Fukrey Returns Review|Bollymoviereviewz
Wednesday, December 13, 2017

Fukrey Returns Review

Fukrey Returns Movie Review 

Fukrey Returns Movie Review
Average Ratings: 2.37/5
Score: 37% Positive
Reviews Counted:8
Positive:3
Neutral:0
Negative:5






Ratings:2/5 Review By:Anupama Chopra Site:Filmcompanion
About an hour into Fukrey Returns, Hunny, one of the four fukreys, solemnly declares – sabhi cheezen samajh aayen, yeh zaroori toh nahin. I felt like he was direct messaging me. Because honestly, I just didn’t get this film. And I don’t mean that I missed the sub-text or any over-arching philosophy. I actually couldn’t follow the plot. Fukrey Returns feels like a few good characters in search of a story. Actors Varun Sharma and Pankaj Tripathi get a few laugh out loud moments, but that apart, this sequel is foolish and exhausting.  
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Saibal Site:NDTV
Fukrey Returns comes nowhere near being the rip-roaring ride that the 2013 sleeper hit Fukrey, at least in parts, was. Director Mrighdeep Singh Lamba and co-writer Vipul Vig, juggling with elements that have clearly lost their sheen, fail to rustle up anything that could be described as refreshing. The fact that the screenplay does not accord balanced treatment to the oddball characters that pumped life into the first film does not help matters either.  
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Meena Site:DNA
Fukrey Returns is a fun ride. Part one of this franchise, which released in 2013 had smarter writing and offered a fresher perspective on this bunch of blundering idiots, who depended on Choocha's premonition skills to help them navigate through their kadki(financial crunch). This part too does have some sharp wit and crackling dialogue. Only the pace is not balanced. So even at two hours, twenty minutes it sometimes feel stretched. 
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Reza Site:Times Of India
To watch 'Fukrey Returns', you don't necessarily have to watch the first part, because the director clearly explains the entire story in the opening credits. However, it's a fun film which we recommend you watch. So is this one. In fact it is funnier than the first part. That familiar craziness you've seen in the characters is not just back; it has doubled, in fact.  
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By:Rohit Site:Hindustan Times
It’s mostly a rehash of Fukrey. Ironically, the parts which are introduced in the new film work better. For example, the guy who dives in Yamuna for money gets immediately noticed. Unfortunately, such plots don’t get much play. The bromance between Honey and Chu Cha works initially and then turns out to be an irritating ritual. Between Fukrey and Fukrey Returns, Pulkit Samrat and his friends have lost their innocence and have become really dim-witted. Fukrey Returns is a tedious 141-minute watch which is unfunny, unintelligent and repetitive.  
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By:Shubhra Site:Indian Express
If not madly original, it could have been some amount of fun, and you can see it in tiny bits when Chaddha and Tripathi are vamping it up. But it starts to pall right from the start. And the crassness begins to get tiresome: bare butts are bitten by snakes, a guy peeing is both seen and heard, and everyone roams around, for some inexplicable reason, in the Delhi zoo, without a clue as to what to they are doing.  
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Hungama Site:BollywoodHungama
On the whole, FUKREY RETURNS is a fun, clean film that works despite the illogical and slightly unconvincing plot. With no other significant Hindi movie in theatres around, FUKREY RETURNS definitely has a chance of excelling at the box office.  
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Umesh Site:Koimoi
Continuous dosage of hilarious moments, Varun Sharma’s beefed up version of Choocha, Vipul Vig’s street style writing (Which is a major reason for this sequel to exist). Fukrey Returns is one super-entertaining movie. Retaining the magic of the first part, this easily is one of the best comedies of the year. Tiger also plays an important role in the film so yeh Tiger Zinda Hai jab tak aa jaaye Tiger Zinda Hai. Three and half stars! 
Visit Site For More



Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

Fukrey Returns Story:  

In 1920 during India's freedom movement, one man firmly believes the British are not as bad as everyone believes.

