Home » Featured » Aiyaary Hindi Movie Review

Aiyaary Hindi Movie Review

Aiyaary Hindi Movie Review 

Aiyaary Hindi Movie Review

Average Ratings: 2.25/5
Score:17% Positive
Reviews Counted:9
Positive:1
Neutral:3
Negative:5



Ratings:2/5 Review By:Anupama Chopra Site:Filmcompanion

The word Aiyaar means shape-shifter – someone who can become someone else at will. The Arabic word was popularized by the landmark Hindi novel Chandrakanta. I suspect that director Neeraj Pandey who has also written the film fell in love with the word first and then reverse-engineered a story around it. Because Aiyaary is half-baked, simplistic and for the most part, a slog.

Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Taran Adarsh Site:Twitter

Aiyaary has some interesting twists and a couple of skilfully executed sequences, but it lacks the punch associated with Neeraj Pandey’s movies… Stylish, yes. Substance, no… Neeraj Pandey misses the bus this time… His weakest work to date…Lengthy run time [2.40 hours] and lethargic pacing are two major hiccups of #Aiyaary, besides patchy and confused screenwriting… Boasts of fine performances by Manoj Bajpayee, Sidharth Malhotra and of course, Naseeruddin Shah. That’s it!

Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Alaka Sahani Site: Indianexpress

Had the film been closely edited to make it pacy, it would have sent out the message it intends to. As of now, it remains as lost as the purpose behind some of the film’s long drawn chase sequences.

Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By:Saibal Chatterjee Site:NDTV

Aiyaary wants to be a daring thriller that calls out smarmy politicians and arms dealers. But it only fires blanks. It begins with a disclaimer that its storyline is strictly fictional and that it has the utmost respect for the political class and the military establishment. The film lives up to its word. At the end of all the sound and fury, the purported targets are left unscathed. Only one poor cornered ex-soldier puts a bullet through his throat.The audience, of course, deserves much better than what Aiyaary is willing to offer.

Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Neil Soans Site:Times Of India

‘Aiyaary’ has quite a few lethargic scenes that are long-drawn and don’t do much to further the story or add to the characters. The complexity of the overarching plot allows for some exposition, but the screenplay goes overboard and often loses pace. The film could make a far more intriguing watch with a tighter edit devoid of all the dramatized entries and exits. Those expecting the clever Neeraj Pandey twists will probably be left wanting more. But ‘Aiyaary’ has measured performances that resound louder than its bombastic score, and they alone make it a worthwhile watch.

Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Hungama Site:Bollywood Hungama

While the director Pandey tried to build on the suspense, he fails to keep the viewer’s attention because of it’s run time and clumsy writing. The movie talks about arms and ammunition scam for about one and a half hour, but ends with a focus on Aadarsh society Scam. The movie could have been salvaged by tighter editing but Praveen Kathikuloth fails to deliver on that front. On the whole, AIYAARY misses the mark and is a huge letdown on the account of its flawed script and the lengthy runtime. At the box office, it will be a disappointing fare.

Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Ankita Site:BollywoodLife

If you are a fan of spy thrillers and Neeraj Pandey, you will have to stifle yawns while watching Aiyaary. However, if you appreciate the finer things in life like Manoj Bajpayee’s flawless performance, you must book your tickets to the film because the actor is at the top of his game here.

Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Manjusha Site:GulfNews

but if you are going in with expectations that it will be another A Wednesday, Special 26 or Baby, be prepared: this film falls short with a half-baked story-line and weak characters.The one thing I look forward to while watching a Neeraj Pandey film is thrill. However, this one left me sitting at the edge of my seat restlessly waiting to gasp. A classic example of a well-intentioned film that isn’t well executed! Watch this one only for honest performances and Sidharth Malhotra’s jaw-dropping good looks.

Visit Site For More
Ratings:1.75/5 Review By:Karen Site:Masala

Bollywood churns out ample films but this one is worth a watch. Keeping aside how it will fare at the Box-Office, Pad Man has definitely gets us thinking about the plight of women who cannot afford sanitary napkins. In villages, thousands of women contact deadly diseases during menstruation but are unable to afford and unaware of the benefits of using pads. This film must be appreciated. Therefore you all go and watch it.

Visit Site For More

Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

Aiyaary Story:  

An East Indian colonel has 36 hours to capture his former protégé — a rogue major who can bring down the government.

Aiyaary Release Date:

Feb 16, 2018 ( India)

 Director: Neeraj Pandey

Producer: Shital Bhatia, Dhaval Gada ,Jayantilal Gada, Karan Shah ,Motion Picture Capital

Cast:
Sidharth Malhotra
Manoj Bajpayee
Rakul Preet Singh
Pooja Chopra
Adil Hussain
Kumud Mishra
Naseeruddin Shah
Anupam Kher

Run Time:  2 hours and 40 Minutes

Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan

Have your say!

0 0

3 Comments

  1. अय्यारी:
    लम्बी, उबाऊ, नीरस! [2/5]

    गनीमत है कि हिंदी फिल्मों के सीक्रेट सर्विस एजेंट्स अपने 'टारगेट' पर नज़र बनाये रखने की गरज से, आजकल सड़कों पर गाना गाते हुए दिखाई नहीं देते. रामानंद सागर की 'आँखें' याद हैं ना? हालाँकि भिखारियों का गेटअप अभी भी उनका पसंदीदा है. नीरज पांडे ने पिछले कुछ सालों में राष्ट्रीय सुरक्षा और देशप्रेम के सवालों से सीधे-सीधे तौर पर जुड़ी कहानियों के ज़रिये इतना तो किया ही है. इंटेलिजेंस के लोग अब लाल, पीले, हरे बल्बों से सजी दीवारों और पैनलों के आगे बैठे, रेडियो पर जोर जोर से 'ओवर एंड आउट' नहीं बोलते, बल्कि हफ़्तों तक बिना किसी हलचल एक कमरे में कैद रहते हैं, भीड़ भरी गलियों में, मौके की तलाश में 'टारगेट' के पीछे-पीछे चुपचाप चलते रहते हैं और काम निपटा कर वापस भीड़ में खो जाते हैं. 'अय्यारी' करीब करीब इतनी ही लम्बी, उबाऊ और नीरस फिल्म है.

