Sarkaar 3 Review |Bollymoviereviewz
Sunday, May 14, 2017

Sarkaar 3 Review

Sarkaar 3 Review

 Average Ratings: 1.86/5
Score: 90% Negative
Reviews Counted: 11
Positive:1
Neutral:1
Negative:9






Ratings:2/5 Review By:Rajeev Masand Site:CNNNews18
Sarkar 3 is an improvement on many of Varma’s recent films, which, quite frankly, were unwatchable to say the least. Yet it’s steeped in familiarity and an overwhelming sense of repetition and pointlessness. Did we really need another Sarkar film? Sadly, the answer is no. I’m going with two out of five.
Visit Site For More
Ratings:1/5 Review By:Sreehari Nair Site: Rediff
his makes me wonder if Varma's ability for self-destruction was always built into his greatness.Satya ended with Varma talking directly to the audience as he scrawled out: 'My tears for Satya are as much as they are for the people he killed.'Here's what is paradoxical: For sheer power, no imagery he has thought up since beats that white text on black screen.In his interviews, you felt that there burned in Ram Gopal Varma a constant yearning to be viewed as an enigma.If it helps, he has now truly become one.
Visit Site For More
Ratings:1/5 Review By:Anupama Chopra Site:Filmcompanion
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Hungama Site: Bollywood Hungama 
SARKAR 3 being political, there is hardly any place for music (Ravi Shankar), except for a religious Ganpati aarti. The film’s background score is totally disconnected from the ongoings on screen.While the cinematography (Amol Rathod) is average, the film’s editing (Anwar Ali) is terrible. The film even suffers from poor dubbing at many places.On the whole, SARKAR 3 comes across as an old wine in a new bottle and offers nothing new to the audience. At the Box-Office, the movie will find it difficult to sustain and will end with a whimper.
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By:Raja Sen  Site:NDTV
I do hope this is the end of the Sarkar saga. We know Varma, with his incredible lack of self-importance and startling disregard for legacy, can make a sequel to anything. I wish merely for there to be some offers even he would refuse.The plotting is oafish, the character motivations are boringly shallow, and there seems to have been a catastrophic misreading of what palace politics entail. 
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Meena Iyer  Site:TOI
The brooding palette of shadow and light that has been the trademark of this franchise is retained, as is the Govinda chant that works as a terrific background score. The Ganesh-aarti rendered by Bachchan is spellbinding; the iconic actor is also in top form, mesmerizing you with his grey shades and grey irises. For his legion of fans, this one is an important outing. Amit, Manoj, Jackie and Ronit lend weightage. However, the actresses--Yami, Supriya and Rohini are short-changed.
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By:Shubhra Gupta  Site:indianexpress
Bachchan’s dialogue writers make a mistake here. They have given him very superficial lines. He keeps repeating lines such as ‘jaan se maar dunga’ and ‘main naatak kar raha tha’ which eventually dilutes the essence of him being a miser with words. It hampers his gravitas.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Rohit Vats  Site:hindustantimes
Bachchan’s dialogue writers make a mistake here. They have given him very superficial lines. He keeps repeating lines such as ‘jaan se maar dunga’ and ‘main naatak kar raha tha’ which eventually dilutes the essence of him being a miser with words. It hampers his gravitas.
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Surabhi Redkar Site:koimoi
For those who loved Sarkar, I bet Sarkar Raj was disappointing, well it continues to deteriorate from that film. Watch it if you’re an out and out Big B fan.
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Manjusha Radhakrishnan Site:Gulfnews
Varma sticks to business of creating a political quagmire filled with deceit, betrayal and double-crossing. The twists in the second-half in this thriller may not be mind-boggling, but it’s engaging enough to make us sit it out. But this whole drama may make you wonder if Sarkar, the commanding chief, should gracefully retire from the political scene? Just a thought.
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Anita Iyer Site:khaleejtimes.com
As it is a Ram Gopal Varma movie, you expect long dialogues, tight shots of random things like the puppy in Sarkar's living room, the Ganesha hanging on the wall, an extremely tight shot of Yami Gautam's eyes from the cup handles and many more. Apart from the superfluous shots, the film also has superfluous characters that don't add much to the storyline. But they do stretch the movie and it seems painfully slow in the second half.Watch the film if you are an Amitabh Bachchan fan as he doesn't fail you.
Visit Site For More


Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

Sarkaar 3  Story:  

Annu Karkare (Yami Gautam) conspires and attempts to avenge the death of her father, for which she blames "Sarkar" (Amitabh Bachchan). Juxtaposed with the situation is Sarkar's own personal battles with his volatile grandson Shivaji Nagre or "Cheeku" (Amit Sadh). Parallely the political and corporate diaspora pose threats to Sarkar's dominance. Assisted by his aide Gokul Satam (Ronit Roy), Sarkar deals with one of his greatest adversaries in the form of Michael Valya (Jackie Shroff) and the moody and seemingly violent politician Govind Deshpande (Manoj Bajpayee).

