Baar Baar Dekho Movie Review|Bollymoviereviewz
Tuesday, September 13, 2016

Baar Baar Dekho Movie Review





Baar Baar Dekho Movie Review 

Baar Baar Dekho Movie Review
Average Ratings:2.5/5 
Score: 27% Positive
Reviews Counted:11
Positive:3
Neutral:2
Negative:6



Ratings:1.5/5 Review By:Rajeev Masand Site:News18
For a film about romance and love, Baar Baar Dekho is curiously lacking the messiness of real relationships, and trades in quick-fix solutions to complex personal issues. At 2 hours and 21 minutes it’s way too long, and never once succeeded in making me care if Jai and Diya would end up happily ever after.I’m going with one-and-a-half out of five. Baar Baar Dekho? No thanks, ek baar kaafi tha!
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Anupama Chopra Site:FilmCompanion
Baar Baar Dekho has been jointly produced by Excel Entertainment and Dharma Productions. The production houses are the high priests of a sub-genre I call posh people angst – basically stories about affluent, attractive people.But none of it is enough to sustain you through the length of this desperately flawed film. I’m going with two stars but keeping my faith in Nitya. That opening sequence holds promise of greater things.
Visit Site For More
Ratings:-- Review By:Komal Nahta Site:Zee ETC Bollywood Business
On the whole, Baar Baar Dekho is too confusing a film to be understood and enjoyed by the public. Despite hit music and a good-looking lead pair, the film will meet with a poor fate at the box-office. Its poor initial is another minus point.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Renuka Site:Times Of India
There are timeless love stories and then stories involving time travel. BBD belongs to the latter. Pleasant and fairly engaging but a tad tedious (like mathematics) to evoke a Baar Baar viewing. The foot-tapping kala chashma song in the end infuses that much required energy and zest into the film.
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By:Shubhra Gupta Site:IndianExpress
Maths genius Jay Varma (Sidharth Malhotra) has the gift of time travel, that miraculous thing which he can use to make things right between him and lady love Diya Kapoor (Katrina Kaif). What can go wrong with that most intriguing premise, even if we’ve seen similar stuff in About Time and The Time Traveller’s Wife? Quite a lot, actually, as it turns out: Baar Baar Dekho doesn’t have anything that can entice us into repeat viewings, let alone a single one, because the execution is flat and banal.
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Sarita Tanwar Site:DNA
The problem with Baar Baar Dekho is that the story is frustrating and inane. And despite the fact that Hindi movie audiences are known to accept the most bizarre plots (like Rab Ne Bana De Jodi where a woman can't recognize her husband without glass and a moustache), this one is just not believable. What causes the time travel? Is it the thread? The pandit? Is it all a dream? You will be left grappling with these questions till half the film is over. All that going in the future, then past, then future again before finally coming back to the present makes BBD a repetitive bore.
Visit Site For More
Ratings:4/5 Review By:Subhash Jha Site:NDTV
Debutant director Nitya Mehra's Baar Baar Dekho is unlike any romantic yarn - I hesitate from giving it that loosely-used term the 'rom-com'. It is the ultimate what-if saga, narrated with a tender care and subdued splendour that makes every moment between the lead pair precious and gladdening.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Khalid Mohammed  Site:SpotBoye
Technically BBD is top-grade, but the to use the corporate argo, the content is a mind-bender. Mehra’s direction is serviceable, concentrating largely on the star value of Sidharth Malhotra and Katrina Kaif. The question is: can they act or just look glam? With all its ups and downs, then, is this time piece worth a multiplex visit? For a one-time watch, sure go ahead. Baar baar? Absolutely NO way.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Surabhi  Site:Koimoi
The real problems in Mehra’s film starts with its wavering pace. While the film revolves around the concept of time travel, our clock seems to slow down as a viewer in the first half. Also, in general, the film’s long run time is slightly disappointing. Baar Baar Dekho is an ‘Ek Baar Dekho’ affair. A fresh pairing of good looking actors, good music and a commercial love story is the mainstay. I’ll go with a 2.5/5 for this romantic drama.
Visit Site For More
Ratings:-- Review By:Lokesh  Site:Masala
It will be my honour to be known not as Lokesh Dharmani, the movie reviewer. The one who called out the lack of depth in your film, the superficial treatment, the half-baked characters and a climax, one could see from a mile. I would rather be known as your grandfather…er …a pained viewer who spent 30 precious five dirhams on your movie. Your... dada…nana…actually no one. Just a viewer. And a reviewer.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Manjusha  Site:Gulfnews
The phase in which he’s an old, dejected soul looks terribly contrived. Even Kaif cannot pull off a fake grey wig and doesn’t age too well. Those phases are amateurish, but what keeps this love story afloat are the moments in which the couple try to work through their skewed work-life balance. It’s a problem that many modern-day couples face and the diatribe about ‘you don’t spend enough time with me’ hits close homeThis is no baar baar dekho, which means to watch again and again. Reserve this for a one-time watch.
Visit Site For More

