Mom Movie Review |Bollymoviereviewz
Saturday, July 8, 2017

Mom Movie Review

Mom Hindi Movie Review


Average Ratings: 3.14/5
Score: 75% Positive
Reviews Counted: 8
Positive:6
Neutral:1
Negative:1







Ratings:2.5/5 Review By:Rajeev Masand Site:News 18
In Mom, her first Hindi film since 2012’s English Vinglish, Sridevi isn’t merely expected to do the bulk of dramatic lifting, she’s required to pretty much distract you from noticing the film’s many problems, including the gaping script holes, the flawed ideology, and the fact that you’ve seen this movie before. Many times actually.Mom is a far from perfect film, but it’s never boring. Sridevi’s terrific turn makes up for many of the script problems. I’m going with two-and-a-half out of five.
Visit Site For More
Ratings:-- Review By:Taran Adarsh Site:Twitter
#OneWordReview... #Mom: Superb. What works: Relevant theme, taut screenwriting, effective background score and skilled direction. Sridevi is the lifeline of #Mom... Bravura act... Towering performances by Nawazuddin, Akshaye, Adnan and Sajal... Recommended! .
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Sukanya Verma Site:Rediff
The film's predictability is not as much an issue as its messy climax that loses much of its drive and darkness to accommodate wishy-washy masala tropes, an ill-timed Rahman ditty and reckless ideas of fair play.What it never loses sight of is its leading lady's invincibility and for that alone, Mom's the word.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Saibal Chatterjee Site:NDTV
Sajal Ali, in the role of the troubled daughter, matches the veteran of 300 films step for step. Adnan Siddiqui is unwaveringly solid as the doting father and ever-beholden husband who stands like a rock by the two women.Not always an easy watch - it isn't meant to be - MOM wields a heavy mallet, but it does so with purpose, precision and panache.Not always an easy watch - it isn't meant to be - MOM wields a heavy mallet, but it does so with purpose, precision and panache.
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Shubhra Gupta Site:Indianexpress
But the film overdoes it, and leaves even someone as capable as Nawazudin struggling to overcome a spectacularly ugly hair-piece and a sketchily written part. He plays Detective DK, who is to be seen playing a wholly inexplicable game of hide-and-seek with Devki – Why shouldn’t a client and sleuth meet in public?
Visit Site For More
Ratings:4/5 Review By:Meena Iyer Site:TOI
Mom reminds you for the umpteenth time that we're in Nirbhaya country. Like other films on the same subject, debutant Ravi Udyawar's emotional thriller tells you that India, or should that be New Delhi specifically, isn't safe enough for women, especially young girls. And its relevance makes it an important watch. There's a lot packed in here. To begin with, the film dwells on the dynamics of a teenager's standoffish relationship with her stepmom. This entire track is beautifully handled. Then again, it is post the teenager's abduction and assault when the film reveals its true facet. 
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Bollywood Hungama Site:Bollywood Hungama
On the whole, MOM is a powerful film that reflects the horrors of the society that we live in today and how the world still remains unsafe for women. The film shocks and impacts you deep within. Watch it for it’s hard hitting content and Sridevi's brilliant performance.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Mayank Shekhar Site:Mid-day
But is effectively a statement on seeking revenge, poetic justice, and redemption. The thought might make you understandably uncomfortable. But it serves the purposes of this picture quite well.And while most thrillers tend to overstay their welcome beyond 90-minutes' screen time, this one doesn't feel almost two-and-half hours long. If anything, far too much is going on here. You might question a lot. But so much of it works.
Visit Site For More

Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

Mom Story:  

Devki, a loving wife and mother of two beautiful daughters seemingly has a perfect happy family, yet somehow true happiness of being a mother eludes her. Arya, a sensitive girl, believes a daughter comes into a mother's life, but a mother does not enter that of a daughter. Devki patiently waits for Arya's love and acceptance as she believes only a mother can truly understand the silence of her child. An unfortunate incident widens the distance between Arya and Devki, to a point of no return. In such a situation a mother has to make a choice - not between "what is wrong or right', but between 'what is wrong and very wrong." MOM is the story of what will a mother do in such a situation. Will she fight for her daughter's love knowing the consequences she may have to face?

Mom Release Date:

July 7, 2017 ( India)

 Director:   Ravi Udyawar

 Producer:  Boney Kapoo,r Sunil Manchanda, Naresh Agarwal, Mukesh Talreja, Gautam Jain

Cast:
Sridevi
Adnan Siddiqui
Sajal Ali
Nawazuddin Siddiqui
Akshaye Khanna

Run Time:  2 hours and 16 Minutes


Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Mom Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

4 comments:

  1. मॉम:
    साधारण फिल्म में 'असाधारण' श्रीदेवी! [3/5]