Sarkaar 3 Release Date:

May 12, 2017 ( India)

 Director:   Ram Gopal Varma

 Producer:  Rahul Mittra
Anand Pandit
Gopal Shivram Dalvi
Krishan Choudhary
WeOne

Cast:
Amitabh Bachchan as Subhash Nagre (Sarkar)
Manoj Bajpayee as Govind Deshpande
Jackie Shroff as Michael Vallya
Amit Sadh as Shivaji Nagre (Cheeku)
Yami Gautam as Annu Karkare
Ronit Roy as Gokul Satam
Parag Tyagi as Raman Guru
Bharat Dabholkar as Gorakh Rampur
Rohini Hattangadi as Rukku Bai Devi
Shiv Sharma as Mukul Shumpre

Run Time:  2 hours and 12 Minutes


Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Sarkaar 3 Review
  • Comments
  • Facebook Comments

2 comments:

  1. सरकार 3:
    कंपनी नई-माल वही! [1/5]

    ‘फैक्ट्री’ बंद हो चुकी है. ‘कम्पनी’ खुल गयी है. बाकी का सब कुछ वैसे का वैसा ही है. पुराने माल को उसी पुराने बदरंग पैकेजिंग में डाल कर वापस आपको बेचने की कोशिश की जा रही है. अपनी ही फिल्म के एक संवाद ‘मुझे जो सही लगता है, मैं करता हूँ’ को फिल्ममेकर राम गोपाल वर्मा ने अपनी जिद बना ली है. ‘सरकार 3’ जैसी सुस्त, थकाऊ और नाउम्मीदी से भरी तमाम फिल्में, एक के बाद एक लगातार अपने ज़माने के इस प्रतिभाशाली निर्देशक को उसके खात्मे तक पहुंचाने में मदद कर रही हैं. तकनीकी रूप से फिल्म-मेकिंग में जिन-जिन नये, नायाब तजुर्बों को रामगोपाल वर्मा की खोज मान कर हम अब तक सराहते आये थे, वही आज इस कदर दकियानूसी, वाहियात और बेवजह दिखाई देने लगे हैं कि दिल, दिमाग और आँखें परदे से बार-बार भटकती हुई अंधेरों में सुकून तलाशने लगती है. और ऐसा होता है, क्यूंकि रामगोपाल वर्मा के सिनेमा की भाषा अब बासी हो चली है. पानी ठहरा हुआ हो, तो सड़न पैदा होती ही है. अपने दो सफल प्रयासों (सरकार और सरकार राज) के बावजूद, ‘सरकार 3’ से उसी सड़न की बू आती है.

    अपने दोनों बेटों की मौत के बाद भी, सुभाष नागरे (अमिताभ बच्चन) का दम-ख़म अभी देखने लायक है. ठीक ‘सरकार’ की तरह, फिल्म के दूसरे-तीसरे दृश्य में ही नागरे एक बिज़नेसमैन का गरीब बस्तियों को हटाने के लिए करोड़ों का ऑफर ठुकराते हुए कहते हैं, ‘मैं नहीं करूंगा, और किसी को करने भी नहीं दूंगा’. इस बीच उनका पोता शिवाजी (अमित साध) भी लौट आया है. उधर विरोधी भी एकजुट होने लगे हैं. गोविन्द देशपांडे (मनोज बाजपेई) राजनीति के गंदे खेल का सबसे नया-नवेला चेहरा है. दुबई में बैठा वाल्या (जैकी श्रॉफ) अंडरवर्ल्ड की कमान संभाले है. साथ ही, शिवाजी की प्रेमिका अनु (यामी गौतम), जिसके पिता की हत्या सरकार ने करवा दी थी. षड्यंत्र और विश्वासघात से बुनी इस बिसात पर कोई नहीं कह सकता कि कौन सा मोहरा किस करवट बैठेगा? ‘सरकार 3’ एक बार फिर सरकार की सोच को सही साबित करने और उसकी शक्ति को बरक़रार रखने की लड़ाई है.