Also Freaky Ali Review & Baar Baar Dekho Box Office

Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

Baar Baar Dekho Story:  

What would you do if you could see the future of your relationship? This film follows a roller coaster ride with Jai and Diya as they ride the ups and down of their relationship through the test of time.

Baar Baar Dekho Release Date:

Sep 9 2016

 Director:  Nitya Mehra

 Producer:    Karan Johar, Ritesh Sidhwani, Farhan Akhtar

Cast:
Sidharth Malhotra as Jai Varma
Katrina Kaif as Diya Varma
Sarika
Ram Kapoor

Run Time:  2 hours and 27 Minutes



To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office India Collection


Want to find Shahrukh Khan 's next movie see SRK Upcoming Movies

Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Baar Baar Dekho Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

19 comments:

  1. Baar Baar Dekho Movie Review-First Let me Tell You This Very Honestly That I am in No Mood OF Criticizing or Negative Review or On Cross Roads,This Movie is a Faluda of Hollywood Movie Click(2008),Family Man Movie (2000),TimeTravellers Wife(2009),So Without Revealing the Story ,It has a Unique Plot Plus Katrina & Siddharth's Interaction & Awesome Chemistry on the Screen Which is too good to watch ,Plus the Hidden Real Hero of The Movie is Songs Like Khre Mangdi Supremely Sung By Pakistani Singer Bilal Saeed, Plus Kala Chashma is Already on People's Lips ,Plus Sau Aaasmaan & nachde Saare ,Also Beautiful & Crystal Clear Cinematography By Ravi .K.Chandran, Which is a Pleasure to watch,Also Nitya K Mehra's Well Efforts in Direction,So Box Office Collection 60-70 Crore, Final Verdict-Plus,Overall Baar baar Dekho Ek Baar to Dekho Chalo Do baar Dekho ,Baar baar Dkehne kaa Time kiske Paas Hai

    ReplyDelete
  2. bakhwas movie. waste of money.

    ReplyDelete
  3. बार बार देखो:
    बच के रहना रे, बाबा! [1.5/5]

    जात-पात, उंच-नीच, अमीरी-गरीबी के जंजाल भरे देश में नायक-नायिका का मिल जाना, सबकी राजी-ख़ुशी के साथ शादी कर लेना और ‘जस्ट मैरिड’ की तख्ती वाली कार में बैठ कर हनीमून के लिए निकल जाना; फिल्म की कहानी को अंत करने का इससे अच्छा, सस्ता और टिकाऊ मौका हिंदी सिनेमा को आज तक नहीं मिला है, पर वो ज़माना और था. अब बात शादी पर ख़तम नहीं होती, शादी से शुरू होती है. शादी के बाद क्या? इस एक आशंका भरे सवाल से जूझते युवामन को जानने और टटोलने के लिए नित्या मेहरा की ‘बार बार देखो’ ‘टाइम-ट्रेवल’ जैसे विज्ञान गल्प का सहारा लेती है.

    भविष्य के दिन आज ही जीने को मिल जाएँ, तो गलतियां पहचानने और सुधारने की गुंजाईश बनी रहेगी. वक़्त रहते, टूटते रिश्ते बचाए जा सकते हैं. जिन्दगी जीने के तरीके बदले और बेहतर किये जा सकते हैं. फिल्म के अन्दर इस बात को बखूबी समझने-समझाने में भले ही खूब माथापच्ची करनी पड़ी हो, फिल्म देखने के बाद आप इस प्रयोग की महत्ता समझने में तनिक भूल नहीं करते. कितना अच्छा होता, अगर हम भी ‘बार बार देखो’ जैसी भुलावे और बहकावे भरी टाइटल वाली फिल्म देखने की अपनी गलती को सुधार पाते!

