Lipstick Under My Burkha Movie Review|Bollymoviereviewz
Wednesday, July 26, 2017

Lipstick Under My Burkha Movie Review

Lipstick Under My Burkha Movie Review 

Lipstick Under My Burkha Movie Review
Average Ratings: 3.37/5
Score: 87% Positive
Reviews Counted: 8
Positive:7
Neutral:0
Negative:1



Ratings:3.5/5 Review By:Rajeev Masand Site:News18
On the flip side, the male characters are almost all dominating and unsympathetic, thereby perpetuating the popular feminist stereotype of men. The film’s ending too comes off as contrived and clunky, one of the only bits that doesn’t ring true. But these are minor hiccups in a bold, honest film that hits the right notes. I’m going with three-and-a-half out of five for Lipstick Under My Burkha. It’s accessible and entertaining; that rare film about empowerment that delivers plenty laughs. Make sure not to miss it.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Anupama Chopra Site:Filmcompanion
These seemingly average women have rich inner lives, which grip you. But eventually Lipstick Under My Burkha trips on plot. Post-interval, the multiple story strands become more forced – a scene which reveals Leela’s mother’s job is especially jarring and the shoplifting sequences are unrealistic – Rehana steals clothes and shoes and noone notices. It all leads to a finale that feels both, a tad contrived and unsatisfying.Lipstick Under My Burkha has clumsy spots and contradictions. But there are moments here that you’ve probably never seen in a Hindi film.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Saibal Site:NDTV
Lipstick Under My Burkhabusts many a myth and serves the purpose of lifting the haze of prudery that generally surrounds the portrayal of women in Hindi cinema. It throws the whole shebang into the pot - the result is a big, big bang that is bound to ring in our ears for a long, long time.
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Sreehari Site:Rediff
Lipstick Under My Burkha touches, fleetingly, upon this aspect of female bonding that is removed from the compulsions of protesting.When the film is not making points, it has some life.When it goes off into conscious revolting, it's just distributing pamphlets.
Visit Site For More
Ratings:4/5 Review By:Nihit Bhave Site:Times Of India
A line from Zebunnisa Bangash-Anvita Dutt’s well-placed song Le Li Jaan goes, “12 takke byaaj pe, hassi hai udhar ki,” and the notion of this taxed independence is what defines the movie perfectly. Lipstick… may not drastically change things for women, but it’ll certainly smudge a few boundary lines.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Sweta Site:Hindustan times
With all the hue and cry around it, you would expect a film that is all about sex. Except, this isn’t. Lipstick Under My Burkha is a simple story about four women and their dreams - of financial independence, of becoming a singer, of moving to a big city and of simply, enjoying life. The fact that these desires remain hidden from the society makes their desires seem like adventurous trips. Lipsticks, in the film, are these desires while the patriarchal society is the Burkha. .
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Shubhra GuptaSite:Indian Express
A song I love goes: where do you go to my lovely, when you’re alone in your head? Lipstick Under My Burka takes us into that space, and lets its characters out, to start walking down forbidden paths, finding support in sisterhood, and in the recognition that we all have shades of Rosie in us. It is a film to be celebrated. Take a bow, producer Prakash Jha, director Alankrita Srivastava, and the entire cast and crew. And now excuse me while I go looking for my deepest, reddest lipstick.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Alankrita Site:Firstpost
So of course Lipstick Under My Burkha could potentially upset many, many people. It has the ability to grab a person by the collar, shake them up and make them feel unsettled even if they refuse to introspect. I am willing to bet that Pahlaj Nihalani’s Censor Board will not be the last conservatives unnerved by this feisty, disturbing yet celebratory film.
Visit Site For More



Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

Lipstick Under My Burkha Story:  

Set in the crowded lanes of small town India, a burkha-clad college girl struggles with issues of cultural identity and her aspirations to be a pop singer. A young two-timing beautician, seeks to escape the claustrophobia of her small town. An oppressed housewife and mother of three, lives the alternate life of an enterprising saleswoman. And a 55 year old widow rediscovers her sexuality through a phone romance. Trapped in their worlds, they claim their desires through secret acts of rebellion.

