Bareilly Ki Barfi Movie Review |Bollymoviereviewz
Sunday, August 20, 2017

Bareilly Ki Barfi Movie Review

Bareilly Ki Barfi Movie Review 


Average Ratings: 3/5
Score: 87% Positive
Reviews Counted:10
Positive:7
Neutral:2
Negative:1




Ratings:3/5 Review By:Rajeev Masand Site:News18
Bareilly Ki Barfi is what you’d get if you took Saajan and gave it the Basu Chatterjee or Sai Paranjpye treatment. There is a lot to enjoy here but the script contrivances rankle. This is a movie that works on account of the trimmings: the acting, the clap-trap dialogues, and the authentic texture of the world that it’s set in. If only there was more meat to the main dish. Nevertheless, Bareilly Ki Barfi is appropriately sweet and not a bad way at all to spend two hours. I’m going with three out of five.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Anupama Chopra Site:Filmcompanion
Like the barfi in the title, Bareilly Ki Barfi is sweet, enjoyable and low on nutrition. There is little here that will stay with you but while it lasts, you’ll have a smile on your face. And that’s exactly what this amiable film is designed to do. Still Bareilly Ki Barfi has enough flavour to keep you going. Director Ashwiny Iyer Tiwari keeps it frothy and light. I exited the theatre hoping that she’ll give Pritam Vidrohi his own film.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Saibal Site:NDTV
It is a largely inoffensive, mildly diverting small-town romance that generally hits the right buttons thanks primarily to a crisp and lively screenplay, earthy dialogues and effortless acting by a fine cast. If not exactly scintillating, it is definitely entertaining enough not to fritter away its inherent advantages. Bareilly Ki Barfi is definitely worth a watch provided you do not expect the world from it. It is happy to be what it is: a modest barfi from nondescript Bareilly. A bite wouldn't be a bad idea.
Visit Site For More
Ratings:4/5 Review By:Sreehari Site:Rediff
The audiences who'd come for Bareilly Ki Barfi didn't seem like they were expecting the movie to be anything more than a silly rom-com. But Bareilly Ki Barfi ended up surprising them, and by the end, they were all having such a good time and seemed so happy to be in that theatre together, that you could see why cinema was always meant to be this communal experience to be taken in without pre-judgments.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Shubhra Gupta Site:Indianexpress
The plot’s contrivances come in the way of Khurrana’s playing of Chirag fully credibly. As does Rajkummar Rao, who blows away the weaknesses of this film with his consummate act, playing the timid ‘chota shehari’ on the one hand, and the loud ‘rangbaaz’ on the other. Rao sweetens the pot, and makes up for the rest of it. Almost.
Visit Site For More
Ratings:4/5 Review By:Meena Iyer Site:Times Of India
BKB is a hooray moment for Hindi cinema. This romcom set in the North Indian town of Bareilly, breaks the shackles of Bollywood’s continued dependence on cardboard cuts and instead introduces you to real people, whose charms are infectious. The writers Nitesh Tiwari (director and writer of the much-acclaimed blockbuster Dangal )and Shreyas Jain have put together a sweet, identifiable crowd-pleaser that excels in the writing, direction, acting and music departments. 
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Bollywoodhungama Site:Bollywoodhungama
On the whole, BAREILLY KI BARFI has its moments and boasts of great performances but it’s too unconvincing. Also, lack of face value and low-key promotions coupled with insipid music as well as domination by TOILET – EK PREM KATHA will spell doom for the film at the box office.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Sreeju Site:BollywoodLife
Bareilly ki Barfi boasts of a delightful first half, but a weak second half. But some really funny writing and terrific performances by Rajkummar Rao, Ayushmann Khurrana, along with a brilliant supporting cast, add sweetness to the narrative. While it may not get high marks in its screenplay, it definitely is one of the better rom-coms of the year.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:SatishS Site:Koimoi
What’s Good: The simplicity of the film and Rajkummar Rao’s outstanding performance.What’s Bad: Film starts lagging because of bad editing in a few placesLoo Break: During the first half and also during a couple of songs.Watch or Not: If you are looking for a clean and entertaining film this weekend, you can watch Bareilly Ki Barfi, which qualifies for a one time watch.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Manjusha Site:Gulf News
Finally, here’s a Hindi film whose second half doesn’t disappoint and unravel into a total mess. While the first half is predictable and adheres closely to the trailer, the scenes after the interval are delightful. The climax where you guess which man walks away with the woman may be predictable, but there’s no taking away from Iyer Tiwari’s knack for telling a good story in an engaging manner. While it takes time for Bareilly Ki Barfi to warm up to you, the crackling second half and the arrival of Rao signals for good things to come. Watch this if you are in the mood to unwind with a romantic comedy filled with an endearing set of flawed, but sweet individuals.
Visit Site For More

