Begum Jaan Movie Review|Bollymoviereviewz
Monday, April 17, 2017

Begum Jaan Movie Review

Begum Jaan Movie Review

Begum Jaan Movie Review
Average Ratings: 2.35/5
Score: 40 % Positive
Reviews Counted: 10
Positive:4
Neutral:1
Negative:5





Ratings:2/5 Review By:Rajeev Masand Site:CNN News 18
Mukherji packs too much into this narrative with multiple secondary characters and their back-stories. The violent incidents and constant swearing come at you so often, you turn slightly numb.I’m going with a generous two out of five for Begum Jaan. There is a strong feminist statement here, but unfortunately, it’s drowned out by all the noise.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Taran Adarsh  Site: Bollywood Hungama
BEGUM JAAN has its share of shining moments. On the flip side, there are imperfections that are hard to ignore: On the whole, BEGUM JAAN has curiosity-value and shock-value, both. Despite minor hiccups, BEGUM JAAN is a compelling watch with a hard hitting narrative and bravura performances as its USPs. The moderate costing of the film should also ensure smooth sailing for its investors.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Anupama Chopra  Site:Filmcompanion
But this film is plagued by bigger problems – starting with the decibel level. This story is so inherently dramatic and soaked in symbolism that it needed a light hand. But Srijit doesn’t create one subtle moment in the 134-minute running time. Everything is underlined. Characters shriek, scream and snarl. The writing is over-wrought and bombastic. You can almost see the film straining to be important with a capital I.
Visit Site For More
Ratings:1/5 Review By:Raja Sen  Site:NDTV
Begum Jaan is a highly melodramatic film that waxes frequently on how Hindus and Muslims are the same beasts, but - at its core, under all the shrillness - it is a frustratingly straightforward film about an eviction being carried out.Begum Jaan could well have been a film about a fantastic bunch of feisty, disparate women taking on all odds, but alas. We're left only with memories of some melancholy bores.
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Sukanya Verma Site:Rediff
In its preoccupation with drama, Begum Jaan neglects to reveal its soul. As a consequence, you feel nothing for the characters, their cause or fate.Fuelled by stagy impulses till the end, its climatic crossfire is elaborate but of little value.The shabbily picturised sequence of women blindly firing into nowhere upholds Begum Jaan's flimsy, ill-defined rebellion where Mukherjee draws epic parallels to their resistance.
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By:Shubhra Gupta  Site:Indian Express
A plot that could have turned into a powerful allegory – you divide people at your peril, for no lasting gains – is run aground. And the climax is full of fire and faux brimstone and lots of speechifying, the ladies of easy virtue becoming a gun-toting ‘fauj’, before invoking a certain Rajasthani ‘rani’ who currently is the subject of a film with a troubled trajectory. Such a waste of a talented bunch of actors. And of Balan, who tries hard to invest some feeling into a role which turns into a cliché the moment the film opens.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Meena Iyer  Site:Times Of India
It’s a good period and story to revisit because even 70-years after Partition, anything around it still piques interest. Then again, here the narrative deals less with the horror of the divide and serves more as an ode to the spiritedness of Begum; widowed in her childhood and sold to a brothel. Also, Mukherji is revisiting his Bengali film Rajkahini
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Sreeju  Site: BollywoodLife
Begum Jaan held a lot of promise for me after that scintillating trailer. However, the movie failed to replicate the trailer’s tight framework, and instead, makes an overdramatic mess of such an important chapter in our history. It’s a pity since Vidya Balan is really good here, and the premise looks promising on paper. Avoid Begum Jaan, unless you have a thing for overdramatic fare.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Mayank  Site:Mid Day
This picture, though slightly low-budget, is more over-the-top, or bombastic, driven to much melodrama, in the interest of grabbing attention, and popular entertainment, as it were. The appropriate euphemism is more 'mainstream'.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review:Renil  Site:Firstpost
The dialogues are strong, painful and riveting. While all of these are beautifully done, and the performances are the biggest highlights, the problem for the viewer by the end of the first half is the different layers to the story, all going on concurrently, and the way they've been put together. It seems a tad abrupt, but this is not that huge of an issue. In fact, it may even add to the 'feel' of the film.
Visit Site For More

Also See Begum Jaan Box Office


Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

Begum Jaan Story:  

Eleven prostitutes refuse to part ways during the partition between India and Pakistan.