Lipstick Under My Burkha Release Date:

July 21, 2017 ( India)

 Director: Alankrita Shrivastava

 Producer:  Prakash Jha

Cast:
Konkona Sen Sharma
Ratna Pathak
Aahana Kumra
Plabita Borthakur
Sushant Singh
Vaibhav Tatwawaadi

Run Time:  2 hours and 29 Minutes


Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Lipstick Under My Burkha Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

6 comments:

  1. Abey Lipstick Under My Burkha nahin hogi to kya over the burkha hogi ,kaale burkhe par koi lipstick karey to kaise dikhai degi ,naam to thik se rakha hota ,aur waise bhi burkhe ke andar lipstick lagao ya koyla burkhe ke andar kya dikhai dega,dhakkan hain movie ka naam rakhne waala

    ReplyDelete
    Replies
    1. Hahahaha..... tumko samajh me kavi aaega bhi nhi ki aisa name kyu rkha gya h....

      Delete
    2. Hahah sahi bole. Use samajh nhi ayega kbhi

      Delete
  2. लिपस्टिक अंडर माय बुर्का:
    औरतों के 'सीक्रेट सपने' [3.5/5]

    मुझे रत्ती भर समझ नहीं आता कि किसी (पहलाज निहलानी) भी थोड़े-बहुत समझदार आदमी को अलंकृता श्रीवास्तव की फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का' से क्या परेशानी हो सकती है? अपने-अपने दौर में तमाम प्रशंसनीय फिल्में हैं, जिन्होंने परदे पर औरतों को मर्दों का 'साज़-ओ-सामान' बनाकर पेश करने से अलग, उन्हें खालिस औरत समझ कर उनकी निजी आशाओं-अपेक्षाओं और अधिकारों को तवज्जो दी. इस दौर की वैसी ही एक बेहद ज़रूरी फिल्म है, 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का', जो बड़ी दिलेरी से अपने हक का सवाल पूछती है, "आखिर आप हमारी आजादी से इतना डरते क्यूँ हैं?"

    बुआजी (रत्ना पाठक शाह) भजन-कीर्तन की उम्र में छुप-छुपा कर 'मसालेदार कहानियों' का मज़ा लेती हैं. उनकी कहानी की नायिका रोज़ी भी उन्ही की तरह प्यार ढूंढ रही है. महज़ आँखों-आँखों वाला प्यार नहीं, वो जिसमें कोई बंदिशें न हों, लाज-लिहाज़ न हो, वो जिसमें बेरोक-टोक जिस्मों के उतार-चढ़ाव नापे जा सकें. बुआजी विधवा हैं, ऊपर से उनकी उम्र; बाहर पैर रखना हो तो सत्संग के अलावा कोई और दूसरा बहाना भी क्या ही हो सकता है? रत्ना पाठक शाह इस किरदार की शर्म, झिझक, कसक और लालसा को चेहरे पे बखूबी पोत लेती हैं, और फिर जब एक के बाद उतारना शुरू करतीं हैं, तो आप के पास वाहवाही करने के अलावा कुछ और बचता नहीं.

