Shubh Mangal Savdhan Movie Review|Bollymoviereviewz
Thursday, September 7, 2017

Shubh Mangal Savdhan Movie Review

Shubh Mangal Savdhan Movie Review 

Average Ratings: 3.2/5
Score: 100% Positive
Reviews Counted:11
Positive:9
Neutral:2
Negative:0




Ratings:-- Review By:Komal Nahta Site:Zee ETC Bollywood Business
On the whole, Shubh Mangal Saavdhan has an unusual story and good male-oriented humour to appeal to a section of the public, mainly males and youngsters among the multiplex audiences. Its positive word of mouth will definitely see its collections pick up, mainly in the weekend. Overall, it will carry mixed reports and ultimately prove to be a safe bet, considering its investment and returns.  
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Rajeev Masand Site: News18
There’s a lot that’s both fresh and refreshing in Shubh Mangal Saavdhan, starting with its remarkably astute portrait of middle-class ‘Dilli’.  Shubh Mangal Saavdhan rises above its minor problems to deliver plenty laughs. It’s one of the year’s most enjoyable films. I recommend that you make the time for it. I’m going with three-and-a-half out of five.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Anupama Chopra Site: Filmcompanion
Shubh Mangal Saavdhan is a delightful film about erectile dysfunction. I bet you never thought you would see those words in the same sentence. Be warned that Shubh Mangal Saavdhan deflates marginally in the second half. The film ends in a bizarre action sequence, which includes a star cameo – all of which seems patched on from some other movie. It feels like Prasanna and Hitesh decided to hurriedly wrap up the loose ends. But that doesn’t take away from the energy and wit that propels this immensely likeable film.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Taran Adarsh Site:Twitter
OneWordReview... #ShubhMangalSaavdhan: Average. Rating: 2.5/5 stars. Entertaining first half. Routine second hour. Weak climax... PLUSSES: Super premise... Sparkling performances [Ayushmann and Bhumi]... Several LOL moments MINUSSES: Second half plays spoilsport... Gets unbelievable and far-fetched... Some vital scenes fall flat.works in patches... When seen in totality, you carry a few scenes home, not the film in entirety!
Visit Site For More
Ratings:4/5 Review By:Sukanya Site:Rediff
Best part is how the script resists belittling Mudit's condition to insert crass innuendo. The humour is playful, but never prudish. Its provocative elements are clever, comical and pop up in the garb of sly, soft porn poetry, mischievous symbolism, bedroom betting or hilariously camouflaged quips like Pahwa's instant classic, 'Ali Baba ka janam hi gufaa main jaane ke liye hua hai.' With its fine zingers and feisty acknowledgement, Shubh Mangal Saavdhan does more for sex, both noun and verb, than any Hindi film can claim to in a long, long time.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Saibal Chatterjee Site:NDTV
Shubh Mangal Saavdhan stays strictly within the limits of acceptability in dealing with a thorny theme that could easily have plunged into overt awkwardness. Lightheartedness is the cloak it wears to conceal its uneasy patches. That it succeeds in that endeavour more often than not is a measure of the director's ability. Shubh Mangal Saavdhan, breezy enough at its core not to be bogged down by the weight of its daring and untested pivotal plot point, is never less than entertaining.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Hungama  Site:Bollywood Hungama
Shubh Mangal Saavdhan's two biggest strengths are its dialogues and the duration.In fact the entire film is sensitively executed. The sequences are peppered by humour but it never even once gets indecent. The makers in fact deserve loads of kudos for handling such a taboo topic so beautifully. Unfortunately, the second half is where the film slips. On the whole, SHUBH MANGAL SAAVDHAN is a light hearted flick that can be seen by the whole family despite its taboo subject. At the box office, it has the potential to grow by word of mouth and emerge as the surprise of the season. Definitely recommended.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Sreeju  Site:BollywoodLife
Shubh Mangal Saavdhan could have been the best romantic comedy Bollywood has seen in years. It tackles a risky premise, the humour was brilliant and the performances were first-rate. Unfortunately, the writing suffers a ‘gent’s problem’ towards the end, leaving us high and dry. Still, I would recommend you to watch SMS purely for the humour and Ayushmann-Bhumi’s amazing chemistry.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Koimoi.com Team  Site:Koimoi
What’s Good: The balance between going vulgar & explaining something very adult, performances by everyone (By everyone, I meant even the guy who plays band in the wedding).What’s Bad: Swaying away from reality in 2nd half & nothing.Loo Break: Umm, only if you want to miss a brilliant scene (Because there are many at regular intervals).Watch or Not?: Unquestionably! Watch & laugh your heart aloud throughout the film.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Shubhra Gupta  Site:Indian Express
When the action stays between the two main leads, whom we have seen play so well together in Dum Laga Ke Haisha, the film comes together, terrible pun fully intended. Pednekar once again reminds us just how convincing she can be as a real honest-to-goodness young woman in search of love. And Khurrana once again is in fine fettle: from a brawny Punjabi fertile Aryan ‘puttar’ that he plays in Vicky Donor to a fellow who can’t, he’s inhabited both ends of spectrum, showing no performance anxiety at all.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Neil Soans Site:Times Of India
Is it possible to create a Hindi film around the 'touchy' subject of erectile dysfunction without being downright crass about it? Turns out that it is, and quite a funny one at that. This is largely because the charming lead pair has an affable chemistry between them, which doesn't come across too forced - an absolutely essential element when dealing with such a private 'Gents problem', as the film calls it.For some reason, the writers come up with an unconvincing turning point towards the end, followed by a few more absurd sequences.  That aside, 'Shubh Mangal Saavdhan' keeps you entertained long enough to make it worth a watch.
Visit Site For More
Also See
Shubh Mangal Savdhan Box Office

Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

Shubh Mangal Savdhan Story:  

The story is about a boy Mudit Sharma, (Ayushmann Khurrana) who gets engaged to a girl, Sugandha (Bhumi Pednekar). It is going to be an arranged marriage and the extended families of both are looking forward to it. However due to erectile dysfunction, Mudit can't get it up and on the advice of his friends tries out various quacks treating impotency. It is a remake of the tamil movie Kalyana Samayal Saadham starring Prasanna and Lekha Washington.

Shubh Mangal Savdhan Release Date:

Sep 1, 2017 ( India)

 Director: R.S. Prasanna
Producer: Aanand L Rai, Krishika Lulla

Cast:
Ayushmann Khurrana
Bhumi Pednekar

Run Time:  1 hours and 59 Minutes


Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Shubh Mangal Savdhan Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

8 comments:

  1. शुभ मंगल सावधान:
    शर्तिया मनोरंजन! एक बार मिल तो लें!! [3.5/5]

    'सेक्स-एजुकेशन' हम सबके 'कमरे का हाथी' है. देख के भी नज़रंदाज़ करने की परम्परा जाने कब से चली आ रही है? टीवी पर अचानक से दिख जाने वाला सेक्स-सीन हो, या कॉन्डोम का सरकारी विज्ञापन; बच्चों के सवाल आने से पहले ही बड़ों के हाथ रिमोट खोजने लग जाते हैं. और अगर कहीं भूले-भटके कोई बात करने की हिम्मत जुटा भी ले, तो ज्ञान की नदियों के समंदर हर तरफ से यूं हिलोरें मारने लगते हैं कि जैसे सब के सब डॉ. महेंद्र वत्स (मशहूर सेक्स-पर्ट) के ही बैचमेट हों. जो जितना कम जानता है, उतना ही ज्यादा यकीन से चटखारे ले लेकर अपने तजुर्बों की किताब सामने रख देता है. रेलवे लाइन से लगी शहर की हर दीवार किसी न किसी ऐसे 'गुप्त' क्लिनिक का पता जरूर आपको रटा मारती है. पुरानी सी खटारा वैन की छत पे कसा भोंपू चीख-चीख कर अच्छे-खासे मर्द में भी 'मर्दानगी की कमी' का एहसास करा देता है. बंगाली बाबाओं के नुस्खों से लेकर सड़क किनारे बिकती रंगीन शीशियों में बंद जड़ी-बूटियों की तलाश में; 'सेक्स एजुकेशन' का यह 'हाथी' अक्सर 'चूहे' की शकल लिए मायूस घूमता रहता है. हंसी तो आनी ही है.