Fukrey Returns Release Date:

Dec 1, 2017 ( India)

 Director: Mrighdeep Singh Lamba

Producer: Farhan Akhtar, Ritesh Sidhwani

Cast:
Pulkit Samrat
Manjot Singh
Ali Fazal
Varun Sharma
Priya Anand
Richa Chadha

Run Time:  2 hours and 41 Minutes


Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Fukrey Returns Review
  • Comments
  • Facebook Comments

8 comments:

  1. फ़ुकरे रिटर्न्स:
    व्हाट द फ़* रे! [1.5/5]

    4 साल बहुत होते हैं बनने-बिगड़ने के लिए. 2013 में मृगदीप सिंह लाम्बा की 'फुकरे' ने दिल्ली के ख़ालिस लापरवाह लौंडों, उनकी छोटी-छोटी तिकड़मों और उनके बेबाक 'दिल्ली-पने' से आपको खूब गुदगुदाया होगा, तब उंगलियाँ नर्म थीं उनकी, चेहरे मासूम और कोशिशें ईमानदार. 4 साल बाद, 'फुकरे रिटर्न्स' में गुदगुदाने की कोशिश करने वाली वही उंगलियाँ अब चुभने लगी हैं. कोशिशें औंधें मुंह गिर पड़ती हैं और फिल्म में मासूमियत की जगह अब भौंडेपन ने ले ली है. नंगे पिछवाड़ों पर सांप डंस रहे हैं, और किरदार चूस-चूस कर उनका ज़हर निकाल रहे हैं. ऐसे दृश्य 'ग्रेट ग्रैंड मस्ती' जैसों में तो बड़ी बेशर्मी से फिट हो ही जाते हैं, यहाँ क्या कर रहे हैं? समझ से परे है. गनीमत की बात सिर्फ इतनी है कि चूचा (वरुण शर्मा) तनिक भी बड़ा नहीं हुआ, और तब पंडित जी का छोटा सा किरदार करने वाले, पंकज त्रिपाठी की पहचान कलाकार के तौर पर अब अच्छी खासी बड़ी हो गयी है. इन दोनों के ही भरोसे फिल्म जितनी भी देर झेली जा सकती है, झेली जाती है.

    बेईमान मंत्री बाबूलाल (राजीव गुप्ता) की मदद से भोली पंजाबन (रिचा चड्ढा) जेल से बाहर आ गयी है, और अब फुकरों की टोली से अपनी आज़ादी के लिए खर्च किये पैसों की भरपाई उनसे चाहती है. प्लान वही है, चूचा सपने देखेगा और हन्नी (पुलकित सम्राट) उसके सपने से लॉटरी का नंबर निकालेगा. ज़फर (अली फज़ल) और लाली (मनजोत सिंह) भी रहेंगे, पर क्यों? न कहानी में इसकी कोई बहुत ख़ास वजह मिलती है, ना ही फिल्म में. बहरहाल, प्लान फेल हो जाता है, ठीक वैसे ही जैसे फिल्म के बहुत सारे दोहराव वाले जोक्स. खैर, मदद को इस बार चूचे का एक नया टैलेंट सामने आता है. उसे भविष्य दिखाई देने लगा है. एक गुफ़ा, एक टाइगर, उसका बच्चा, दो राक्षस और एक गुप्त खज़ाना.

