Simran Movie Review |Bollymoviereviewz
Sunday, September 17, 2017

Simran Movie Review

Simran Hindi Movie Review 

Simran  Movie Review Average Ratings: 2.85/5
Score: 77% Positive
Reviews Counted:11
Positive:7
Neutral:2
Negative:2





Ratings:2/5 Review By:Taran Adarsh Site:Twitter
#OneWordReview... #Simran: Disappointing. Kangna is in terrific form in #Simran, but that's about it... First half engrossing... Post-interval portions illogical, a complete downer.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Rajeev Masand Site:News18
Hansal Mehta’s cleverly titled new film Simran, starring Kangana Ranaut, has that rarest of things that’s practically gone missing from the movies lately – a compelling story at its core. Inspired by true events, the film is a fascinating account of an NRI woman who comes undone by her addiction to gambling. It’s an interesting premise, and the film delivers despite glaring contrivances. Mehta keeps the pace going, and delivers some terrific moments that’ll make you smile. I’m going with three out of five for Simran.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Anupama Chopra Site:Filmcompanion
Simran is a brilliant performance trapped in a sloppy screenplay - ironical given the headline-hogging, fall-out between writer Apurva Asrani and Kangana Ranaut over writing credits. Actually, the writing is the weakest part of the film.The second half of Simran veers between silly and tedious. Director Hansal Mehta is attempting here to create a new type of Hindi film heroine but he isn’t able to build a sustained interest. Which is a real shame because a character like Praf is rare. There is such a refreshing rebelliousness about her.
Visit Site For More
Ratings:-- Review By:Komal Nahta Site:Zee ETC Bollywood Business
On the whole, Simran is a poor show and will be rejected by the majority. A tiny section of the class audience in the high-end multiplexes of the big cities would find the film interesting because it is so different from the usual Hindi films, but that would not bring the numbers.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Hungama Site:Bollywood Hungama
SIMRAN has a decent beginning. The first 10-15 minutes are spent in character introductions and also the Las Vegas sequence and it makes for a nice watch. But as soon as Simran turns into a habitual gambler, the film falls and never goes up again. There’s no logic to her actions and it gets bewildering after a point as to what’s going on in the film.On the whole, SIMRAN is a movie which can be easily skipped without any regrets. At the box office, it will turn out to be an average fare. Watch it only if you are a Kangana Ranaut fan.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Shubhra Site:Indian Express
But the plot gets into a loop, and her slide into another avatar — the gambler and thief– becomes tiresome. Kangana keeps us watching, though. With her plain varnished face, she comes across as a real, solid, complex woman, someone you can reach out and touch. When she’s on the top of her game, she’s glorious. Pity the storyline let’s her down.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Meena Iyer Site:TOI
Frankly, you can't emotionally invest in Simran or root for her as much as you might want to. But when you watch the film, you will find yourself warming up to her occasionally, because she's all you've got. Let's give Kangana her due.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Mohar Basu Site:Mid Day
The first half of the movie casts a spell as you travel with Praful on her misadventures. In the second half, Mehta falls for the usual traps. But there's more reason to celebrate Simran than diss it. The quirky perspective at finding laughs in troubled times is a refreshing way of viewing problems. And then there's Kangana, making badass look simple, human and so full of heart. . 
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Raja Sen Site:NDTV
Ranaut and a few clever lines keep the film watchable, until the third act where the script sadistically starts piling misfortune on the character to ratchet up the dramatic tension. This is a bad move, leading to a prolonged climactic chase sequence featuring a leading lady who - we were told near the start of the film - is a poor driver. The last half hour has cringeworthy pacing and feels more mean-spirited than the rest of the film for no good reason. Perhaps we are only allowed one spectacular bank robbery film set in the city of Atlanta in one year.. 
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Anita Site:Khaleej
Hansal Mehta, known for his critically acclaimed films like 'Shahid' and 'Citylights' handles the subject with care and doesn't glorify the character. Although we know that the character she portrays is flawed and isn't heroic, you can't help but be her cheerleader.Overall, 'Simran' is an honest film made with a true heart and totally recommended to watch this weekend. The last scene will leave a smile on your face as you leave the theatres.. 
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Manjusha Site:Gulfnews
But the movie suffers from over-crowding of genres. There’s humour, there’s tragedy, there’s violence and there’s drama, but it may not always come together as a whole.Just like its grey heroine, the film is studded with hits and misses. Reserve this for a one-time watch as it’s incredible to see Ranaut play a self-destructive rebel. But if you are looking for a cohesive cinematic piece, then you are looking at the wrong film. 
Visit Site For More


Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

Simran Story:  

A Gujarati housekeeping lady in the US allows ambition to get the better of her & gets involved in a world of crime. Simran is a racy, fun film with Kangana Ranaut playing the titular role.

Simran Release Date:

Sep 15, 2017 ( India)

 Director: Hansal Mehta

Producer: Bhushan Kumar, Krishan Kumar, Shailesh R Singh, Amit Agarwal

Cast:
Kangana Ranaut
Soham Shah
Esha Tewari Pande
Aneesha Joshi

Run Time:  2 hours and 4 Minutes


Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Simran  Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

8 comments:

  1. Amazing and amazing movie and kangana is the best coming out of it. 4.5/5 is perfect for simran

    ReplyDelete
  2. A Movie Buff Experiene :

    Simran ,The Movie name which only give meaning in the third act of the Film.The Movie is divided into three acts .. First Act is about a free spirited Kangana Second act is about an Addicted Kangana Third act is about Bank Robber Kangana.So the Film totally rely and has only Kangana to take film on its shoulder.And Let me tell you she is in full form as Praful Patel aka Praf.You Will be in love at times and fell bad for where she is Moving towards and that a Good News as once you keep audience feel for a character half the battle is won.It could have been another Queen but the third act makes it a bit boring.But all said all done Kangana has once again proved She can pull off any act alone.
    My Rating 3.5 / 5 Totally Watchable

    ReplyDelete
  3. A Movie Buff Experiene :

    Simran ,The Movie name which only give meaning in the third act of the Film.The Movie is divided into three acts .. First Act is about a free spirited Kangana Second act is about an Addicted Kangana Third act is about Bank Robber Kangana.So the Film totally rely and has only Kangana to take film on its shoulder.And Let me tell you she is in full form as Praful Patel aka Praf.You Will be in love at times and fell bad for where she is Moving towards and that a Good News as once you keep audience feel for a character half the battle is won.It could have been another Queen but the third act makes it a bit boring.But all said all done Kangana has once again proved She can pull off any act alone.
    My Rating 3.5 / 5 Totally Watchable

    ReplyDelete
  4. सिमरन:
    ए-ग्रेड कंगना, बी-ग्रेड क्राइम-कॉमेडी! [2/5]

    आज़ाद ख़याल लड़कियां, जिन्हें अपनी ख़ामियों पर मातम मनाना तनिक रास नहीं आता, बल्कि उन्हीं कमजोरियों, उन्हीं गलतियों को बड़े ताव से लाल गाढ़े रंग की लिपस्टिक के साथ चेहरे पर तमगों की तरह जड़ लेती हैं; बॉलीवुड में कम ही पायी जाती हैं. कंगना फिल्म-दर-फिल्म परदे पर ऐसे कुछ बेहद ख़ास बेबाक और तेज़-तर्रार किरदारों को जिंदा करती आई हैं. 'सिमरन' में भी कंगना का किरदार इतना ही ख़ामियों से भरा हुआ, उलझा और ढीठ है, पर अफ़सोस फिल्म का बेढंगापन, इस किरदार और इस किरदार के तौर पर कंगना के अभिनय को पूरी तरह सही साबित नहीं कर पाता. 'सिमरन' आपका मनोरंजन किसी बी-ग्रेड क्राइम-कॉमेडी से ज्यादा नहीं कर पाती, अगर कंगना फिल्म में नहीं होती.

