Beyond the Clouds Hindi Movie Review |Bollymoviereviewz
Thursday, May 3, 2018

Beyond the Clouds Hindi Movie Review

Beyond the Clouds Hindi Movie Review


Average Ratings:2.94/5
Score:80% Positive
Reviews Counted:8
Positive:4
Neutral:3
Negative:1



Ratings:3/5 Review By:Anupama Chopra Site:Filmcompanion
The narrative in Beyond the Clouds is overwrought. The beats are predictable and the treatment, heavy-handed. Through Majidi’s eyes, the city of Mumbai might seem new but the characters are familiar. The city’s energy and colors are palpable but the story-telling has less sparkle. A. R. Rahman’s soundtrack further underlines every note. Subtlety is not this film’s strong point. Ultimately Beyond the Clouds is a mixed bag. It is likely to be a footnote in Majidi’s rich filmography. But the film is worth seeing as an intriguing experiment. I’m going with three stars.
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Shubhra Site:Indian Express
Slum kids in Mumbai. Trying to hack a life. Battling heavy odds. Drugs. Vice. Prostitution. Loyalty. Betrayal. Love. Majid Majidi’s foray into Indian cinema dusts off these themes, tried-tested-tired with use from such films as Salaam Bombay and Slumdog Millionaire, from Nayakan to Parinda, and everything in between, and creates a been-here-seen-most-of-this re-tread.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Rohit Site:Hindustan times
Despite excellent symbols and good performances in patches, Beyond The Clouds remains something we have seen and had expected. The uniqueness of the film hardly crosses the crowded bylanes. Majid Majidi’s foreign eyes see what all of them see.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Neil Soans Site:Times Of India
Anil Mehta’s cinematography is equally delightful as he breathes life into Majidi’s vision in some stunning visuals that leave a lasting impression. He presents a different look at some familiar locations in Mumbai while highlighting some new ones. Although being a worthy addition to the skilled technical team, A.R. Rehman’s score falls short of being memorable. Majidi's subject matter might seem to be repetitive, but the famed director's take on redemption is fleshed out by strong performances to make 'Beyond the Clouds' another notable entry in his filmography.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Saibal Chatterjee Site:NDTV
Beyond the Clouds employs the same narrative construct placed in a different setting and context. It thrives on taking in the sights and sounds of a seedy part of Mumbai where survival is a daily, bruising struggle. This is a world apart established in the opening shot itself. The camera is trained on cars speeding up and down a flyover. A giant hoarding overlooks the elevated span and invites customers to buy into a mobile phone plan. The camera then tilts down and glides into another universe that spreads out underneath the structure. It is here that we first espy the young male protagonist and his friend riding off on a two-wheeler on a dirt-track running between two massive sewage pipes.
Visit Site For More
Ratings:4/5 Review By:Meena Iyer Site:DNA
Verdict: Beyond the Clouds should be watched to experience how a master storyteller like Majidi can redeem Hindi cinema from drudgery.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:ROHIT BHATNAGAR Site:DECCAN CHRONICLE
BTC is certainly not a masterpiece of Majid Majidi. It is just another regular story of orphan siblings and their problematic lives. Avoid the pace and plot, the film is high on emotions.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Umesh Punwani Site:Koimoi
What’s Good: Display of complex emotions in a way everyone can connect, superior quality drama, Ishaan Khatter’s memorable debut.What’s Bad: The balance between what’s right and what should be right tumbles in between; also because the good things happening in the film takes an artificial turn at few places but as they say a great dish sometimes requires few tarty ingredients.Loo Break: On a whole, this film will attract people who don’t believe in taking breaks while watching a film.Watch or Not?: Only if you can digest high-voltage dramas; there’s nothing typical-Bollywood in the film.
Visit Site For More


Also See

Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

Beyond the Clouds Story:  

The paths of two siblings collide, when on the run from the cops after a drug bust. Amir a 19 year old peddler from Mumbai finds solitude in his past, meanwhile his estranged sister Tara, who in a bid to protect her brother lands up in jail. This catastrophic incident turns serendipitous for them, whose entire lives have been clouded by despair as unexpectedly the light shines on them from Beyond the Clouds! The film highlights the many facets of India intertwined with celebration of love & family!

Beyond the Clouds  Release Date:

April 20, 2018 ( India)

 Director:  Majid Majidi

Producer: Shareen Mantri Kedia Kishor Arora
 
Cast:
Ishaan Khatter
Malavika Mohanan

Run Time:  2 hour 0 Minutes


Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Beyond the Clouds Hindi Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

2 comments:

  1. बियॉन्ड द क्लाउड्स:
    मजीदी के सिनेमा पर बॉलीवुड के बादल! [2.5/5]

    मुंबई के रेडलाइट इलाके की एक इमारत है. छोटे-छोटे कमरों से भरे गलियारे में जिस्मों के मोल-भाव चल रहे हैं. एक माँ अपने ‘क्लाइंट’ के साथ कमरे में दाखिल होती है, एक छोटी बच्ची कमरे से निकल कर चुपचाप दीवार से लग कर खड़ी हो जाती है. उसे कुछ समझाने, बताने या कहने की अब जरूरत भी नहीं पड़ती. ‘स्लमडॉग मिलियनेयर’ को आये 10 साल बीत चुके हैं, और ‘सलाम बॉम्बे’ तो 30 साल पहले आई थी. मुंबई की इन बदनाम, तंग गलियों में तंगहाल जिंदगियों के हालात, हो सकता है अब भी बहुत ज्यादा न बदले हों, मगर जब माज़िद मजीदी जैसे वाहिद और काबिल फ़िल्मकार आज भी परदे पर अपनी कहानी कहने के लिए, उन्हीं मशहूर फिल्मों के उन्हीं चिर-परिचित दृश्यों की परिपाटी का सहारा लेते हैं, सवालों से कहीं ज्यादा बढ़कर मायूसी होती है. क्या मुंबई शहर की, शहर के इस सबसे निचले-गंदले हिस्से की पूरी समझ मजीदी साब को फिल्मों से ही उधार में मिली है? या फिर उनकी यह कोशिश महज़ किसी ख़ास ‘बकेट-लिस्ट’ का एक पड़ाव भर है?

