Blackmail Movie Review |Bollymoviereviewz
Wednesday, April 11, 2018

Blackmail Movie Review

Blackmail Hindi Movie Review 


Average Ratings:3.33/5
Score:86% Positive
Reviews Counted:9
Positive:6
Neutral:2
Negative:1


Ratings:3/5 Review By:Rajeev Masand Site:News18
It’s the film’s unique brand of humor – some of it pitch black and Coen-esque – that makes Blackmail worth your time, despite its shortcomings. Be warned that it’s too long by at least 20 minutes, and requires patience. But give it a chance. A lot of it flies.I’m going with three out of five.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Anupama Chopra Site:Filmcompanion
The story gets repetitive as one blackmail plays over another and soon enough, the energy deflates. Blackmail is about controlled chaos but to pull that off, you need much sharper writing and a faster pace. Blackmail is twenty minutes too long and unnecessarily bloated. At one point, Urmila Matondkar shows up in a nightclub. It’s nice to see her on screen again but it adds little to the film. I also wish the talented Kirti Kulhari had more to do. Abhinay clearly has a keen eye for the darkness and absurdity of daily life but Blackmail isn’t sparkling enough to sustain interest.
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Shubhra Site:Indian Express
Wrong. Blackmail begins promisingly but descends pretty quickly into flatness and sluggishness, a classic problem of not knowing quite how to play out a perky idea: a cuckold’s plan to extract revenge gets taken over by the old saying about mice and men, and, in this instance, women.A couple of surprises do leap out at us, especially featuring Gokhale and Irrfan, she throwing off her nice girl garb, revealing her claws, and he backing off, and maneuvering. The rest of it, even in the blessedly quicker second half, is tiresome.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Saibal Site:NDTV
Feckless men on the back foot, wily and strong-willed women with transgressive tricks up their sleeves and a set of nondescript lives hurtling towards hell in an irreversible tailspin: Blackmail has them all. Sadly, in the end, they do not add up neatly enough to yield a genuine cinematic corker.
Visit Site For More
Ratings:4/5 Review By:Taran Adarsh Site:Twitter
Expect the unexpected... Twist after twist... Blackmail after blackmail... #Blackमेल charters an unexplored path and draws you into the world of adultery, deceit, double crossing and betrayal... Smart writing... Superb execution by #DelhiBelly director Abhinay Deo...One of those brave attempts that defy the stereotypes... Also, one of the best wild-wacky-quirky comedies to come out of the Hindi film industry... Strongly recommended!
Visit Site For More
Ratings:4/5 Review By:Rachit Site:Times Of India
The plot of Blackmail is its hero and it manages to strike a good balance between dark and funny. Characters are bumped off, sometimes in most gory detail and strange events unfold, but the film never loses its vein of easy, black humour. This is one of the most wickedly funny films that we’ve seen in a long time.
Visit Site For More
Ratings:4/5 Review By:Meena Site:DNA
Of course, do not take the film's message to heart. The movie simply recommends that when you discover that everyday situations are threatening to defeat you – like your wife having an affair or a bank harrowing you for EMIs -- just resort to pure, simple blackmail. Now, this should not be followed in real life, but in the film this works because the context is bang on. And it is done with more humour than bad intent.
Visit Site For More
Ratings:4/5 Review By:Hungama Site:Bollywood Hungama
On the whole, BLACKMAIL is quite an unconventional entertainer and a good black comedy. It may not have a pan India appeal but the target multiplex audience are sure to enjoy this flick. The costs of this film are reasonable and as a result, it’ll turn out to be a profitable venture for its producers.
Visit Site For More
Ratings:4/5 Review By:IANS Site:Economic Times
"Blackmail" is a virgin territory in the comedy genre. It is heady and hedonistic, cocky and compelling in the way the comedies of Hrishikesh Mukherjee and Basu Chatterjee used to be. If only these veterans could see the sexiness that underlines all gender wars. "Blackmail" is a closeted Hrishikesh Mukherjee comedy with oodles of extra voluptuousness.
Visit Site For More


Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

Blackmail Story:  

A man secretly blackmails his wife and her lover when he discovers the affair.Dev (Irrfan) is a toilet paper salesman. One evening he decides to spice up his otherwise mundane life and passionless marriage, by going home early from work with a bunch of roses for his wife. It turns out, that his wife is in bed with another man. This shocking revelation leads to a series of events which are both funny and outrageous.