    आर प्रसन्ना की 'शुभ मंगल सावधान' में हालाँकि कोई हाथी तो नहीं है, पर एक भालू जरूर है. सरे-बाज़ार मुदित (आयुष्मान खुराना) पर चढ़ गया था, और अब उतरने का नाम ही नहीं ले रहा. मुदित के गीले बिस्किट चाय में टूट-टूट कर गिर रहे हैं, और उसका अलीबाबा गुफा तक पहुँच ही नहीं पा रहा. दिक्कत तो है, सुगंधा (भूमि पेडणेकर) से उसकी शादी बस्स कुछ दिनों में होने ही वाली है. मुदित की परेशानी में सुगंधा हर पल उसके साथ है. बिना सबटाइटल्स वाली अंग्रेजी फिल्मों से सीख कर वो मुदित को 'कम ऑन, माय डैनी बॉय!' भी सुना रही है, हालाँकि ऐसा करते हुए उसके चेहरे पर दर्द ज्यादा है. तमाशा तब शुरू होता है, जब दोनों के परिवारों में ये किस्सा आम हो जाता है. बाप को गुमान है कि उसके बेटे का 'कुछ भी' छोटा नहीं हो सकता. माँ ने बड़े होने तक बेटे का अंडरवियर रगड़-रगड़ के साफ़ किया है, तो बेटे में 'खोट' होने की सूरत ही नहीं बचती.

    सगाई से लेकर शादी तक चलने वाली इस कहानी में 'डिसफंक्शनल' सिर्फ मुदित और सुगंधा की सेक्स-लाइफ ही नहीं है, बल्कि समाज, शादी और रीति-रिवाज़ भी इसके जबरदस्त शिकार हैं. मजेदार ये है कि सब कुछ हंसी-हंसी में आपके सामने आता है और वैसे ही चले भी जाता है. जहां आपकी फिल्म का विषय ही इतना वयस्क हो, इतना संवेदनशील हो, वहाँ (अच्छे) हास्य का सहारा लेकर अपनी बात कहना और उसे कहते वक़्त जरा भी अश्लील या भौंडा न होने पाना अपने आप में एक बड़ी कामयाबी की तरह देखी जानी चाहिए. इशारों-इशारों, मिसालों और कहानियों के ज़रिये यौन-संबंधों से जुड़ी समस्याओं पर बात करने की कोशिश करते वक़्त फिल्म के किरदारों की झिझक जिस तरह का कुदरती हास्य पैदा करती है, उसका ज़ायका हम पहले भी 'विक्की डोनर' में चख चुके हैं. 'शुभ मंगल सावधान' ठीक उसी जायके की फिल्म है.

    फिल्म में किरदारों का रूखापन, उनके खरे-खरे लहजे और उनके तीखे संवाद की तिकड़ी मनोरंजन में पूरा दखल रखती है. ताऊजी (ब्रजेंद्र काला) बात-बात पर बाबूजी के श्राद्ध पर खर्च हुए पैसों का एहसान गिनाना नहीं छोड़ते. ससुर को 'बहू दुपट्टा लेकर नहीं गयी' ज्यादा परेशान करता है. माँ (सीमा पाहवा) बेटी को शादी से जुड़े सब राज बताना भी चाहती है, मगर खुल के कैसे कहे? इन सभी किरदारों के अभिनय में आपको कोई भी कलाकार तनिक भी शिकायत का मौका नहीं देता. मुख्य भूमिकाओं में आयुष्मान अपनी पिछली कुछ 'एकरस' फिल्मों से जरूर आगे आये हैं. भूमि हालाँकि मिडिल-क्लास, घरेलू लड़की के इस दायरे में कैद जरूर होती जा रही हैं, पर जब तक कहानियों में धार रहेगी, उन्हें देखना कतई खलेगा नहीं.