    तलाक़शुदा प्रफुल्ल पटेल (कंगना रनौत) अटलांटा, अमेरिका के एक होटल में 'हाउसकीपिंग' का काम करती है. पैसे जोड़ रही है ताकि अपना खुद का घर खरीद सके. बाप घर पर बिजली का बिल लेकर इंतज़ार कर रहा है, कि बेटी आये तो बिल भरे. प्रफुल्ल भी जहां एक तरफ एक-एक डॉलर खर्च करने में मरी जाती है, अचानक एक घटनाक्रम में, जुए में पहले-पहल दो हज़ार डॉलर जीतने और फिर एक ही झटके में अपनी सारी बचत गंवाने के बाद, अब 50 हज़ार डॉलर का क़र्ज़ लेकर घूम रही है. बुरे लोग उसके पीछे हैं, और क़र्ज़ उतारने के लिए प्रफुल्ल अब अमेरिका के छोटे-छोटे बैंक लूट रही है.

    'सिमरन' भारतीय मूल की एक लड़की संदीप कौर की असली कहानी पर आधारित है, जो अमेरिका में 'बॉम्बशेल बैंडिट' के नाम से कुख्यात थी, और अब भी जेल में सज़ा काट रही है. परदे पर ये पूरी कहानी दर्शकों के मज़े के लिए कॉमेडी के तौर पर पेश की जाती है. हालाँकि प्रफुल्ल का किरदार वक़्त-बेवक्त आपके साथ भावनात्मक लगाव पैदा करने की बेहद कोशिश करता है, पर फिल्म की सीधी-सपाट कहानी और खराब स्क्रीनप्ले ऐसा कम ही होने दे पाता है. प्रफुल्ल नहीं चाहती कि उसकी जिंदगी में किसी का भी दखल हो, उसके माँ-बाप का भी नहीं, पर वो बार-बार अपने इर्द-गिर्द दूसरों के बारे में राय बनाने की कोई कसर नहीं छोड़ती. मुसीबतें उसके सर महज़ किसी हादसे की तरह नहीं पड़तीं, बल्कि साफ़-साफ़ उसकी अपनी बेवकूफ़ियों और गलतियों का नतीजा लगती हैं. जुए में हारने के बाद 'तुम सब स्साले चोर हो' की दहाड़े सुनकर आपको 'क्वीन' की 'मेरा तो इतना लाइफ खराब हो गया' भले याद आ जाता हो, पर आपका दिल प्रफुल्ल के लिए तनिक भी पसीजता नहीं.

    फिल्म जिन हिस्सों में प्रफुल्ल के अपने पिता के साथ संबंधों पर रौशनी डालती है, देखने लायक हैं. पैसे की जरूरत है तो पिता पर लाड बरसा रही है, वरना दोनों एक-दूसरे को जम के कोसते रहते हैं. समीर (सोहम शाह) का सुलझा, समझदार और संजीदा किरदार फिल्म को जैसे हर बार एक संतुलन देकर जाता है, वरना तो प्रफुल्ल की 'आजादियों' का तमाशा देखते-देखते आप जल्द ही ऊब जाते. अच्छे संवादों की कमी नहीं है फिल्म में, फिर भी हंसाने की कोशिश में फिल्म हर बार नाकाम साबित होती है. प्रफुल्ल का बैंक लूटने और लुटते वक़्त लोगों की प्रतिक्रिया हर बार एक सी ही होती है. इतनी वाहियात बैंक-डकैती हिंदी फिल्म में भी बहुत कम देखने को मिलती है. अंत तक आते-आते फिल्म किरदार से भटककर फ़िल्मी होने के सारे धर्म एक साथ निभा जाती है.

    आखिर में, हंसल मेहता की 'सिमरन' एक अच्छी फिल्म हो सकती थी, अगर संदीप कौर की बायोपिक के तौर पर, 'अलीगढ़' की तरह समझदारी और ईमानदारी से बनाई गयी होती; न कि महज़ मनोरंजन और बॉक्स-ऑफिस हिट की फ़िराक में कंगना रनौत के अभिनय को सजाने-संवारने और भरपूर इस्तेमाल करने की चालाकी से. फिल्म अपने एक अलग रास्ते पर लुढ़कती रहती है, और कंगना का अभिनय कहानी, किरदार और घटनाओं से अलग अपने एक अलग रास्ते पर. काश आप इनमें से किसी एक रास्ते पर चलना ही मंजूर कर पाते, मगर ये सुविधा आपको उपलब्ध नहीं है, तो झटके खाते रहिये! [2/5]

    ReplyDelete
  5. Once Again Kangana Shut the mouth of Nepotism with his Amazing ability

    ReplyDelete
  6. She is an American- Gujrati girl with an Indian accent! Not at all authentic.

