Naam Shabana Movie Reviews|Bollymoviereviewz
Monday, April 3, 2017

Naam Shabana Movie Reviews

Naam Shabana Hindi Movie Review

Naam Shabana Hindi Movie Review
Average Ratings: 2.2/5
Score: 40 % Positive
Reviews Counted: 11
Positive:4
Neutral:1
Negative:6



Ratings:2/5 Review By:Rajeev Masand Site:CNN News 18
But as it turns out Naam Shabana – never mind how you describe it; as a prequel, a spin-off, or an origin story – is a plodding bore of a film.It’s a shame because there’s so much potential here. What there isn’t, unfortunately, is an adequately fleshed out plot. The problem at the root of this film is that it literally offers nothing new, other than the idea of a woman who knows her way around a fight. The plot is predictable from the word go, and yet it unfolds over an excruciating two-and-a-half hours.
Visit Site For More
Ratings:-- Review By:Taran Adarsh  Site:Twitter
Taapsee is terrific in #NaamShabana... But the film lacks the bite and punch of #Baby. Engaging in parts only... Writing plays spoilsport...#NaamShabana lacks the thrill + nail-biting finale of #Baby. Manoj Bajpayee, Prithviraj are super. Akshay interval point intro fantastic..NaamShabana could've been an edge of the seat thriller, but misses the bus... Lack of major releases might help at BO.
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Anupama Chopra  Site:Filmcompanion
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Saibal  Site:NDTV
Had Naam Shabana been focused more on the job doled out to the female protagonist than on her motivations beyond the personal and professional pale, it might have whipped up some genuine steam. The film is far too intent on underlining the centrality of country and honour to be able to bring into sharper relief the life and strife of a female spy. Naam Shabana, for all its avowed aspirations, it rarely ventures beyond the trite and tested. Watch it only if standard-fare action dramas do not put you off.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Meena Iyer  Site:TOI
Blame this prequel on the media. Most critics who saw Neeraj Pandey’s action-drama, Baby (2015) praised agent, Shabana’s cameo in it. Her brisk action-sequence in a Kathmandu hotel room, when accompanying Ajay Singh (Akshay Kumar) on a mission, provided the required adrenaline-rush. Taking the praise to their heart, this time around, the makers dedicated 148 mins, (really?) to the spunky agent. Sorry, but the running time is the film’s first inherent flaw. Frankly, Shabana shone in Baby because she was in a cameo. Someone missed the point, guys.
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By:Shubhra Gupta  Site:Indianexpress
What does come as a surprise, however, is just how much of a drag the film is. Except for a few stray sequences in which the limber Taapsee Pannu goes after the bad guys, and the ones in which co-star Akshay Kumar moves in to demonstrate how the big boys do it, there is nothing either novel or interesting about the film.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Sreeju  Site:Bollywood Life
Watch Naam Shabana purely for Taapsee Pannu’s fine performance and Akshay Kumar’s enjoyable cameo, and also if you loved Baby too much. Just don’t go into theatre expecting another quality stuff like Baby, even if the movie forces us to draw comparisons.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Kunal Guha  Site:Mumbai Mirror
Pandey sticks to the tropes to keep audiences involved if not consistently interested in the proceedings. But Nair's interpretation dilutes Pandey's vision to some extent as the film could've done better if it were a bit more tense and tighter.So, if you're up for a flick about a lady agent kicking serious behinds, this could float your boat. Even otherwise, it's worth a watch.
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Mayank Shekhar  Site:Mid day
Pandey has written this prequel, split into two totally separate films. And to be fair when the movie does cut to the chase eventually, to chase down the villain, some of the thrills do kick in. Sadly you've polished off your popcorn tub already, taking in the corniness until that point

Visit Site For More
Ratings:1/5 Review By:Khalid Mohammed  Site:SpotBoye
Devoid of a smidgen of slickness, a must for thrillers, the outcome is like being held captive in a torture chamber, aggravated by the pounding background music, tacky set décor, the usual aerial shots, papyrus-thin plot and humdrum direction.For the rest of the way, Bollywood’s retort to the genre of Bondish and Bourne Ultimatumish movies, is a pain. Pure brain drain.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review:Hungama  Site:Bollywoodhungama.
On the whole, NAAM SHABANA is a well-made thriller with two contrasting storylines in the film’s two halves playing the spoilsport. However, given the strong brand value of BABY, decent interest quotient and lack of opposition at the Box-Office, will work out to be a huge advantage for the film. At the Box-Office, it will do decent to good business.
Visit Site For More

Compare With Baby Review

Also See Naam Shabana Box Office

Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

Naam Shabana   Story:  

A secret agent (Taapsee Pannu) seeks revenge for the murder of the man she loved.