Also See
Bareilly Ki Barfi  Box Office

Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

Bareilly Ki Barfi Story:  

The film is a story of three young characters. Story of the movie revolves around all three of them. Ayushmann Khurrana is a printing press owner whereas Rajkummar Rao is working in the printing press under Ayushmann Khurrana. Kriti Sanon is playing the female lead in the movie, playing the role of a young contemporary girl in Uttar Pradesh

Bareilly Ki Barfi Release Date:

August 18, 2017 ( India)

 Director: Ashwiny Iyer Tiwari

Producer: Aruna Bhatia,Shital Bhatia,Prernaa Arora,Arjun N. Kapoor,Hitesh Thakkar

Cast:
Rajkummar Rao
Ayushmann Khurrana
Kriti Sanon

Run Time:  2 hours and 3 Minutes


Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Bareilly Ki Barfi Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

13 comments:

  1. Bareilly ki barfi Movie Review- Its a Low Budget Movie revolves around three characters shot in Bareilly in Lucknow ,The Movie is similiar to Saajan,There is Fan base of Rajkumar Rao & Ayushmann Khurana,may be can appeal them,I donno why But Kriti Sannon face resembles to Horse,Ayushmann always plays Punjabi Munda in every Movie with his very limited acting skills & Rajkumar Rao always looks like an average actor whose acting is overhyped just like Nawazuddin Siiddqui as they both want to be like Irfan Khan in every scene, won't be harsh to the movie as it is with struggling actors & even the plot & budget looks minimum they should not release it next week after TEPK as TEPK as still in good run & is obviously gonna effect the business of BKB as it will get less screens ,if they would have released 2 weeks after TEPK on 25 august still there would have been chance of recovering cost but in this week it looks little bit difficult as right now it doesn't look more than crossing 10 crores, being soft to the movie although it doesn't look right now a recoverable asset even

    ReplyDelete
  2. Manjusa ka note kar lo ye ulti h jiski ache review deti h wi flop smjo ye ulti h jagga jaasoos 6 flop toilate 5 hit ye bkb super flop hahahahhahhaahhahahahahhaahhahahahaahhahahahahahahahhahahahaha iske bas ka na h movie Bollywood isko bolo south m Jaye ye bewkoof ladki

    ReplyDelete
  3. Manjusha just seea ho payega hit ko flop and flop ki hit ise bhojpuri movie ka review karow ye ulti h

    ReplyDelete
  4. Flop hoga yeh film.

    ReplyDelete
  5. बरेली की बर्फ़ी:
    अहा, मीठी-मीठी! प्रेम-त्रिकोण की पारिवारिक मिठाई! [3/5]

    बाप (पंकज त्रिपाठी) सुबह-सुबह 'प्रेशर' बनाने के लिये सिगरेट खोज रहा है. माँ (सीमा पाहवा) बेटी (कृति सैनन) को जगा कर पूछ रही है, 'है क्या?, एक दे दे, अर्जेंट है'. बेटी बिट्टी मिश्रा में और भी 'ऐब' हैं, इंग्लिश फिल्में देखती है, रातों को देर से घर लौटती है. तेजतर्रार माँ के डर से, बाप यूँ तो रात को उठकर चुपके से दरवाज़ा खोल देता है, पर एक गुजारिश उसकी भी है, "बाइक पर दोनों पैर एक तरफ करके बैठा कर!". जाहिर तौर पर शादी के लिये रिश्ते हर बार सिर्फ चाय-समोसे तक ही सीमित रह जाते हैं. आखिरी लड़के ने तो पूछ लिया था, "आर यू वर्जिन?" और बिट्टी ने भी जो रख के दिया था, "क्यूँ? आप हैं?"...पर कोई तो है जो बिट्टी को करीब से जानता है, और उसकी कमियों के साथ उसे चाहता है. प्रीतम विद्रोही (राजकुमार राव) के किताब में नायिका बबली एकदम बिट्टी जैसी ही है. बिट्टी को प्रीतम से मिलना है, पर उस अनजान लेखक को शहर में अगर कोई जानता है तो सिर्फ चिराग दूबे (आयुष्मान खुराना) जिसने असलियत में अपनी पूर्व-प्रेमिका बबली के लिये लिखी कहानी, प्रीतम के नाम से खुद अपनी ही प्रिंटिंग-प्रेस में छापी थी. अब जब बिट्टी में चिराग को बबली दिखने लगी है, तो दब्बू और डरपोक प्रीतम को बिट्टी की नज़रों से गिराने में उसे तिकड़मी बनने के अलावा कुछ और नहीं सूझता.