    फिल्म की सबसे कमज़ोर कड़ी है, फिल्म की बेतरतीब पटकथा और हद बनावटी संवाद. रामगोपाल वर्मा से बेहतर स्क्रिप्ट या कहानी की समझ रखना तो बेवकूफी है ही, इस बार फिल्म-लेखकों की टीम भी बुरी तरह निराश करती है. फिल्म का कोई भी हिस्सा आपको चौंकाने में सफल नहीं होता, बल्कि अपनी चौकन्नी समझ से आप खुद कदम-दो कदम आगे ही रहते हैं. फिल्म के संवाद बड़ी बेशर्मी से न सिर्फ अपने आप को दोहराते हैं, बल्कि सुनने में ही इतने बेस्वाद और बकवास लगते हैं कि कभी-कभी लगता है, उन्हें बोलते वक़्त अभिनेताओं की अपनी समझ कहाँ घास चरने चली गयी थी? मनोज बाजपेयी जैसे दिग्गज अभिनेता परदे पर 3 मिनट तक लगातार बोल रहे हों, और आप में तनिक भी जोश-ओ-ख़रोश पैदा न हो, तो गलती अभिनेता में नहीं, उन बेदम अल्फाजों में है जो आपने उन्हें परोसे हैं. फिल्म के शुरूआती दृश्य में ही, अमिताभ बच्चन परदे पर बूढ़े शेर की तरह दहाड़ रहे हैं, पर अफ़सोस! आपका ध्यान खींचने के लिए सिर्फ उनकी आवाज़ ही काफी नहीं है. ‘शेर की खाल पहन लेने से कोई कुत्ता शेर नहीं बन जाता’, ‘शेर कितना भी शक्तिशाली हो, जंगली कुत्ते मिलके शेर का शिकार कर ही लेते हैं’, ऐसे घटिया संवादों से भरी फिल्में मुझे वीसीआर के ज़माने में अच्छी लगती थीं.

    फिल्म का तकनीकी पहलू भी उतना आजमाया हुआ है. फिल्म के सेट पर मौजूद किसी भी चीज़ का वहाँ पाया जाना सिर्फ एक ही जरूरत पूरी करता है, कैमरे की फ्रेमिंग को लेकर रामगोपाल वर्मा का पागलपन. टेबल पर पड़ा चश्मा हो, हाथ में कॉफ़ी का मग, चाय का कप, फर्श पर पत्थर का बना कुत्ता, कोने में खड़ा ‘लॉफिंग बुद्धा’; कभी न कभी सबको कैमरे के सामने आना ही है, वो भी पूरे क्लोज-अप में. वर्मा जाने किस ग़लतफहमी का शिकार फिल्ममेकर हैं, जो आज भी जोशीले फिल्म-स्टूडेंट की तरह आईने में एक हल्का शॉट डिजाईन करते हैं, और खुद को के. आसिफ मान कर बैठ जाते हैं. मानो अपने हिस्से का ‘शीशमहल’ उन्होंने पा लिया. फिल्म का बैकग्राउंड स्कोर शोर-शराबे से भरा तो है ही, भड़काऊ भी है. जब भी आप सुनते हैं, आपको चीखने का मन करता है.

    फिल्म की दो ही अच्छी बातें है. एक तो अमिताभ बच्चन, जो 12 साल बाद भी सुभाष नागरे के किरदार में उसी शिद्दत से फिट हो जाते हैं, जैसे पहली वाली ‘सरकार’ में. दूसरा मनोज बाजपेयी की अदाकारी, खास कर उस दृश्य में जहाँ वो राजनीति की तुलना समंदर की लहरों के साथ करते हैं. उनके किरदार का पागलपन उस दृश्य में सम्मोहित कर देता है. वरना तो पूरी फिल्म में हर अभिनेता खराब अभिनय की दौड़ में एक-दूसरे से आगे निकलना चाहता है. हाँ, जाने क्यूँ जैकी श्रॉफ का किरदार हर वक़्त एक कम-अक्ल मॉडल के साथ दिखाया जाता है? यकीन नहीं होता, इसी रामगोपाल वर्मा ने ‘कंपनी’ में हमें मलिक (अजय देवगन) जैसा ज़मीनी गैंगस्टर भी दिया था.

    ReplyDelete
  2. Timesofindia always remain liberal and given up to 3 star even to shitty films.

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top