    ईरानी फ़िल्मकार माज़िद मजीदी पारिवारिक रिश्तों में आत्मीयता खोजने के लिए सीधी-सरल और मासूमियत भरी कहानियों के लिए जाने जाते हैं. लापरवाही से छोटी बहन ज़ाहरा के जूते गंवाने के बाद, नए जूतों के लिए नयी-नयी तिकड़में लगाता अली तो याद ही होगा (चिल्ड्रेन ऑफ़ हेवन)? ‘बियॉन्ड द क्लाउड्स’ भी ऐसे ही एक भाई-बहन की कहानी है. हालांकि मासूमियत तो छोडिये, उनके बीच के ज़ज्बात भी बहुत रह-रह कर, बुझे-बुझे ही आप तक पहुँचते हैं. आमिर (ईशान खट्टर) ड्रग्स के धंधे में है. तारा (मालविका मोहनन) धोबी घाट पर कपड़े इस्तरी करती है. एक रोज, तारा पर गन्दी नज़र रखने वाले अक्षी (गौतम घोष) पर तारा हमला कर देती है, और अब वो जेल में है, तब तक जब तक अक्षी ठीक होकर बयान देने की हालत में न आ जाए. एक बड़ा हाथ मारकर लाइफ ‘राकेट’ करने की बेचैनी के बीच, अब आमिर अक्षी और उसके परिवार की देखरेख में फंसा है.

    मुंबई में फ्लेमिंगो देखा है कभी? हर साल आते हैं कच्छ से उड़कर. ‘बियॉन्ड द क्लाउड्स’ भी ईरान से उड़कर आया लगता है. हालाँकि मुंबई का लगने की जद्द-ओ-जहद में बनावटीपन कुछ ज्यादा ही हावी हो जाता है. ईशान खट्टर का सांवलापन पहले फ्रेम से आखिरी फ्रेम तक पहुँचते-पहुँचते किसी फेयरनेस क्रीम के शेडकार्ड जैसे नतीजे दिखाने लगता है. फिल्म में हर बदनसीब औरत किसी न किसी ‘बेवड़े’ से परेशान होकर जिंदगी के इस तकलीफ़देह मुकाम तक पहुंची है. माँ-बाप का न होना बड़ी सहूलियत से ‘कार-एक्सीडेंट’ के मत्थे चढ़ जाता है. और फिल्म में सबसे गैर-जिम्मेदाराना भागेदारी तो विशाल भारद्वाज के हिस्से आती है, जिन्होंने फिल्म के हिंदी संवाद लिखे हैं. उनकी किसी एक ट्रांसलेटर से ज्यादा की भूमिका कभी नज़र ही नहीं आती. विशाल की कलम से सिर्फ रूखे-सूखे शब्द ही निकलते हैं, उनमें किसी किस्म का कोई भाव, कोई ख़ास लहजा, किसी तरह का कोई जायका दिखाई ही नहीं देता. रहमान साब के बाद, अगर इस फिल्म में औसत काम के लिए किसी के पैसे कटने चाहिए तो विशाल भारद्वाज के.

    मरा हुआ हाथी भी सवा लाख का होता है. मजीदी साब अपने सिनेमा की झलक जरूर दिखाते हैं, कई बार तो भड़ास के तौर पर भी. इसी कड़ी में, परछाईयों के साथ उनके प्रयोग एक-दो बार नहीं, फिल्म में बार-बार सामने आते हैं. आमिर की अक्षी के परिवार (एक बूढी माँ और दो नाबालिग़ बेटियों) के साथ के रिश्तों में वो ईमानदारी, वो मासूमियत, वो सहजता, वो गर्माहट पूरी कामयाबी से आपको छू जाती है, जिसके लिए मजीदी साब को आप हमेशा से चाहते आये हैं. मगर पूरी फिल्म में ऐसे मौके गिनती के हैं, बेहद कम हैं. ईशान और मालविका दोनों अपने-अपने अभिनय में घोर संभावनायें और मज़बूत करते हैं.

    ‘बियॉन्ड द क्लाउड्स’ के आखिरी पलों में उम्रकैद झेल रही एक माँ का बच्चा चाँद देखने की जिद कर रहा है. जेल में ही पैदा और पला-बढ़ा होने की वजह से उसने कभी चाँद देखा ही नहीं है. माज़िद मजीदी का सिनेमा बस इक इसी पल में सांस लेता सुनाई देता है, बस एक इतने में ही पूरी फिल्म से ज्यादा मुकम्मल लगता है. बाकी के वक़्त तो आप बस एक हिंदी फिल्म देख रहे थे. मुंबई में बनी, मुंबई पे बनी, एक शुद्ध हिंदी (विशाल भारद्वाज की बदौलत) की फिल्म! [2.5/5]

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ur intellect is too shallow to understand this film..

      Delete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top