Naam Shabana  Release Date:

March 31 2017 ( India)

 Director:   Shivam Nair

 Producer:    Neeraj Pandey, Shital Bhatia

Cast:
Taapsee Pannu
Akshay Kumar
Prithviraj Sukumaran
Manoj Bajpayee
Anupam Kher
Danny Denzongpa

Run Time:  2 hours and 18 Minutes


Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Naam Shabana Movie Reviews
  • Comments
  • Facebook Comments

8 comments:

  1. नाम शबाना:
    ‘पुअर बेबी’! [2/5]

    देश की सुरक्षा का ज़िम्मा जितना सीमा पर तैनात सेना के जाबांजों का है, उतना या उससे थोड़ा सा ज्यादा ही ऐसी गुप्तचर सुरक्षा एजेंसियों का भी, जिन्हें गुमनामी के अँधेरे में रहकर हर पल खतरे के साये में जीना और मरना मंजूर होता है. नीरज पाण्डेय की ‘बेबी’ अगर आपने देखी हो, तो इन ‘अंडरकवर’ लड़ाकों के काम करने के तरीकों को तो अब तक आप जान ही गए होंगे? ‘नाम शबाना’ थोड़ा पीछे जाने की कोशिश करती है, कहानी के साथ भी और इन सीक्रेट एजेंट्स को चुने जाने की कड़ी कार्यवाही को सामने रखने के साथ भी. बहुत हैरतअंगेज़ है सब कुछ, एक ऐसी रहस्यमयी दुनिया, जहां फिल्मों की मानें तो 5 साल से एक ऐसी लड़की (तापसी पन्नू) पर पल-पल नज़र रखी जा रही है, जो अपने शराबी बाप की गैर-इरादतन हत्या के अपराध में सज़ा भुगत चुकी है. नज़र रखने वाले ने लड़की के जाने कितने फोटोग्राफ्स खींचे होंगे इस दरमियान? ऐसी दुनिया में आपका उम्रदराज़ केबल वाला (वीरेंद्र सक्सेना) भी ‘रॉ’ का एक अच्छा-खासा सीनियर टाइप ट्रेनर निकल सकता है, इसीलिए जब वो फ़ोन पर कहे, “मैडम, नया स्कीम चाहिए?’ तो ‘हाँ’ या ‘ना’ बोलने में पूरा वक़्त लीजिये, क्यूंकि बात सिर्फ आपके केबल कनेक्शन की नहीं है, सवाल सीक्रेट एजेंट के तौर पर आपके कैरियर का भी है.

    हालाँकि चौबीसों घंटे ‘राष्ट्रीय सुरक्षा’ का जाप करने वाली ये ‘एजेंसी’ अपनी एक उम्मीदवार और उसके साथी पर हो रहे जानलेवा हमले में सिर्फ इसलिए दखल नहीं देती क्यूंकि अभी तक वो उनकी ‘अपनी’ नहीं हुई है, पर उसी जानलेवा हमले का बदला लेने के लिए क़ानून की हद से आगे बढ़कर, उसे कातिल बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ती. जाहिर है, इस दुनिया के अपने कायदे क़ानून हैं, और इस फिल्म की स्क्रिप्ट में जरूरत से कहीं ज्यादा ‘कॉमन सेंस’ की कमी. ‘बेबी’ में तापसी की किरदार शबाना खान महज़ 20 मिनट के लिये परदे पर आती है, और अपने हाव-भाव-ताव से ताकतवर मर्दों से भरे उस फ्रेम में अपनी जगह बहुत दिलेरी से छीन लेती है, बना लेती है. ‘बेबी’ में शबाना के उस 20 मिनट वाले रुतबे तक पहुँचने में ‘नाम शबाना’ ढाई घंटे तक का वक़्त खर्च कर देती है, और फिर भी उसे छू पाने का दावा पेश नहीं कर पाती. जहां नीरज पाण्डेय की स्क्रिप्ट कहीं भी अपने आप को गंभीरता से नहीं लेती, वहीँ अपने ढीले-ढाले निर्देशन से शिवम् नायर पहले तो फिल्म का पूरा पहला हिस्सा सुरक्षा एजेंसी से दूर-दूर रह कर शबाना के निजी जिंदगी में झाँक-झांक कर निकाल देते हैं और उसके बाद, जब रोमांच का सारा खेल गढ़ने की बारी आती है तो बेवजह के ‘ट्विस्ट’ परोस कर (प्लास्टिक सर्जरी से चेहरे बदल लेने वाला विलेन, पृथ्वीराज सुकुमारन) और ‘बेबी’ के किरदारों का अधपका हवाला देकर (...और सर, ऑपरेशन बेबी कहाँ तक पहुंचा?) मनोरंजन की नैय्या पार लगाने की कोशिश करने लगते हैं.