    मोटी दलाली की लालच में, सेना का रिटायर्ड अधिकारी गुरिंदर सिंह (कुमुद मिश्रा) चौगुनी कीमतों पर सेना को अपने खास लोगों से ही हथियार खरीदने की पेशकश करता है. मना करने पर सेना के एक गुप्त गैरकानूनी संगठन का मीडिया में भंडाफोड़ करने की उसकी धमकी के बाद अब सेना की साख दांव पर है. खुफिया जानकारी मुहैया कराने वाला गद्दार उसी संगठन से है, मेजर जय बक्शी (सिद्दार्थ मल्होत्रा). और उसे रोकने की जिम्मेदारी है, संगठन के सबसे काबिल अफसर और मुखिया कर्नल अभय सिंह (मनोज बाजपेयी) पर. गुरु-शिष्य आमने-सामने हैं. दोनों की अपनी जायज़ वजहें हैं. दोनों के अपने-अपने दांव-पेंच. हालाँकि कहानी में ना ही जय की बग़ावत का कोई ठोस इरादा पता चलता है, ना ही अभय की कथातथित 'अय्यारी' का कोई बहुत दिलचस्प नमूना देखने को मिलता है.

    सेना का मनोबल न घटे, अक्सर इस वजह से सेना में भ्रष्टाचार की सुगबुगाहट को सिरे से नकारा जाता रहा है. नीरज पांडे जब 'अय्यारी' में सैनिक हथियारों की खरीद-फरोख्त में भ्रष्टाचार के मामले के इर्द-गिर्द अपनी कहानी बुनना शुरू करते हैं, तो लगता है कि उनके जरिये परदे पर कुछ हिम्मत दिखेगी, पर जल्द ही वो भी सेना के प्रति अपना सम्मान व्यक्त करने की कवायद में कहानी के साथ जबरदस्त छेड़छाड़ करने लगते हैं. नतीजा, कहानी के सिरे इतने कटे-फटे और बेमतलब हो जाते हैं कि कहने को कोई मुद्दा बचता ही नहीं. तभी तो जहां सेना पर मीडिया द्वारा उनके गुप्त संगठन का खुलासा कर दिये जाने की तलवार लटक रही होती है, 'आदर्श हाउसिंग सोसाइटी' से मिलते-जुलते एक घोटाले की खबर के साथ उसे बदल देने में ही कर्नल अभय सिंह अपनी जीत मनवा लेता है. जय का रुख और रवैया भ्रष्टाचार को लेकर बहुत ही बचकाना लगता है, खास तौर पर तब जब वो भी उन्ही लोगों के साथ सौदेबाजी में जुट जाता है. यकीन मानिए, इसमें उसकी कोई सोची-समझी रणनीति भी नहीं है, जो फिल्म के आखिर में जाकर आपको चौंका दे.

    नीरज को एक बात की दाद तो मिलनी ही चाहिए. अपने लम्बे-लम्बे दृश्यों में जिस ठहराव के साथ वो आपको लिप्त कर लेते हैं, परदे पर सस्पेंस थ्रिलर का पूरा पूरा माहौल बन जाता है. दिक्कत तब पेश आती है, जब इन लम्बे-लम्बे दृश्यों का अंत और उद्देश्य फिल्म की कहानी में कोई बहुत बड़ा योगदान नहीं दे पाता. 'अय्यारी' कुछ बेहद जाने-पहचाने चेहरों (कुमुद मिश्रा, निवेदिता भट्टाचार्या, जूही बब्बर, राजेश तैलंग और आदिल हुसैन) और गिनती के बेहतरीन अभिनय (मनोज बाजपेयी, नसीर साब) से ही थोड़ी बहुत उम्मीद बचा पाती है. मनोज जहाँ अपनी ईमानदारी से पूरी फिल्म में छाए रखते हैं, नसीर साब मेहमान भूमिका में भी कमाल कर जाते हैं. सिद्धार्थ अभिनय में बहुत संयमित हैं, पर नीरज उन्हें फिल्म में 'स्टाइल' का पुट लाने के लिए ही ज्यादा इस्तेमाल करते हैं. रकूल प्रीत बस फिल्म में होने के लिए ही हैं.

    आखिर में; 'अय्यारी' अपने विषय-वस्तु की वजह से रोचक तो लगती है, मगर नीरज पांडे की दूसरी फिल्मों (स्पेशल 26, बेबी) की तरह तनिक भी रोमांचक नहीं है. अभिनय में मनोज बाजपेयी की आसानी देखनी हो, तो भी उनकी अच्छी फिल्मों की लिस्ट बहुत बड़ी है. यहाँ तो मनोज सिर्फ आपको उकताहट से बचाने के लिए मौजूद रहते हैं. कहानी में धार न होने के बावजूद, अगर 'जय हिन्द', 'गद्दार' और 'देश', जैसे शब्द कहीं न कहीं आपमें बेमतलब की ऊर्जा भर देते हैं, तभी देखने जाईये. [2/5]

  2. Aakhir Neeraj Pandey ka form Bigad hi Gaya

  3. Aiyaary ki Thik se Taiyaary nahin ki isliye Bekaari ho gayi

Comments are now closed for this post.

Lost Password

Please enter your username or email address. You will receive a link to create a new password via email.