    प्यार में चालबाजी कब उलटी पड़ जाती है, और रंगबाजी कब उस पर हावी हो जाती है; 'बरेली की बर्फी' कहानी के इन उतार-चढ़ावों में बेहद मजेदार है. जहां फिल्म का पहला भाग आपको बरेली जैसे छोटे शहरों की आब-ओ-हवा के साथ घुलने-मिलने पर ज्यादा तवज्जो देता है, दूसरे हिस्से में राजकुमार राव अपनी बेहतरीन अदाकारी और अपने गिरगिटिया किरदार से आपको बार-बार खुल कर हंसने का मौका देते हैं. जावेद अख्तर साब की आवाज़ में सुनाई जा रही इस कहानी में ठेठ किरदार, सधी अदाकारी और आम बोल-चाल की भाषा का इस्तेमाल ज्यादातर मौकों पर एक साथ खड़े दिखते हैं. अपने अनुभवी और योग्य सह-कलाकारों (खास कर पंकज और सीमा जी) के साथ, अश्विनी परदे पर पूरी कामयाबी से हर दृश्य को देखने लायक बना ही देती हैं. हालाँकि मुख्य कलाकारों में कृति और आयुष्मान हर वक़्त उस माहौल में खपने की पूरी कोशिश करते नज़र आते हैं, पर जो सहजता और सरलता राजकुमार राव दिखा और निभा जाते हैं, कृति और आयुष्मान उस स्तर तक पहुँचने से रह ही जाते हैं. राव जैसे किसी ठहरी हुई फिल्म में आंधी की तरह आते हैं, और हर किसी को जिन्दा कर जाते हैं. दोपहर की गर्मी में निम्बू-पानी तो पी ही रहे थे आप, उसमें जलजीरा जैसे और घोल दिया हो किसी ने.

    सीमा पाहवा और पंकज त्रिपाठी के बीच के दृश्य बाकमाल हैं. ट्रेलर में सीमा जी का बिट्टी के भाग जाने का ख़त पढ़ने वाला दृश्य तो सभी ने देखा है, अदाकारी में जिस तरह की पैनी नज़र सीमा जी रखती हैं, और जिस तरीके के हाव-भाव बड़े करीने से अपने अभिनय में ले आती हैं, आप दंग रह जाते हैं. एक-दो दृश्यों को छोड़ दें, तो पंकज त्रिपाठी फिल्म में ज्यादातर 'फ़िलर' की तरह परोसे गए हैं. हर दृश्य में उनके होने की वजह भले ही न हो, उनके संवाद भले ही दृश्य की जटिलता में कोई इज़ाफा न करते हों, फिर भी उनके सटीक और सहज एक्शन-रिएक्शन आपका मन मोह लेते हैं.

    आखिर में; अश्विनी अय्यर तिवारी की फिल्म 'बरेली की बर्फी' बॉलीवुड के चिर-परिचित प्रेम-त्रिकोण को एक ऐसी चाशनी में भिगो कर पेश करती है, जिसमें मनोरंजन के लिए किसी भी तरह का कोई बाजारू रंग नहीं मिला है. आपके अपने चहेते दुकान की शुद्ध देसी मिठाई, जिसे आप जब भी खाते हैं, अपने अपनों के लिए भी पैक कराना नहीं भूलते. [3/5]

    ReplyDelete
    Replies
    1. Wah bhaiya Gaurav, aap to Rajeev Masand Sab aur Anupama Chopada madam ke bahut purane fan lagte ho , badhiya hain

      Delete
    2. Bhaiya tum kitaab likhna shuru kar do... 😂

      Delete
  6. To the point mr. Gaurav.

    ReplyDelete
  7. Bollywood walo jake dekho "VIVEGAM" OR "TIK TIK TIK" ka trailer, south wale kaha se kaha se pahoch gaye or ye BC lovestory se aage hi nahi badh rahe.

    ReplyDelete
  8. बरेली की बर्फ़ी is a Simplistic yet Satisfying work of Cinema which remains true to its theme from start till end.Inspired from Sajan this spinoff is Chuckling Humor garnished with Excellent performances from its Cast.Raj Kumar Rao and the Supporting cast are the Show Stealers.This year has been ruled by Movies Like Badri , Toilet , Hindi Medium this movie can be added for sure in that list.Entertaining Cinema , you wont be disappointed . My rating ������

    ReplyDelete
  9. Bareilly ki barfi 3/5
    Excellent acting by Rajkumar and all others
    Excellent script and direction-A good Love triangle story
    Good but not great dialogues
    Good editing..film is of just 2 hours
    Average locations of Bareilly city
    I am giving 3 out of 5 stars to this film
    One time watch with family