Blackmail  Release Date:

April 5, 2018 ( India)

 Director: Abhinay Deo

Producer:  Bhushan Kumar, Krishan Kumar
 
Cast:
Irrfan Khan as Dev Kaushal
Kirti Kulhari as Reena Kaushal
Divya Dutta as Dolly Verma
Arunoday Singh as Ranjit Arora
Omi Vaidya as Boss DK
Anuja Sathe as Prabha Ghatpandey

Run Time:  2 hour 24 Minutes


Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Blackmail Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

7 comments:

  1. Abe director Abhinay deo hai

    ReplyDelete
  2. ब्लैकमेल:
    ब्लैक कॉमेडी या ब्लैक ट्रेजेडी! [1.5/5]

    “एक पति अपनी बीवी को सरप्राइज करने के लिए जल्दी घर पहुँच जाता है. बेडरूम में क्या देखता है कि उसकी पत्नी किसी और आदमी के साथ बिस्तर पे सो रही है. उसके बाद पता है, पति क्या करता है?”.... “पति उस आदमी को ब्लैकमेल करने लगता है”. अभिनय देव की ‘ब्लैकमेल’ में फिल्म का ये मजेदार प्लॉट गिन के तीन बार अलग-अलग मौकों पर सुनाया जाता है. फिल्म की शुरुआत में पहली बार जब नायक खुद इसे ज़ोक के तौर पर सुनाता है, उसके दोस्त को जानने में तनिक देर नहीं लगती कि वो अपनी ही बात कर रहा है. ‘ट्रेजेडी में कॉमेडी’ की एक अच्छी पहल, एक अच्छी उम्मीद यहाँ तक तो साफ दिखाई दे रही है, पर अंत तक आते-आते फिल्म का यही प्लॉट जब पूरी संजीदगी के साथ बयान के तौर पर पुलिस के सामने रखा जाता है, वर्दी वाला साहब बिफर पड़ता है, “क्या बी-ग्रेड फिल्म की कहानी सुना रहा है?” एक मुस्तैद दर्शक होने के नाते, आपका भी रुख और रवैय्या अब फिल्म को लेकर ऐसा ही कुछ बनने लगा है.

    देव (इरफ़ान खान) की शादीशुदा जिंदगी परफेक्ट नहीं है. ऑफिस में देर रात तक रुक कर वक़्त काटता है, और फिर घर जाने से पहले किसी भी डेस्क से किसी भी लड़की की फोटो लेकर चुपचाप ऑफिस के बाथरूम में घुस जाता है. एक रात सरप्राइज देने के चक्कर में जब उसे पता चलता है कि उसकी बीवी रीना (कीर्ति कुल्हारी) का किसी अमीर आदमी रंजीत (अरुणोदय सिंह) से चक्कर चल रहा है, वो अपनी मुश्किलें मिटाने के लिए उसे ब्लैकमेल करने का प्लान बनाता है. आसान लगने वाला ये प्लान तब और पेचीदा हो जाता है, जब सब अपनी-अपनी जान बचाने और पैसों के लिए एक-दूसरे को ही ब्लैकमेल करने लगते हैं. पति प्रेमी को, प्रेमी पत्नी को, पत्नी पति को, पति के साथ काम करने वाली एक राजदार पति को, यहाँ तक कि एक डिटेक्टिव भी.