    दिया [कटरीना कैफ़] और जय [सिद्धार्थ मल्होत्रा] की किस्मत एक साथ ही लिखी हुई है. दोनों 8 साल की उम्र से साथ हैं. दिया की माँ ब्रिटिश हैं और पापा [राम कपूर] पंजाबी. पैदाईश के 4-5 साल बाद तक दिया लन्दन में ही रही थी. पिछले 20 सालों से वो भारत में हैं, पर हिंदी बोलने में आज भी उसको जिस तरह की मशक्कत करनी पड़ती है, फिल्म देखते वक़्त आप दुआ करने लगते हैं कि वो जितना कम बोले, सबकी भलाई के लिए अच्छा ही है. वैसे, भगवान् सबकी कहाँ सुनते हैं!! जय वैदिक गणित का प्रोफेसर है और कैंब्रिज यूनिवर्सिटी जाने के सपने देखता आ रहा है. दिया से अपनी शादी के ठीक एक दिन पहले जय शादी तोड़कर कैंब्रिज जाने का फैसला सुना देता है. इससे पहले कि कोई हो-हल्ला हो, जय शैम्पेन की बोतल गटक कर सो जाता है. अगली सुबह होती है थाईलैंड में, जहां उसका हनीमून चल रहा है. शादी हुए 10 दिन बीत चुके हैं. अगली सुबह उसे 2 साल और आगे ले जाती है, और उससे बाद वाली सुबह 12 साल आगे. जैसे कोई उसे उसकी ज़िन्दगी की हाइलाइट्स दिखा रहा हो. जय की शादी टूट रही है. जोड़-घटाने के हिसाब-किताब में उसने अपनी ज़िन्दगी, अपने परिवार की बहुत अनदेखी की, जिसे अब उसे ठीक करना है. पर कैसे?

    ‘बार बार देखो’ जिस ठंडे और उबाऊ तरीके से शादी और कैरियर के बीच झूलती ज़िन्दगी को दिखाने और दिखा कर डराने की कोशिश करती है, आप सिनेमाहाल में बोरियत भरे माहौल में गहरे धंसते चले जाते हैं. गर्लफ्रेंड शादी को ही सब कुछ मानती है, और लड़का कैरियर को. दोनों की अपनी-अपनी धुरी पर जम के खड़े रहने की मानो सज़ा मिली हो. कोई अपनी जगह से हिलने को तैयार नहीं. फिल्म भले ही भविष्य के चक्कर लगा आती हो, पर मेच्योरिटी के नाम पर कोई उम्मीद दिखाई नहीं देती. यहाँ शादी का टूटना आसमान टूट पड़ने से कम नहीं आँका जाता. हालाँकि रोमांटिक फिल्मों को ‘स्मार्ट’ होने का दावा पेश करना हर वक़्त जरूरी नहीं होता, पर जब कहानी में ‘टाइम ट्रेवल’ का तड़का लगा हो तो क्लाइमेक्स का अंदाजा इंटरवल के आस-पास से ही लगने लग जाना अपने आप ही स्क्रिप्ट की कमजोरी बयान कर देता है.

    फिल्म अपने कुछ बेहद खूबसूरत चेहरों और कैमरावर्क [रवि के चंद्रन] की मदद से बहुत हद तक कोशिश करती है कि आपको अपने ‘बनावटी’ जादू में उलझाए रखे, पर फिल्म के सतही इमोशंस आपके आस-पास तक भी पहुँचने का दमखम नहीं जता पाते. सिद्धार्थ पूरी फिल्म में एक ही भाव अपने चेहरे पर ढोते नज़र आते हैं. ‘आज’ को ‘आंज’ और ‘कल’ को ‘कंल’ बोलने के अलावा कटरीना के लिए अगर इस फिल्म में कुछ रोमांचक रहा है करने को, तो वो है उनका सफ़ेद बालों की लटों वाला अधेड़ लुक. वरना तो हैरत होती है, अभी तक कटरीना के लिए परदे पर ‘सबटाइटल्स’ देने का चलन क्यूँ नहीं इस्तेमाल में लाया गया? सह-कलाकारों में सयानी गुप्ता और सारिका अपनी सटीक भूमिकाओं में और देखे जाने की ललक छोड़ जाती हैं.

    आखिर में; ‘बार बार देखो’ के साथ तीन-तीन बड़े फिल्म प्रोडक्शन हाउसेस [इरोस, धर्मा और एक्सेल] का जुड़ा होना कहीं न कहीं आपको घोर निराशा की ओर धकेलने लगता है. एक ऐसी फिल्म जिसमें देखने के नाम पर सिर्फ कुछ गिनती के पल हों [ज्यादातर गाने] और बोरियत इतनी कि आप के लिए एक बार ही पूरा बैठ पाना किसी जंग से कम न हो, उसका नाम ‘बार बार देखो’ रख देना ही क्या काफी है? [1.5/5]

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bhaisaab English mein kijiye na

      Delete
    2. Hey Gaurav Rai. Would appreciate it if you could post both an English and Hindi version of ur reviews. Would be helpful for those who can't read Hindi. I think ur reviews are on point but off late I've been missing out on them due to the language. And I couldn't find ur Freaky Ali movie review? Thanks.