    न चाहते हुए भी मानना पड़ता है कि फिल्म में तापसी स्क्रीन पर भले ही सबसे ज्यादा वक़्त के लिए दिखाई देती हों, भले ही उनकी मौजूदगी परदे पर जरूरी रोमांच बनाए रखने में सौ फीसदी सही साबित होती हो; नीरज पाण्डेय की चलताऊ स्क्रिप्ट उन्हें अक्षय कुमार के किरदार से आगे न निकलने देने के लिए बार-बार रोकती है. शबाना जब-जब मुसीबतों में घिरती नज़र आती है, अक्षय का किरदार उसे बांह पकड़ कर खींचता हुआ बाहर ले आता है. मुश्किलें जैसे जान-बूझकर आसान ही रखी गयी हों, क्योंकि फिल्म की हीरो तापसी हैं, अक्षय नहीं. शबाना को सुरक्षा एजेंसी तक लाने वाले अफसर की भूमिका में मनोज बाजपेई जंचते हैं, पर उनके किरदार की तह में जाने के लिए शायद एक और ‘स्पिन-ऑफ’ की जरूरत अलग से पड़े. कास्टिंग के नजरिये से फिल्म में दो अभिनेताओं को बड़ी चतुराई से उनके किरदार के लिए चुना गया है. शबाना के बॉयफ्रेंड की भूमिका में ताहेर शब्बीर जैसे मेहनती, पर कम तजुर्बे और सीमित अभिनय वाले नए कलाकार को, ताकि तापसी का किरदार उभर कर सामने आये...और विलेन के तौर पर, पृथ्वीराज सुकुमारन. पृथ्वीराज की मौजूदगी फिल्म के पोस्टर और कैनवस को जरूर बड़ा करती है, पर उन जैसे मंजे अभिनेता को इस तरह के वाहियात किरदारों में इस्तेमाल कर बॉलीवुड सिर्फ अपना ही नुक्सान कर रहा है.

    आखिर में, ‘नाम शबाना’ अपनी अधपकी, कच्ची, बचकानी स्क्रिप्ट और दकियानूसी निर्देशन से सही मायनों में ‘बेबी’ की ‘प्रीक्वल’ ही लगती है. ऐसी ‘प्रीक्वल’ जो दो साल बाद नहीं आई हो, दो साल पहले आई हो. ऐसी ‘प्रीक्वल’ जो अपने इरादों में ही इतनी कमज़ोर, इतनी सुस्त लगती है कि उसमें ‘बेबी’ का बेंचमार्क छूने भर लेने तक का भी कोई जज़्बा नहीं बचता. फिल्म में एकाउंट्स पढ़ाने वाले मोहन कपूर की भाषा में कहें तो, “बेबी’ अगर संपत्ति (asset) है तो ‘नाम शबाना’ देनदारी (liability)”! [2/5]

    ReplyDelete
    Replies
    1. I'm from Algeria I love your reviews but now you write them in hindi so I can't understand them

      Delete
  2. Nice movie.Dont believe the review
    Just go n watch the film
    3.5

    ReplyDelete
  3. Naam Shabana Movie Review- Instead of Naam Shabana they would have made Sar Dabaana ya jo dikhaye uska gala dabana, Taapsee ki vaapse movie se nahin hui jo 20 Min ka role baby mein kia tha waisa role nahin hai, baaki Screenplay itna slow hai ki movie badhti hi nahin hai,Direction kisi Non Experience director kaa hai ,Ovearll Naam Shabana will be a Flop of 20-25 Crore,

    ReplyDelete
  4. Are bhai etani fursat kaha se milati esi bakvas likhne k liye......i love this movie....

    ReplyDelete
  5. Not a good movie from neeraj. Tapsee acting as the core character her performance was fine.akshay and anupam kher characters are for satellite and marketing.Plot of the movie is poor from the beginning of the movie the story is predictable.cant believe it is a movie from the director of special 26,baby,a Wednesday..Worst movie from neeraj pandey..
    5.7/10

    ReplyDelete
    Replies
    1. Actually its just produced by him

      Delete
  6. Nice movie.Don't believe the review
    Just go n watch the film
    4/5

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top