    ReplyDelete
  7. Kangana herself z a product of nepotism.aditya pancholi made her career start.she z as stupid as d film simran.lucknow central way better dan simran

    ReplyDelete
  8. फिल्म समीक्षा #2 - "सिमरन" (2/5)

    भारतीय समाज को आईना दिखाने वाली फिल्में प्रायः स्त्री प्रधान होती हैं। इसका सबसे बड़ा कारण शायद यह है कि समाज में सबसे ज्यादा शोषण भी महिलाओं का ही होता है। पर फिल्म निर्माण का पहला उत्तरदायित्व है मनोरंजन। दादी की कहानी अगर मनोरंजक न हो, तो बच्चे कहानी खत्म होने के पहले ही सो जाएंगे और उस कहानी से क्या शिक्षा मिलती है इससे उन्हें कोई मतलब नहीं रहता । कुछ यही हाल है फिल्म सिमरन का ।

    केंद्रीय किरदार प्रफुल्ल पटेल (कंगना) गुजराती माँ बाप की इकलौती संतान हैं, जिनका परिवार एक सामान्य भारतीय परिवार की तरह ही है । माँ बाप तलाकशुदा जवान बेटी का फिर से घर बसाने को आतुर हैं और बेटी अपना एक अलग घर खरीदने को बेचैन है। 'जब वी मेट' के करीना कपूर के किरदार से प्रेरित प्रफुल्ल एक कमजोर स्क्रिप्ट को ज्यादा देर संभाल नहीं पाती। आपको उसका चुलबुलापन अच्छा तो लगता है, परंतु कुछ देर तक । जुंए और चोरी की लत उसका शौक नहीं वरन जबरन थोपी गई मजबूरी है। अपने किरदार की मासूमियत को पर्दे पर सजीव करने के चक्कर में कंगना कहीं-कहीं ओवर एक्टिंग कर बैठती हैं। हालांकि बैकग्राउंड में अरिजीत सिंह और सुनिधि चौहान अपनी आवाज़ से पुरजोर कोशिश करते हैं कि दर्शक के मन में हालात की मारी सिमरन के लिए थोड़ी संवेदना जागे, परंतु अपने वीकेंड पर अपने परिवार के साथ एक अच्छा वक्त बिताने निकले दर्शक को टिकट खिड़की पर दिए गए अपने पैसों का ख्याल सताता है। उसे तलाश है मनोरंजन की, जो कि फिल्म में इतना ही है जितना आप ट्रेलर में पहले ही देख चुके हैं । फिल्म घिसटते-घिसटते जैसे तैसे इंटरवल तक पहुंचती है और बाहर आकर आप सोचते हैं कि वापस अंदर जाया जाए या नहीं । फिल्म का दूसरा भाग पहले से भी ज्यादा गैरतार्किक और पकाऊ है। क्या हो रहा है, क्यूं हो रहा है कुछ नहीं पता। हिंदी फिल्में पहले ही अपनी अपरिपक्वता और तर्कहीनता के लिए बदनाम हैं और निर्देशक ने इस बात को सही साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। निर्देशक को यह बात समझनी चाहिए कि कंगना को अभी सलमान खान बनने में वक्त है, जिनका सिर्फ फिल्म में होना फिल्म के सफल होने के लिए काफी नहीं है । आश्चर्य की बात है कि निर्देशक हंसल मेहता ने इसके पहले 'अलीगढ़' और 'शाहिद' जैसी श्रेष्ठ फिल्मों का निर्माण किया है। तकरीबन २ घंटे लंबी यह अधूरी और दिशाहीन फिल्म आपको मनोरंजन के नाम पर इक्के-दुक्के चुटकुले और सरदर्द के अलावा कुछ और नहीं परोसती।

    ~ पारुलराज
    (एक बुरी फिल्म आपको बीमार बहुत बीमार कर सकती है)

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top