    ब्लैक कॉमेडी बता कर खुद को पेश करने वाली ‘ब्लैकमेल’ एक उबाऊ चक्करघिन्नी से कम नहीं लगती. कुछ ऐसे जैसे आपकी कार इंडिया गेट के गोल-गोल चक्कर काट रही है, और बाहर निकलने वाला सही ‘कट’ आपको मिल ही नहीं रहा. वरना जिस फिल्म में इरफ़ान खान जैसा समझदार, काबिल और खूबसूरत अदाकार फिल्म की हर कमी को अपने कंधे पर उठा कर दौड़ पूरी करने का माद्दा रखता हो, वहां अज़ब और अजीब किरदारों और कहानी में ढेर सारे बेवजह के घुमावदार मोड़ों की जरूरत ही क्या बचती है? ‘ब्लैकमेल’ एक चालाक फिल्म होने के बजाय, तिकड़मी होना ज्यादा पसंद करती है. इसीलिए टॉयलेट पेपर बनाने वाली कंपनी के मालिक के किरदार में ओमी वैद्य अपने वाहियात और उजड्ड प्रयोगों से आपको बोर करने के लिए बार-बार फिल्म की अच्छी-भली कहानी में सेंध लगाने आ जाते हैं. देव के दोस्त के किरदार में प्रद्युमन सिंह मल्ल तो इतनी झुंझलाहट पैदा करते हैं कि एक वक़्त के बाद उन्हें देखने तक का मन नहीं करता. यकीन ही नहीं होता, ‘तेरे बिन लादेन’ में इसी कलाकार ने कभी हँसते-हँसते लोटपोट भी किया था. शराब में डूबी दिव्या दत्ता और प्राइवेट डिटेक्टिव की भूमिका में गजराज राव थोड़े ठीक लगते हैं.

    ‘ब्लैकमेल’ अभिनय देव की अपनी ही फिल्म ‘डेल्ही बेली’ जैसा दिखने, लगने और बनने की कोशिश भर में ही दम तोड़ देती है. ब्लैक कॉमेडी के नाम पर एडल्ट लगना या एडल्ट लगने को ही ब्लैक कॉमेडी बना कर पेश करने में ‘ब्लैकमेल’ उलझी रहती है. देव अपनी पहचान छुपाने के लिए जब एक पेपर बैग का सहारा लेता है, ब्रांड एक लड़कियों के अंडरगारमेंट का है. नाकारा रंजीत जब भी अपने अमीर ससुर के सामने हाथ बांधे खड़ा होता है, डाइनिंग टेबल पर बैठी उसकी सास कभी संतरे छिल रही होती है, तो कभी अंडे. इशारा रंजीत के (?) की तरफ है. हालाँकि कुछेक दृश्य इनसे अलग और बेहतर भी हैं, जैसे फ्रिज में रखी लाश के सामने बैठ कर फ़ोन पर उसकी सलामती के बारे में बात करना, पर गिनती में बेहद कम.

    आखिर में, अभिनय देव ‘ब्लैकमेल’ के जरिये एक ऐसी सुस्त और थकाऊ फिल्म सामने रखते हैं, जहां अतरंगी किरदारों को बेवजह फिल्म की सीधी-सपाट कहानी में शामिल किया जाता है, और फिर बड़ी सहूलियत से फिल्म से गंदगी की तरह उन्हें साफ़ करने के लिए एक के बाद एक खून-खराबे के जरिये हटा दिया जाता है. बेहतर होता, अगर फिल्म अपने मुख्य कलाकार इरफ़ान खान की अभिनय क्षमता पर ज्यादा भरोसा दिखा पाती! सैफ अली खान की भूमिका वाली ‘कालाकांडी’ अपनी कहानी में इससे कहीं बेहतर फिल्म कही जा सकती है, जबकि उसे भी यादगार फिल्म मान लेने की भूल कतई नहीं करनी चाहिए. [1.5/5]

    ReplyDelete
    Replies
    1. You wrote whole movie
      Thanks

      Delete
    2. @gaurav rai - I user to skip all the reviews and directly scroll down to read your review before. But lately you've actuality lost it. You used to consider the entertainment quotient, genre and the intention with which the film is Made.But now i suppose you want every Bollywood movie to be a art house movie.
      Recently you bashed Sonu ki tweety ki sweety but the movie was a good masala entertainer. Happened with a lot of recent movies.
      Just a honest feedback from a follower
      PS - Do start writhing in English too

      Delete
  3. If you want more beautiful movies from bollywood you have to support movies like #Blackmail
    Must watch 4*

    ReplyDelete
  4. worst critic ever gaurav rai salman k jagah ise band kar do jodhpur jail me ya to phir bas bhojpuri ka hi review kiya kar

    ReplyDelete
  5. gaurav rai has lost his touch now a days. he thinks critic means criticising every film. movie was above average, not this much bad, which u told.

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top