Begum Jaan  Release Date:

April 14 2017 ( India)

 Director:   Srijit Mukherji

 Producer:     Mukesh Bhatt,Vishesh Bhatt

Cast:
Vidya Balan
Ila Arun
Naseeruddin Shah
Rajit Kapoor
Ashish Vidyarthi
Vivek Mushran
Chunky Pandey
Gauahar Khan
Pallavi Sharda
Run Time:  1 hours and 39 Minutes


Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Begum Jaan Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

5 comments:

  1. बेगम जान:
    हो जाएगा, एक ‘रीमेक’ और लगेगा! [2/5]

    कोठेवालियां मुंहफट होती हैं. बेहयाई की हद पार करने में न आव देखती हैं, न ताव. अपनी पे आ जायें तो खुले-आम कपड़े उतार भी सकती हैं, और उतरवा भी. गालियों को रंग-बिरंगी लाली बनाकर होठों पे ऐसे सज़ा लेतीं हैं, जैसे उनके बिना इनका साज़-संवार पूरा ही नहीं होता. हिंदी फिल्मों में कोठेवालियों या रंडियों को सिर्फ और सिर्फ इन्हीं प्रतीकों, इन्हीं मापदंडों से नापे जाने की आदत बहुत पहले से हैं. हाँ, श्याम बेनेगल की ‘मंडी’ कुछेक ऐसे चंद नामों में से जरूर है, जो तासीर और तस्वीर दोनों में ढर्रे से बहुत अलग और बहुत आगे की फिल्में मानी जा सकती हैं. बहुत दुःख की बात है कि सृजित मुखर्जी की ‘बेगम जान’ पहले वाली ही कैटेगरी में ही अपना नाम दर्ज करा पाती है.

    ‘मंडी’ का जिक्र यहाँ और भी ख़ास इसलिए हो जाता है, क्यूंकि ‘बेगम जान’ अपनी कहानी का काफी हिस्सा ‘मंडी’ से ही ले आती है. समाज और सरकारों से अपने कोठे को छोड़कर कहीं और चले जाने का बेरहम फरमान, दोनों ही फ़िल्मों में कहानी की नींव बुलंद करते हैं. दोनों ही फिल्में औरतों के उस उपेक्षित तबके का संघर्ष परदे पर पेश करती हैं, जो सदियों से दबी-कुचली और मुख्यधारा से कटी-बंटी हैं. हालाँकि ‘बेगम जान’ में भारत-पाकिस्तान बंटवारे की त्रासदी का तड़का कहानी को और सनसनीखेज जरूर बना देता है, पर ‘मंडी’ की सटीक संवेदनाएं, ‘मंडी’ की सी साफगोई, ‘मंडी’ की सी धार को छू भर पाने में भी नाकामयाब रहता है. फिल्म के एक हिस्से में रुबीना (गौहर खान) अपने दलाल आशिक़ (पितोबाश त्रिपाठी) के हाथ अपने जिस्म पर फेरते हुए कहती है, “रुबीना मांस के इन लोथड़ों में नहीं हैं, रुबीना आँखों से बहते इन आंसुओं में है.” काश, फिल्म खुद अपनी इन लाइनों को समझने का माद्दा दिखा पाती. बदन उघाड़ कर दिखाने की बैसाखी छोड़ कर, जिस्मों की छाल के भीतर का दर्द कुरेदने की हिम्मत जुटा पाती!