    जहाँ अपनी पहली फिल्म में, मृगदीप कहानी में हास्य पिरोने का सफल प्रयोग करते हुए दिखाई दिये थे, 'फुकरे रिटर्न्स' में हास्य के अन्दर कहानी डालने की नाकाम कोशिशें करते हैं, और लगातार करते रहते हैं. बीफ़ बैन, इंडिया गेट पर योग करते राजनेता, जानवरों और अंगों की तस्करी जैसे मुद्दों का भी इस्तेमाल करते हैं, पर आखिर में एक काबिल और भरोसेमंद कहानी का अभाव इन सारी कोशिशों को मटियामेट कर देता है. इस बात का अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि फिल्म के सबसे मनोरंजक दृश्यों में ज्यादातर फिल्म के सह-कलाकारों के हिस्से आये दृश्य ही शामिल हैं. यमुना नदी के काले गंदे पानी में डुबकी मार कर सिक्के बटोरने वाला आदमी हो, या भोली पंजाबन के बेरोजगार, लाचार, हिंदी बोलने वाले अफ़्रीकी गुर्गे. इनकी संगत और रंगत में आपको ज्यादा मज़ा आता है.

    अली फज़ल को फिल्म में यूँ खर्च होते देखना खलता है. पूरी फिल्म में वो जैसे 'फुकरे' करने का खामियाज़ा भुगत रहे हों. फिल्म की पटकथा मनजोत के साथ भी ऐसी ही कुछ नाइंसाफी बरतती है. पुलकित सम्राट अपनी पिछली कुछ फिल्मों से बेहतर नज़र आते हैं. मुंहफट, लड़ाकू, खूंखार भोली पंजाबन की भूमिका में रिचा चड्ढा इस बार थोड़ी कमज़ोर दिखती हैं. ऐसा इसलिए भी मुमकिन है क्योंकि फिल्म उनके किरदार से कॉमेडी की उम्मीदें लगा बैठती है. आखिर में, बच-बचा के वरुण शर्मा और पंकज त्रिपाठी ही रह जाते हैं. पंकज अपनी चिर-परिचित भाव-भंगिमाओं से ही दर्शकों के चेहरे पर मुस्कान ले आते हैं, ऊपर से हर संवाद के बाद उनका एक 'फाइनल कमेंट'. इस एक अदाकार को आप घंटों एकटक देख सकते हैं, और बोर नहीं होंगे. वरुण के अभिनय की मासूमियत भी कुछ ऐसी ही है, लेकिन उनका अपने आप को बार-बार दोहराना थोड़ा निराश करता है. वरना तो 'फुकरे रिटर्न्स' के असली फुकरे वही हैं.

    अंत में; लाम्बा ने यमुना पार की तंग गलियों से लेकर गुडगाँव की रेव पार्टियों तक का जिक्र और इत्र जिस चालाकी से 'फुकरे' में पेश किया था, 'फुकरे रिटर्न्स' सतही तौर ही दिल्ली को फिल्म में ढाल पाती है. गौर करने वाली एक नयी बात सिर्फ इतनी सी है कि दिल्ली का मुख्यमंत्री 'स्कैम'-विरोधी है, पैंट-शर्ट पहनता है और सिर्फ एक फ़ोन पर किसी से भी मिल सकता है. काश, फिल्म थोड़ी और दिल्ली की हो पाती, और अपने आपको कम दोहराती! [1.5/5]

    ReplyDelete
    Replies
    1. Glad that you are back. We've been missing ur reviews. It became tough in deciding whether to go for particular movie or not.

      Delete
  2. Fukrey returns running riots in theatres.super hit.no one cares about so called critics giving stars.60 crore for sure.people loved it.

    ReplyDelete
  3. India ke logoo ki mati bhrast ho chuki hai aisi movie dekhne jarahe hai

    ReplyDelete
  4. Iss saal ki bollyoood movies pichle do saal se acchi nahi thi hope ki next year movies acche ho

    ReplyDelete
  5. south indian movies hindi mein dubbed youtube par dekho maximum view count ke hisaab se fir pata chalega movies kisey kehte hai ,

    ReplyDelete
  6. Watched movie today, full of laughter , I wonder why crits has given low rating , from my side 4 star, super hit. Padmavati not releasing in December, so it will get benefit of that also

    ReplyDelete
  7. Superb movie watch and i love the character chucha.visit to watch the movie

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top