ता है, यह कहानी बड़े ही उम्दा तरीके से डायरेक्टर रीमा कागती ने दिखाई है. फिल्म में यह भी दिखाया गया है कि किस तरह से ब्रिटिश टीम के अंतर्गत भारतीय खिलाड़ी हॉकी खेलते हैं और जब भारत आजाद हो जाता है तो भारत के झंडे को लहराते देख अलग ही जज्बा सामने दिखाई देता है. संवाद बैकग्राउंड स्कोर और साथ ही साथ डायरेक्शन कमाल का है. सिनेमेटोग्राफी बढ़िया है और जिस तरह से लोकेशन सेलेक्ट की गई है वह काबिले तारीफ है. फिल्म में कई सारे ऐसे सीन हैं जो आपके दिल में घर कर जाते हैं. जैसे हर एक किरदार की जर्नी और भारत देश के लिए खेलने का जज्बा, कमाल का दिखाया गया है.

Visit Site For more

Ratings:3/5 Review By: Medha Chawla Site:  Times Now

वैसे गोल्‍ड देखते हुए आपको कई बार शाहरुख खान की 2007 में आई फ‍िल्‍म चक दे इंड‍िया की याद आएगी। कई सीन तो जैसे एकदम वहीं से उठाए लगते हैं, खासतौर पर मैच के ड्रामेटिक पल। यही नहीं फ‍िल्‍म में आपको दूसरी सफल स्‍पोर्ट्स बेस्‍ड फ‍िल्‍मों दंगल और सुल्‍तान की भी झलक महसूस होगी। ऐसा नहीं है कि इससे फ‍िल्‍म को खराब कहा जाए लेकिन हां, गोल्‍ड का यूनीक पॉइंट इन दृश्‍यों ने खत्‍म कर द‍िया। वैसे रीमा ने इनको कुशलता से उठाया है कि सभी इन बातों पर गोल्‍ड की आलोचना नहीं करेंगे। अक्षय कुमार ने गोल्‍ड के साथ दर्शकों को एक अच्‍छी फ‍िल्‍म दी है। फ‍िल्‍म में भारत और अंग्रेजों के बीच संघर्ष के कई सीन आपको हिलाकर रख देंगे और साथ ही देशभक्‍त‍ि की भावना से भी भर देंगे।

Visit Site For more

 

Also See

Gold Box Office Collection

Gold Review in English

Akshay Kumar Upcoming Movies

Akshay Kumar Box Office Analysis

Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

Also see  Latest Bollywood Movies

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

गोल्ड कहानी:

फिल्म की कहानी 1936 से शुरू होती है. जब बर्लिन में ब्रिटिश इंडिया के तहत भारत की हॉकी टीम कंपनी जाती है, इसमें जूनियर मैनेजर के तौर पर तपन दास (अक्षय कुमार) होते हैं और उस टीम का नेतृत्व करते हैं सम्राट (कुणाल कपूर). फिल्म में इम्तियाज (विनीत कुमार सिंह ) भी मौजूद होते हैं, इस साल भारत गोल्ड तो जीत जाता है, लेकिन ब्रिटिश इंडिया का झंडा फहराया जाता है, जो कि तपन को पसंद नहीं आता और वह ठान लेता है कि जब भी अगली बार भारत की हॉकी टीम खेलेगी तो स्वतंत्र भारत के झंडे के अंतर्गत खेलेगी. कहानी आगे बढ़ती है, जिसमें राजकुमार रघुवीर प्रताप सिंह (अमित शाद) और पंजाब के रहने वाले हिम्मत सिंह (सनी कौशल )की एंट्री होती है. एक बार फिर से टीम का गठन होता है और स्वतंत्र भारत में 1948 में भारतीय हॉकी टीम किस तरह से 200 साल की गुलामी का बदला एक गोल्ड मेडल जीतकर लेती है, यही फिल्म में दर्शाया गया है, जिसे जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी.

गोल्ड Release Date:

Aug 15, 2018 ( India)

निर्देशक:  रीमा कागती

कलाकार (Cast): 
अक्षय कुमार
मॉनी रॉय
विनीत कुमार
कुणाल कपूर
अमित साध
कायरा आडवाणी
 

अवधि (Run Time):  2 घंटा 22 मिनट

Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan | Akshay Kumar

3.2
Good

Have your say!

65 9

Lost Password

Please enter your username or email address. You will receive a link to create a new password via email.