    भोपाल के उसी तंग मोहल्ले में और भी 'रोज़ी'यां हैं. सब की सब एक दिन उड़ने का सपना पलकों में दबाये जिये जा रही हैं. 4 बच्चों की माँ शीरीन (कोंकणा सेन शर्मा) दिन में एक डोर-टू-डोर मार्केटिंग कंपनी में 'टॉप' सेल्सगर्ल है, पर घर में उसकी रातें अक्सर बिस्तर में पति के 'नीचे' घुटते-दबते-पिसते ही कटतीं हैं. पति (सुशांत सिंह) की मर्दानगी कंडोम न पहनने से लेकर दुबई से 'जब भी आना, एक बच्चा देकर जाना' तक के बीच ही सीमित रहती है. पास के पार्लर में वैक्सिंग कराते हुए लीला (आहना कुमरा) पूछ लेती है, "कभी प्यार से नीचे नहीं छूता न वो तुम्हें? कभी किस भी किया है?" शीरीन कराह पड़ती है, "सब जानती हो, तो पूछती क्यूँ हो?". कोंकणा की तड़प देखनी हो, तो उनके क्लिनिक वाले दृश्य को देखिये, जब वो अपने पति के कंडोम न पहनने की आदत को 'वो ज़ज्बातों में बह जाते हैं' कहकर छुपाने की कोशिश कर रही हैं.

    लीला (अहना कुमरा) की सगाई हो रही है. उसकी मर्ज़ी के बिना. सगाई की रात ही वो अपने विडियो-फोटोग्राफर प्रेमी (विक्रांत मैसी) के साथ एमएमएस बना रही है, "हरामी, स्साले! धोखा दिया ना, तो फेसबुक पे डाल दूँगी". लीला का सपना है, अपना खुद का बिज़नेस ताकि उसकी माँ को पैसे के लिए आर्ट-स्टूडेंट्स के सामने न्यूड पेंटिंग्स का 'मॉडल' न बनना पड़े. अहना बड़ी बेबाकी से अपना किरदार निभाती हैं, और अपने दृश्यों में एक ख़ास तरह की एनर्जी ले आती हैं. फिल्म में एक स्टूडेंट रिहाना (प्लबिता बोर्थाकुर) भी है. कॉलेज के मोर्चे में 'जीन्स का हक दो, जीने का हक दो' का झंडा बुलंद करती है, बैंड में माइली सायरस के गाने गाने गाती है, पर घर लौटने से पहले 'सुलभ शौचालय' में जाकर बुर्का पहनना नहीं भूलती. अब्बू की सिलाई की दुकान है, थोक में बुर्के सिलते हैं. उनकी ही बेटी बुर्का न पहनने, क़यामत न हो जायेगी, जैसे बेटी नहीं, उनके बुर्कों की 'ब्रांड-एम्बेसडर' हो.

    फिल्म अपनी पृष्ठभूमि तंग शहर भोपाल की ही तरह, अलग-अलग वर्ग की औरतों के उन तमाम मसअलों से ढूंस-ढूंस कर भरी पड़ी है, जिनपे चर्चा करने से हम मर्द भागते रहते हैं. प्यार, उम्मीदें, ज़ज्बात, जिस्मानी जरूरतें, बंदिशें, पहरे और वो सब जिनसे मिलकर एक लफ्ज़ बनता है, 'आजादी'. आज़ाद होने का, हदों को लांघने और बन्धनों को तोड़ने का ख़याल अलंकृता बड़ी चतुराई से फ्रेम-दर-फ्रेम अपनी फिल्म में पिरोती रहती हैं. परदे पर ऐसे कई सारे दृश्य हैं, जो आपको विचलित करने के लिए काफी हैं. लीला का एमएमएस वाला दृश्य हो, बुआजी का उनके स्विमिंग ट्रेनर के साथ फ़ोन-सेक्स या फिर शीरीन का पार्लर वाला दृश्य; 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का' परदे पे खुलने में थोड़ी भी झिझक नहीं दिखाती. हालाँकि कुछ गिनती के दृश्य जाने-पहचाने, देखे-दिखाए जरूर हैं, मसलन बुआजी का पहली बार मॉल में एस्केलेटर पर चढ़ना. एक बात और, यहाँ के मर्दों से कुछ भी अच्छा उम्मीद करना आपकी बेवकूफी होगी. फिल्म इस मामले में थोड़ी तो कंजूस और दकियानूसी होने का सबूत देती है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. What about DUNKIRK Mr Rai?

      Delete
    2. He gave 4.5/5 for Dunkirk

      Delete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top