    आखिर में; 'शुभ मंगल सावधान' एक पारिवारिक फिल्म है, जो मनोरंजन के सहारे ही सही एक ऐसे झिझक भरे माहौल में आपको उन समस्याओं पर हँसने को उकसाती है, जिसके बारे में बात करना भी आपके लिए 'सांस्कृतिक, सामाजिक और धार्मिक' बन्धनों की जकड़ में आता है. आज अगर नज़रें मिला कर, 'सेक्स' के मुद्दे पर खुल कर अपनों के साथ हंस पाये, तो क्या पता कल संजीदा होकर एक-दूसरे से बात करना भी सीख ही जाएँ? [3.5/5]

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bhaiya kitaab likhna shuru kar do tum.. Kahan review k chakkar me pade ho

      Delete
  2. *Shubh Mangal Savadhan* ⭐️⭐️⭐️����
    ✍��Excellent entertaining crispy story by Prasanna��
    ����Superb acting by both Ayushmann and bhumi����
    ����Dhamakedar dialogues����
    ��A unique film on gents problem��
    ����Go with friends you will definitely enjoy it����

    ReplyDelete
  3. Review of Marriage as Movie is based on Marriage-Marriage is root of all problems which brings stress,trauma,anxiety & despair,man & woman are tied suddenly by chain of marriage & that's why the love never happens as love borns in the soil of freedom & there is no freedom in marriage,Man & woman nature is completely opposite as man is direct & attacking while woman wants things to be done in patient way, man marries as he wants to do sex while woman who has been told to stay away from men from childhood & told that never let man to touch her but after marriage suddenly she can't accept this all wrestling suddenly so she starts hating her husband from inside as the relation of heart is not there what women loves her brother & dad or son as those realtionships have heart thats why they are epitome of love while marriage is just lust, man when sees woman naked he has nothing left to imagine, as the clothes are beautiful while human body is not & soon finds irregular human body nothing else & soon gets fed up of her, while woman now knows she has lost man becomes upset ,when the physical attraction has gone now only nature & habits are left to bear which leads to jealousy & possessiveness & then fights & arguments happens ,man shouts at woman while woman in turn cries which makes man feel more bad & feels pity on her & man decides not to tell woman anything ,now woman starts controlling man by using tears as weapon of control,also woman is more socially intermixing which makes man to isolate from society ,also kids support mother always as dad stops them from doing wrong things and thats why kids think dad is against them & thus kids hate dad from inside, husband & wife never gets the required love from each other which might leads them to other man & woman but that is also short term as no man or woman can satisfy each other forever as they are just humans & humans have limitations,marriage is like eating same dish or smelling same flower daily which you might stop smelling or you will kill yourself from inside to avoid smelling daily thats why married people are nothing but live corpse,marriage is like a journey & journey is always tiring, man & woman does sex to achieve the timelessness & selflessness state as in sex they don't know the time as they are in zero state of time & they forget their identity as their ego is dissolved as they don't who they are & what they are as they are in zero state of ego & time ,this state of timelessness & selflessness can be achieved million times better by doing meditation as breathing out techniques makes you feel energetic,awake & refreshing while sex makes you feel sleepy & tired, this is just to guide the youth not a review

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ur review seems like riddle.... Bhai kehna kya chahte ho... ....

      Delete
    2. फिल्म समीक्षा - "शुभ मंगल सावधान" (3/5)

      "तनु वेड्स मनु" की सफलता ने यह साबित कर दिया की हिन्दी सिनेमा प्रगति पर है जहाँ अब ना सिर्फ़ बड़े स्टार्स और बड़े बज़ट की फिल्में चलती हैं बल्कि कम बज़ट में बनने बनने वाली, औसत कलाकारों से भरपूर, अच्छे कंटेंट वाली फिल्मों के भी उतने ही सफल होने की पूरी पूरी संभावना है | इसी कड़ी का एक और उदाहरण है "शुभ मंगल सावधान" | छोटे कलाकारों से बनी फिल्म में सबसे बड़ी ज़िम्मेदारी होती है लेखक और निर्देशक के कंधे पर और "शुभ मंगल सावधान" इस तकाज़े पर बिल्कुल खरी उतरती है | फिल्म का विषय जितना रोचक है उतना ही उसका प्रदर्शन |