    ‘बेगम जान’ सृजित मुखर्जी की अपनी ही बंगाली फिल्म ‘राजकहिनी’ का रीमेक हैं. फिल्मों को ‘फ्रेम टू फ्रेम’ दुबारा बनाने का चस्का जाने कब रुकेगा? वो भी तब, जब उसमें आपका ‘वैल्यू एडिशन’ जीरो के बराबर हो. इस फिल्म से ‘भट्ट कैंप’ अपनी रिहाई तलाश रहा है. बेहतर होता, अगर सब कुछ ‘ज्यों का त्यों’ दुबारा गढ़ने के बजाय, लेखन और निर्देशन में नए नजरिये तलाशने की कोशिश की गयी होती. फिल्म एक साथ बहुत सारी बातों को इशारों-इशारों में एक के बाद एक बिना रुके पिरोती जाती है. बेगम जान (विद्या बालन) का कोठा अक्सर देश की तरह सुनाई देने लगता है, जब वहां रहने वाली हर लड़की अलग-अलग बोली बोलते नज़र आती है. कहने में भले ही बहुत भावुक लगता हो, परदे पर सुनने में ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ जितना ही चिड़चिड़ाहट भरा. ऐसा ही एक प्रयोग सृजित, भारत-पाकिस्तान के दो अधिकारियों (आशीष विद्यार्थी और रजित कपूर) के बीच की बातचीत के वक़्त करते हैं, जब परदे पर बारी-बारी से दोनों के चेहरे सिर्फ आधे-आधे ही दिखाई देते हैं. बंटवारे का दर्द चेहरे बाँट-बाँट कर दिखाने का ये बचकाना प्रयोग बार-बार दोहराया जाता है, जब तक आप ऊब कर इधर-उधर न देखने लगें.

    कास्टिंग के नजरिये से, फिल्म बेहद दिलचस्प है. कोठे की मालकिन की भूमिका में, विद्या बालन शुरू-शुरू में तो अपने तेज़-तर्रार, अक्खड़ और बेबाक किरदार को बड़े सलीके से निभाती हैं, पर अंत तक आते-आते उनमें न जाने कौन सी बिजली दौड़ने लगती है कि उनकी बदहवासी धीरे-धीरे नाटकीयता की सारी हदें पार कर जाती है. शबाना आज़मी मोड में तो वो कभी नहीं रहीं, पर अपने आप के अभिनय मापदंडों को भी भुलाने में उन्हें ज्यादा देर नहीं लगती. गौहर खान, पल्लवी शारदा और आखिर के कुछ दृश्यों में रिद्धिमा तिवारी अपना काम अच्छे से कर जाती हैं, और शिकायत का मौका नहीं देतीं. इला अरुण और दंगाई कबीर की भूमिका में चंकी पाण्डेय हैरान कर देते हैं.

    सृजित शुरुआत में ‘बेगम जान’ मंटो और इस्मत चुगताई को समर्पित करने की ढिठाई दिखाते हैं, और ‘वो सुबह कभी तो आएगी’ से ख़तम करने की सीनाजोरी. दोनों लेखकों को जिसने पढ़ा हो, वो बिना कहे समझ पायेगा कि बॉलीवुड इन दोनों का कैसे और कितना गलत इस्तेमाल कर सकता है? बंटवारे और वेश्याओं का जो कुछ भी सनसनीखेज दिखावा परदे पर बन सकता था, सृजित सब कुछ कर गुजरते हैं. इतना ही नहीं, इतिहास के पन्नों से ढूंढ-ढूंढ कर रानी लक्ष्मीबाई, रज़िया सुल्ताना जैसी वीरांगनाओं का भी सहारा ले लेते हैं, पर अफ़सोस, ‘बेगम जान’ कहती कम है, शोर-शराबा ज्यादा करती है, दिखावों में उलझ कर रह जाती है, यहाँ तक कि उसके बलिदान में भी आपको अपनी ‘मुक्ति’ ज्यादा नज़र आती है...2 घंटे 14 मिनट के इस ‘ड्रामे’ से! किस्मत सृजित का साथ दे, तो तीसरी बार शायद अच्छी बन जाये! [2/5]

    ReplyDelete
  2. Heavy drama unnecessarily, could have been better,

    ReplyDelete
  3. Heavy drama unnecessarily, could have been better,

    ReplyDelete
  4. It is a Great Movie by all aspects. The Direction & Acting, Screenplay all are up to the mark. Even Srijit has done better than Bengali version RAJKAHINI. Only thing we miss RITUPARNA SENGUPTA as BEGAMJAAN,,my rating 4.5 OUT OF 5

    ReplyDelete
  5. great movie, great acting , my rating 4.5 out of 5

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top