      Delete
    3. अच्छा काम जारी है गौरव जी। धन्यवाद एक और सटीक रिव्यू के लिए। आप अपना खुद का ब्लॉग शुरू क्यों नहीं कर रहे। हमें बताइये, हम सबको ख़ुशी होगी आपके ब्लॉग को ज्वाइन करने में। जहां तक इस कटोरा फिल्म की बात है, जिस फिल्म के गाने तक उठाए हुए हो, उसमें मौलिकता ढूँढना बेकार है और जहां नाम कर्ण जौहर हो, वहाँ गुणवत्ता की उम्मीद करना बेमानी है। इस बन्दे ने आज तक एक फिल्म ऐसी नहीं बनाई जिसे शुरू से अंत तक एक किश्त में मैं देख सकूं। ताज्जुब होता है इन लोगों को के आगे कद्दावर लिखा हुआ देख कर। और मुझे समझ नहिज आता की क्यों इंडस्ट्री से जुड़े तमाम लोग कटरीना की ' मेहनत' की कसमें खाते नहीं थकते। 10 साल से ऊपर हो चुके कटरीना को फिल्मों में आए, अभी तक भी हिंदी का बोल पाना मुझे तो कुछ और ही बताता है। फ्रांस की अत्यंत उम्दा अभिनेत्री मरीआन कोटिलार्ड से क्यों नहीं सीखते ये लोग। जब वो अमेरिका में अपना करियर तलाशने के लिए वहाँ पहुंची थीं तो उन्हें अंग्रेज़ी का अ तक नहीं आता था, तमाम फिल्में अंग्रेजी में सुलभता न होने की वजह से उनके हाथ से निकली थीं लेकिन उन्होंने साथ नहीं छोड़ा और आज देखो..कोई बताएगा नहीं तो कोई बात नहीं सकता कि उन्होंने 22 वर्ष से ऊपर की हो जाने के बाद अंग्रेजी पढ़नी शुरू की थी। यही बात बहार से हिंदुस्तान में निर्यात अंग्रेजी अभिनेत्रियों पर लागू होती है, आखिर और कितना समय लगेगा अपनी हिंदी को ' बर्दाश्त के काबिल' बनाने में। ये बाहर होती तो 6 महीने भी नहीं टिक पाती हॉलीवुड में। और एक हम हैं, आने वाली फिल्म शिवाय में जो पोलिश मॉडल लीड में है, उसे गेम ऑफ़ थ्रोन्स में आने एक्सेंट की वजह से ऑडिशन से बाहर कर दिया गया था और एक हमे, हमने तो उसे हिंदी जगत की बड़ी फिल्म में हीरोइन बना डाला। 😂😂😂

      Delete
  4. Sorry...in practical life it is impossible...indian audience cant take it seriously...1/5..plus point only its music..

    ReplyDelete
  5. Sorry...in practical life it is impossible...indian audience cant take it seriously...1/5..plus point only its music..

    ReplyDelete
  6. Gaurav rai your reviews r worse day by day..i didn't think that u will give 1.5*..the movie was good..and story was quite different..and y did u gave 3* for sultan and the story was quite same as brothers

    ReplyDelete
  7. Shubhra Gupta needs to stop reviewing movies! she never gives any movie more than 1.5 stars! Why does she even bother watching hindi movies?

    ReplyDelete
  8. Dear Gaurav
    Please post your review in English

    Thank u

    ReplyDelete
  9. Completely agree with Gaurav Rai... Your review matches with my mine. Thanks for your review. Keep posting

    ReplyDelete
  10. agree with "truthspoken". Its a good one time watch. good chemistry between couple. Music is biggest plus point. and greatest lesson of all-enjoy the present.

    ReplyDelete
  11. Baar baar dekho ????kyu dekho baar baar jabki ye to ek baar b dekhnay layakk movie nhi he .freaky ali issay 100 time better movie he.KATRINA ki 3rd class dilogue delivery or without expresson ki acting se better he NAWAZUDDIN ki top performance.go and watch it.

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top