      आयुष्मान खुर्राना भले ही मुंबई बतौर एक्टर नहीं आए पर जिस तरह की फिल्मों का उन्होने चुनाव किया और खुद को एक सहज कलाकार के रूप में स्थापित किया है वो क़ाबिल - ए - तारीफ है | "विकी डोनर", "दम लगा के हैशा", "बरेली की बर्फी" हर एक फिल्म में उनकी मेहनत सॉफ दिखाई देती है | भूमि पेडनेकर प्रतिभा का वो पिटारा हैं जिन्हें खोलने के लिए सही निर्देशक की सख़्त आवश्यकता है | उन्हें अभी बहुत आगे जाना है, पर उनका भविष्य भी उनके फिल्मों के चुनाव पर निर्भर है | सीमा पाहवा धीरे धीरे माँ के रोल में किरण खेर की जगह लेती जा रही हैं | फिल्म के बाकी कलाकार बिजेन्द्र काला, मनोज शर्मा बिरयानी में हींग और केसर की तरह जगह बनाते जा रहे हैं, जिनके बिना बिरयानी बन तो सकती है पर बेस्वाद |

      उत्तर भारत (जिसे मुंबई में यू. पी. - बिहार के नाम से जाना जाता है ) की पृष्ठभूमि पर आधारित "शुभ मंगल सावधान" आज भी आपको इंडिया में बसे भारत का एहसास दिलाती है, जहाँ आज भी बच्चों की शादियाँ माँ-बाप की मर्ज़ी से होती हैं और पिता के प्रोवीडेड फंड का एक मोटा हिस्सा उसकी लड़की की शादी में खर्च हो जाता है | कॉन्फिडेन्स की कमी का मारा एक आम सा लड़का मुदित (आयुष्मान खुर्राना), सुगंधा (भूमि पेडनेकर) को दूर से देखता तो है पर उससे अपने प्रेम का इज़हार नहीं कर पाता और फिर माँ के कहने पर सीधे शादी का प्रस्ताव सामने रख देता है | देखते ही देखते उनकी प्रेम कहानी शुरू होने के पहले ही शादी तक पहुँच जाती है | सुगंधा जिसे एक आम भारतीय लड़की की तरह अपने सपनों के राजकुमार का इंतेज़ार तो है पर अगर वो घोड़ी की बजाए बुलेट पर आता तो शायद उसे ज़्यादा खुशी होती | कहानी की असल शुरुआत तब होती है जब मुदित को पहली बार पता चलता है की वो गुप्त रोग से पीड़ित है | फिल्म की सबसे बड़ी ख़ासियत यह है कि गुप्त रोग जैसी संवेदनशील और कमरे के अंदर रहने वाली समस्या को हास्य में प्रस्तुत करना | फिल्म के एक दृश्य में सीमा पाहवा अपनी सुहागरात का वर्णन अपनी बेटी को एक कविता के माध्यम से करती हैं पर उसी दृश्य में बेटी के 'सेक्स' शब्द का इस्तेमाल करने पर नाक मुँह सिकोड लेती हैं | निर्देशक इस दोमूहे समाज को मासूम हास्य में पिरोकार ऐसे आईना दिखाते हैं, जैसे किसी बच्चे को शहद में डुबो कर कड़वी दवा गले उतार दी जाती है | फिल्म का क्लाइमेक्स भले ही स्वादिष्ट मिठाई सा ना लगे पर तरह तरह के पकवानों से सजी हुई यह थाली आपका पेट खराब नहीं करेगी |

      अंत में इस फिल्म को पारिवारिक फिल्म की श्रेणी में रखना या ना रखना भी एक ख़ासी चर्चा का विषय बन सकता है |

      Delete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top