Daddy Movie Review |Bollymoviereviewz
Wednesday, September 13, 2017

Daddy Movie Review

Daddy Hindi Movie Review 

Average Ratings: 2.5/5
Score: 40% Positive
Reviews Counted:8
Positive:2
Neutral:2
Negative:3





Ratings:2.5/5 Review By:Rajeev Masand Site:CNN News 18
Problem is that Daddy sacrifices plot and pace at the altar of craft and visual aesthetic. The back and forth narrative is distracting, and the film unfolds slower than a snail race. The first half is particularly testing and feels much longer than it actually is.In the end, there’s a lot to appreciate in Daddy, yet sadly it’s not enough. The craft is admirable and the big denouement is thought provoking, but pacing issues cripple the film to the extent that you’re exhausted by the time the lights come back on.I’m going with two-and-a-half out of five. 
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Meena Site:Times Of India
The first half touches on Gawli's growth as a don and the second half attempts to stay with his life as a family man and politician. Married to a Muslim girl, Zubeida (Aishwarya), his secular streak is subtely touched. Though he converts his wife to Asha, he is large-hearted enough to play a benefactor to both communities during the Mumbai riots. In fact, the maximum drama here is depicted through the protagonist Arjun's own performance graph. If you like crime drama, Daddy is bound to fuel your imagination. Gawli is a part of India's crime-history. And this is the closest you will come to 'encountering' him.  
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Kunal Site:Mumbai Mirror
ost know Arun Gulab Gawli as the Gandhi topi-wearing soft-yet-firm speaker who turned politician following years of being one of the most notorious goons of Dagdi Chawl. But this one delves into his mind to draw the twisted logic that determined his decisions and actions, and all this without glorifying the gangster or celebrating his killings. Some discard biopics as a mere retelling of events in a person's life. Tick all the boxes, depict the period and circumstance with some authenticity and the job's done. But Ashim Ahluwalia also tells this story without narrating it 
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Shubhra Site:Indian Express
It’s also the thickly-populated circuitous plot, which goes back and forth in time, which comes in the way of a solid crime thriller cum study of the making of a gangster. I ended up drinking in every single frame, and searching for a full film.  
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Tushar Site:DNA
Technically, Daddy is one of the best films to come out this year with an applause worthy performance by Arjun Rampal, however, it fails to leave an impression on you with its weak narrative and sluggish pace.  
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Sweta Site:Hindustan Times
Unlike most gangster films, Daddy does not glorify its subject but it does worse.Given the time frame of the protagonist’s story, the film has a retro look. Unfortunately, even its treatment belongs to the 80s when makers tried to justify the protagonist turning to crime by pointing out his sufferings “before he turned into one”. The state machinery must take better care of the citizens and ensure basic amenities but the system’s faults cannot be used to justify a criminal’s action.  
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By:Prasanna Site:Rediff
Daddy, a biopic on Arun Gulab Gawli, a mill worker's son who metamorphoses into a feared underworld don and runs his own corporate mafiosi, director Ashim Ahluwalia takes too many liberties with facts and litters the 135 minute saga with plot holes.My biggest issue with this film is that Rampal plays it safe with facts, events and characters while bringing to the screen the life of one of the most colourful dons  
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Hungama Site:Bollywood Hungama
DADDY begins on a shocking note and you expect the film to be a fast-paced, well-preserved gangster drama. The film however falls a bit immediately but still, the scenes of the 'B.R.A. gang' are engaging. But as the film progresses, it becomes too confusing and incoherent.On the whole, DADDY is a poor show due to its incoherent script and weak direction. Arjun Rampal’s performance is the sole factor that makes the film realistic. Watch it if you are a fan of Arjun Rampal or gangster flicks.  
Visit Site For More



Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

Daddy Story:  

The film stars Arjun Rampal, who also co-wrote the film, portraying gangster-turned-politician Arun Gawli. It also stars South Indian actress Aishwarya Rajesh in the lead role

Daddy Release Date:

Sep 1, 2017 ( India)

 Director: Ashim Ahluwalia
Producer: Arjun Rampal, Rutvij Patel
Cast:
Arjun Rampal
Aishwarya Rajesh
Rajesh Shringarpure
Anand ingale
Nishikant Kamat

Run Time:  2 hours and 10 Minutes


Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Daddy Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

5 comments:

  1. डैडी:
    कहानी औसत, ट्रीटमेंट उम्दा! [3.5/5]

    असीम अहलूवालिया की सिनेमाई दुनिया मुख्यधारा में रहते हुए भी बहाव से अलग, उलटी तरफ बहने का जोखिम पहले भी 'मिस लवली' जैसी फिल्म में उठा चुकी है. कहानी जहां हाशिये पर धकेल दिये गए सामाजिक वर्गों की हो, चेहरे जहां खुरदुरे हों, चेचक के निशान और खड्डों भरे या फिर गहरे लाल रंग की लिपस्टिक में बेतरतीब, बेजा पुते-पुताये, और कमरे इतने घुटन भरे कि सीलन की बास भी नाक से उतर कर अन्दर गले तक आ जाये. असीम इस कम-रौशन, सलीके से बिखरी-बिखराई दुनिया की, तसल्ली-पसंद तरीके से कही जाने वाली कहानी में जिस बारीकी से परदे के आगे बैठे दर्शक के लिए 'माहौल' बनाते हैं, उन्हें बॉलीवुड में ज़ुर्म की दुनिया पर बनने वाली फिल्मों का 'संजय लीला भंसाली' घोषित कर देना चाहिए. कुख्यात अपराधी अरुण गवली की जिंदगी पर आधारित, असीम की 'डैडी' हालाँकि एक ठोस कहानी के तौर पर सामान्य से आगे बढ़ने का हौसला नहीं जुटा पाती, पर फिल्म-मेकिंग के दूसरे जरूरी पहलुओं पर अपनी छाप छोड़ने में कतई निराश नहीं करती.