    ReplyDelete
  10. फिल्म समीक्षा | बरेली की बर्फी | Ratings 3/5 | No Spoilers

    बरेली की बर्फी, एक छोटे शहर बरेली में रहने वाली लड़की बिट्टी (कृति सनोन) की कहानी है | बिट्टी बाकि लड़कियों की जैसे चारदीवारी में कैद होकर रहने वालों में से नहीं है, बल्कि वो तो जन्मजात बाग़ी / विद्रोही है | वो हर एक काम करना चाहती है जिसकी लड़कियों को मनाही है | चिराग (आयुष्मान खुराना) जो मोहब्बत में चोट खाये एक दिलफेंक आशिक हैं जो बिट्टी को अपना दिल दे बैठे हैं. चिराग उन लोगों में से हैं जो साम-दाम-दंड-भेद में विश्वास रखते हैं और किसी भी तरह का जुगाड़ लगाकर बिट्टी को अपना बनाना चाहते हैं | उनके ही ऐसे किसी जुगाड़ का नतीजा हैं प्रीतम विद्रोही ( राजकुमार राव ), जिनका उद्देश्य चिराग द्वारा पूर्व निर्धारित किया जा चूका है - बिट्टी को चिराग के करीब लाना | किन्तु चिराग का बिछाया मायाजाल सुलझने की जगह उलझता ही जाता है और वो खुद ही इसके चंगुल में फंस जाते हैं | कहानी के बाकि किरदारों में सम्मिलित हैं बिट्टी के पिताजी (पंकज त्रिपाठी) और उसकी माताजी (सीमा पाहवा) | हृषिकेश मुख़र्जी के बावर्ची अंदाज़ में सूत्रधार बने हैं जावेद अख्तर|

    कहानी की शुरआत काफी रोचक है और दर्शकों को बांधे रखती है | UP वाले देशी शब्दों (बऊआ , लल्लन टॉप... इत्यादि ) का जम के प्रयोग किया गया है, जो न की महज़ हास्यप्रद है बल्कि एक अपनापन झलकता है और किरदारों को विश्वसनीय बनाता है | निर्देशक अश्विनी अय्यर तिवारी की ये दूसरी फिल्म है, निल बट्टे सन्नाटा के बाद | अश्विनी जी की कहानियों का चुनाव मुझे हृषिकेश दा और बासु चटर्जी की पारिवारिक फिल्मों की याद दिलाता है | फिल्म में कई ऐसे क्षण होंगे जो आपको किसी आपबीती की याद दिलाएंगे | जिस बखूबी से किरदारों की भूमिका बाँधी गयी है उससे आप निर्देशक की मुस्तैदी का अंदाज़ा लगा सकते हैं|

    सभी कलाकारों ने अच्छा प्रदर्शन किया है | कृति सनोन जो अब तक सिर्फ सजावटी किरदार निभाती आईं हैं, उन्हें काफी पुष्ट किरदार मिला है | उनके अब तक के काम में से मुझे ये काफी बेहतर लगा पर इस फिल्म उनके लिए बहुत कुछ करने की गुंजाईश थी जिसे वो पूर्णतः भुना नहीं पायीं | आयुष्मान एक बेहतरीन कलाकार हैं और इस फिल्म में आपको उनका एक मिश्रित रूप देखने को मिलेगा जहाँ एक तरफ आपको उनका किरदार मतलबी और नीच लगेगा वहीँ आप उनके अगाढ़ प्रेम का सम्मान भी करेंगे | राजकुमार इस सदी के युवा अभिनेताओं में से सर्वश्रेष्ठ हैं | भले ही इस फिल्म में उनका काम इतना चुनौतिपूर्ण नहीं है पर फिर भी उनके अभिनय और चरित्र की विविधता अत्युत्तम है | पंकज त्रिपाठी और सीमा पाहवा दोनों मंजे हुए खिलाडी हैं और कई वर्षों से हिंदी थिएटर करते आ रहे हैं | दोनों का रोल सीमित होते हुए भी वे कई सराहनीय पलों में अपनी छाप छोड़ जाते हैं | पंकज जी ने ऎसे पिता का किरदार निभाया है जो अत्यंत भावुक है और अपनी बेटी से बहुत प्यार करता है | उसे पता है की उसकी बेटी सिगरेट पीती है और रात भर सड़कों पर घूमती रहती है पर इस बात का उसे ज़रा भी मलाल नहीं है| अब दर्शक इसे पिता की लापरवाही भी समझ सकते हैं या पिता का खुले विशरों का होना और अपनी बेटी पर अटूट विश्वास रखना |

    Read my full review at: http://www.bollyreviewsnow.com/2017/08/bareilly-ki-barfi-movie-review.html

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top