    रात के गहरे सन्नाटे में एक दैत्याकार काली गाड़ी दिल्ली की सुनसान सड़कों पर चली जा रही है. कैमरा किसी बाज़ या चील के पैरों में कस कर बाँध दिया गया हो जैसे. गाड़ी के ठीक ऊपर, उसी की रफ़्तार में उड़ा जा रहा है. एक तिराहे पर गाड़ी रूकती है, कैमरा भी ठहर गया है. ड्राइविंग सीट से एक आदमी उतर कर पीछे की तरफ चला जाता है. उसकी जगह अब दूसरे ने ले ली है. गाड़ी वापस उसी रफ़्तार, उसी मुर्दई के साथ चल पड़ी है. कैमरा भी. बैकग्राउंड साउंड सुनकर आपका दिल बैठा जा रहा है. आप अच्छी तरह जानते हैं, क्या होने वाला है? क्या हो रहा है? क्या होता आया है? अखबारों में पढ़ते आये हैं, 'चलती गाड़ी में गैंगरेप'. टीवी पर समाचारों में सुनते आये हैं, 'फिर शर्मसार हुई इंसानियत'; वही रटी-रटाई लाइनें, वही थकी-थकाई नाउम्मीदी में लिपटी प्रतिक्रियाएं, 'कोई सेफ नहीं आजकल'. बस्स. लेकिन जिस माकूल अंदाज़ से परदे पर रवि उद्यावर यह पूरा मंजर पेश करते हैं, डर भी लगता है और रोंगटे भी खड़े हो जाते हैं.

    तकलीफ़ की बात ये है कि रवि की ये कामयाबी सिर्फ और सिर्फ उनके 'सिनेमाई कौशल' के हक में गिरती है, और इंटरवल के पहले तक ही प्रभावित कर पाती है, बाकी का सारा आधा हिस्सा किसी बहुत ही औसत 'एक्शन फिल्म' की तरह शुरू होता है और ख़तम हो जाता है. शुक्र है कि इन दोनों, एक-दूसरे से इतने अलग हिस्सों में कोई तो है, जो अपनी खाल एक पल के लिए भी नहीं उतारता. 'मॉम' श्रीदेवी की 300वीं फिल्म है, और उन्हें परदे पर अदाकारी करते देख लगता है कि जैसे उनके लिए 'कट' की आवाज़ का कोई मतलब ही नहीं. एक बार जो किरदार में उतरीं, तो उसे किनारे तक छोड़ आने से पहले कोई 'कट' नहीं. फिल्म में ऐसे दसियों दृश्य हैं, जिनमें श्री जी को देखते-देखते आप किरदार याद रखते हैं, अदाकारी याद रखते हैं, फिल्म भूल जाते हैं.

    रवि उद्यावर अपनी पहली ही फिल्म में बड़े स्टाइलिश तरीके से एक 'इमोशनल थ्रिलर' के सारे हथकंडे आजमा लेते हैं. फिल्म के पहले हिस्से में उनकी समझदारी, उनके सिनेमा से पूरी तरह 'हैण्ड इन हैण्ड' चलती है, चाहे वो स्कूल में मोहित से देवकी का सामना हो, देवकी का आईसीयू में आर्या के सामने फूट-फूट कर रोना हो या फिर लोकल डिटेक्टिव डीके (नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी) के साथ इंटरवल का वो रोमांचक पल, जहाँ देवकी कहती है, "भगवान् हर जगह नहीं होते, डीके जी" और डीके जवाब देता है, "...इसलिये तो उसने माँ बनाई है". यहाँ तक की पूरी फिल्म जितनी ईमानदारी से थ्रिलर होने का फ़र्ज़ निभाती है, यहाँ के बाद उतनी ही बेशर्मी से कोई आम 'बदले की फिल्म' बन के रह जाती है. नवाज़ुद्दीन का किरदार बेवजह और बेवक्त का हंसी-मज़ाक पेश करने में उलझा दिया जाता है, जबकि इस तरह की फिल्म से उस तरह के हास्य की उम्मीद कोई करता भी नहीं. 'मैं भी अपनी माँ जैसा सिंगर बनना चाहता था' 'आपकी माँ गाती थीं?' 'नहीं, वो भी बनना चाहती थीं'. सच्ची? क्यूँ?

    अभिनय में; सजल अली बलात्कार-पीड़िता आर्या की भूमिका किसी बहुत ही माहिर अदाकारा की तरह पेश आती हैं. श्री जी के बाद वही हैं, जो फिल्म में कहीं कमज़ोर नहीं पड़तीं. अदनान सिद्दीकी (देवकी के पति की भूमिका में) पूरे ठहराव के साथ श्री जी का पूरा साथ देते हैं. नवाज अपने अलग लुक और हंसोड़ अंदाज़ से थोड़े वास्तविकता से दूर जरूर लगते हैं, पर फिल्म आगे चल कर जिस तरह का रुख ले लेती है, मज़ेदार भी लगते हैं. अक्षय खन्ना सिर्फ अपने चिर-परिचित अंदाज़ और स्टाइलिश लुक को ही चमकाते नज़र आते हैं.

    आखिर में, 'मॉम' एक औसत फिल्म है, जिसे श्रीदेवी के रूप में एक ऐसी कलाकार तोहफे में मिल गयी, जिसका आकर्षण, जिसकी अभिनय-क्षमता और कैमरे के साथ जिसके रिश्तों पर उम्र का कोई असर नहीं दिखता. फिल्म औरतों पर होने वाले अत्याचारों की बात ज़रूर करती है, लेकिन बड़े परिदृश्य में 'पिंक' की तरह किसी बड़े मुहिम की तरफ बढ़ने का इशारा भी नहीं करती. 'मॉम' के लिए न सही, श्रीदेवी के लिए देखिये. [3/5]

    ReplyDelete
  2. Superb movie. ..hats off to Sri devi and nawazuddin. ..go back srk and sallu. ..boycott them and support gud work.

    ReplyDelete
  3. awesome and worth watching movie... with Sridevi giving her best again

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top