    अरुण गुलाब गवली की कहानी या यूँ कहें तो उसकी जिंदगी से काट-छांट कर फिल्म के लिए बुनी गयी कहानी में कुछ भी ऐसा अलग या नया नहीं है, जो इस तरह के तमाम गैंगस्टर-ड्रामा में आपने पहले देखा-सुना न हो. हाँ, घटनाओं को पिरोने और उन्हें एक-एक कर के बड़े तह और तमीज से आपके सामने रखने का असीम का अपना एक ख़ास स्टाइल है, वो इस तरह की फिल्मों के लिए नया और बेहतर जरूर है. असीम अलग-अलग किरदारों के जरिये गवली की कहानी को परदे पर सिलसिलेवार पेश करते हैं, और काफी हद तक कामयाब कोशिश करते हैं कि गवली का किरदार इंसानी लगे और सिनेमाई परदे को फाड़ कर बाहर आने की जुगत से बचता रहे. यही वजह है कि गवली का किरदार जेल में अपनी मौत की आहट भर से ही पसीने-पसीने हो उठता है; उसका एक गुर्गा उसे नयी टेक्नोलॉजी वाली पिस्तौल दिखा रहा है, पर गवली रोती हुई बेटी को झुनझुना बजा कर चुप कराने में ज्यादा मशगूल दिखता है.

    फिल्म में कैमरा अपने लिए आरामदायक जगह नहीं ढूंढता, अक्सर खिड़कियों और दरवाजों के धूल लगे शीशों से लगकर अन्दर झांकना मंजूर करता है. रौशनी बेख़ौफ़ धूप में छन कर नहीं आती, रंगीन लाल-नीले बल्बों में नहा कर चेहरों, पर्दों, और बिस्तरों पर उतनी ही पड़ती है, जितने से उसके होने का वहम बना रहे. किरदारों की स्टाइलिंग से लेकर प्रॉडक्शन-डिजाईन के छोटे से छोटे हिस्सों तक में असीम की पैनी नज़र और पूरी-पूरी दिलचस्पी साफ़ देखने को मिलती है. डिस्को-बार में 'जिंदगी मेरी डांस-डांस' गाने पर थिरकते कलाकारों के साथ, आपको '80 के दशक का बॉलीवुड जीने से एक पल को परहेज़ नहीं होता. जेल में नया कैदी आया है, खूंखार है, खतरनाक है, और मुंह से 'खलनायक' की धुन निकालता रहता है. ज़ाहिर है, 90 का दशक आ गया है. अब सैलून में संजय दत्त और जैकी श्रॉफ के पोस्टर चस्पा हैं.

    असीम अहलूवालिया का सिनेमा अगर 'डैडी' का शरीर है, तो गवली के किरदार में अर्जुन रामपाल का अभिनय साँसे फूंकने जितना ही जरूरी. प्रोस्थेटिक तकनीक से चेहरे की बनावट में ख़ास बदलाव करने तक ही नहीं, अर्जुन एक अदाकार के तौर पर भी पूरी फिल्म में अपनी ईमानदारी से तनिक पीछे नहीं हटते. उनकी खुरदुरी आवाज़, उनकी चाल-ढाल, उनका डील-डौल बड़ी सहजता से उन्हें हर वक़्त उनके किरदार के आस-पास ही रखता है. निश्चित तौर पर यह उनके अभिनय-कैरियर की चुनिन्दा देखने लायक परफॉरमेंसेस में से एक है. कास्टिंग के नजरिये से फ़रहान अख्तर को भाई (दाऊद इब्राहिम के किरदार से प्रेरित) के तौर पर पेश करना सबसे निराश करने वाला प्रयोग रहा. पुलिस इंस्पेक्टर विजयकर की भूमिका में निशिकांत कामत खूब जंचते हैं. अन्य किरदारों में ऐश्वर्या राजेश, श्रुति बापना और राजेश श्रृंगारपुरे बेहतरीन हैं.

    आखिर में; बॉलीवुड क्राइम फिल्मों का जमीनी जुड़ाव एक अरसे से लापता सा था. गैंगस्टर काफी वक़्त से दुबई में कहीं पूल-साइड पर लेट कर बिकनी में लड़कियों को देखते हुए जुर्म के फरमान सुनाने में अपनी शान समझने लगे थे. फिल्मों ने उनमें अपने स्टाइल-आइकॉन तलाशने शुरू कर दिये थे. पक्या, गोट्या, रग्घू और मुन्ना की टेढ़ी-मेढ़ी शक्लों की जगह गोरे-चिट्टे-चिकने चेहरों ने ले ली थी. असीम अहलूवालिया की 'डैडी' उस खाली जगह में बड़ी आसानी और ईमानदारी से फिट बैठ जाती है. [3.5/5]

    ReplyDelete
    Replies
    1. Language par itni achi pakad or cinema se itna pyar... Kmaal karte ho sir

      Delete
    2. @Gaurav : Buddy why didnt you review Poster Boys...?
      I find it interesting and a fun film, so far this year .

      I am keen to read your opinion.
      Thanks ~

      Delete
  2. @Gaurav Rai-
    Apko reviewer nahi balki book writer hona chaahiye....Apka review achhha hota he pr samaj me aaye aaise "Hindi language" me likha kijiye.
    It is just my kind suggestion/opinion.

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top