Badrinath Ki Dulhania Movie Review|Bollymoviereviewz
Tuesday, March 14, 2017

Badrinath Ki Dulhania Movie Review

Badrinath Ki Dulhania Movie Review

Badrinath Ki Dulhania Review
Average Ratings:3/5
Score:92% Positive
Reviews Counted:13
Positive:11
Neutral:1
Negative:1




Ratings:2.5/5 Review By:Rajeev Masand Site:CNN News18
Badrinath Ki Dulhania isn’t merely interested in being a breezy rom-com. Admirably, it’s also a critique on the dowry system, and makes a strong case for a woman’s right to choose career over marriage. Unfortunately some of this is communicated in a tone that’s too heavy-handed, and as a result you’re easily bored. Badrinath Ki Dulhania has its heart in the right place, but its writing is often clumsy. There is a lot to appreciate here, but it’s also overlong and made me restless. I’m going with two-and-a-half out of five.  
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Anupama Chopra Site:FilmCompanion
Shashank clearly establishes that Vaidehi is a hero – she takes tough decisions in the pursuit of her dreams. But he also gives us a hero who learns the true definition of masculinity. It isn’t the toxic aggression that his overbearing father preaches. It’s the strength to respect her choices. Of course the story stays simplistic and sunny – when Vaidehi breaks the rules, there are disturbing threats of violence but the darkness dispels quickly. Which is not a bad thing. Think of Badrinath ki Dulhania as a dose of feminism-lite. I was smiling through the film.  
Visit Site For More
Ratings:-- Review By:Komal Nahta Site:Zee ETC Bollywood Business
On the whole, Badrinath Ki Dulhania is a hit. It has entertainment for the masses and the classes, for the young and the old, for the girls and the guys, for the big as well as the small centres and for the multiplex audience as well as for the single-screen cinema audience. It will keep the producers, distributors and exhibitors smiling from ear to ear.  
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Raja Sen Site:Rediff
The film's first half might be set in small towns, but there is no earthiness or texture. And while the idea of toppling the patriarchy is admirable, Badrinath Ki Dulhania aims these guns too literally: every single father in this film is a gruff monolith incapable of conversation, and must thus be eventually defied. It is a film, in short, with daddy issues. What makes it work, really, is the intent and the two principal actors.  
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Saibal Site:NDTV
Jhansi and Kota might not derive any benefits from being at the heart of this flimsy film. But Frankfinn Academy and Singapore's Silk Air stand a good chance. Both entities are given heightened play in Badrinath Ki Dulhania. As for the film itself, it runs into an air-pocket of mediocrity and never finds its way out of it. Hop aboard only if you have no option.  
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Hungama Site:Bollywood Hungama
Shashank Khaitan (after having directed HUMPTY SHARMA KI DULHANIA) springs up yet another winner in the form of BADRINATH KI DULHANIA, a film that sees him improved immensely as compared to his last film.On the whole, BADRINATH KI DULHANIA is a beautifully textured love story and an enjoyable entertainer that wins you over and keeps you hooked right till the end. At the Box-Office, it will be a sure-shot success. Do not miss it.  
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Nihit Site:Times Of India
Through Vaidehi, the movie checks all the important boxes: gender issues, feminism, consent, etc. But the story is treated so stylistically (with elaborate song sequences and flashbacks and cinematic moments) that it loses heat.The runtime doesn’t help either. This is a story with an obvious climax, so sitting through two and a half hours to find out what you already know might get uncomfortable. But the breezy vibe of the movie and back-to-back hilarious lines should get you through it.  
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Shubhra Site:Indian Express
The post-interval part is marred by a huge contrivance and turns into a bit of a meander, and there are some portions which are bunged in as set-pieces, instead of moving organic parts. A couple of times, the film’s let’s hear-it-for-the-ladies comes off as simplistic, but overall, the film works as a flavoursome romance with a pair which grows into each other, and with each other. I’m happy to cheer any film which tacks on the word ‘respect’ with ‘love’, and does a take-down of patriarchy, even if it’s all broad brush-stroked.  
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:RashmaSite:Bollywood Life
The film has a good blend of comedy and drama. Despite a comic touch to his role, Varun manages to make you feel for his character. This is a movie where Dhawan Jr is the most endearing. And yes, the Tamma Tamma song is placed at the perfect point, just before the filmmaker is about to lose out interest that is.The movie could have been edited better. The climax is almost like the makers were in a hurry to sum up their film. It’s shoddy and a very strong message gets lost.  
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Tushar Site:DNA
Badrinath Ki Dulhania is light, entertaining and likeable. Varun Dhawan and Alia Bhatt prove that on screen chemistry can be enough sometimes to keep you engaged in an average plot with a predictable narrative.  
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Lokesh Site:Masala
Badrinath… stretches post interval and the much-awaited Tamma Tamma Loge song appears towards the end. The film twists towards the end when Badri’s character changes from being totally patriarchal to understanding the challenges of women and then, accosting his father. It ends as being idealistic but takes forward the cause it espouses. Varun is endearing and earnest and shines in the role matching it with Alia’s luminous presence and histrionics. Succinctly put, it is a Varun Dhawan film and adds to his repertoire of memorable roles.  
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Surbhi Site:Koimoi
Badrinath Ki Dulhania‘s rom-com with a message format is likable. Alia-Varun once again show, they are the new-age Raj-Simran Badrinath Ki Dulhania is a suitable watch for those who enjoy Bollywood rom-coms. It will make up for a perfect breezy watch for the weekend. 
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Manjusha Site:Gulfnews
The first half of the film moves at a brisk pace, while the second half gets bogged down by an overly long stretch about Vaidehi’s profession as an air hostess.However, it’s the chemistry between the lead pair is what keeps you hooked to this romance. But just like a big fat Indian wedding, there’s a bit of colour, dance, music and loads of drama thrown into Badrinath Ki Dulhania. Take the plunge with Dhawan and Bhatt. Their combined acting skills and comic timing will make it an enjoyable affair.  
Visit Site For More

Compare with Humpty Sharma Ki Dulhania Review

Also See Varun Dhawan Upcoming Movies  & Badrinath Ki Dulhania Box Office

Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office

Badrinath Ki Dulhania Story:  

A man (Varun Dhawan) and a woman (Alia Bhatt) fall in love despite their opposing views on gender and life in general.The film is more than just your boy meets girl love story. It is the coming together of raw and refined with a touch of desi-pan and a hatke definition of pyaar.

Badrinath Ki Dulhania Release Date:

March 10 2017 ( India)

 Director:   Shashank Khaitan

NDTV Producer:    Karan Johar

Cast:
Varun Dhawan as Badrinath Bansal
Alia Bhatt as Vaidehi Trivedi
Aakanksha Singh As Kiran
Gauahar Khan as Laxmi Shankar
Shweta Basu Prasad as Urmila
Puneet Singh Ratn as Dev

Run Time:  2 hours and 19 Minutes


Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Badrinath Ki Dulhania Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

11 comments:

  1. Saibal Chatterjee NDTV Why u haven't posted his review 2/5

    kjo ne sab critics ko rupey de diye hai.

    Isi liye Saibal Chatterjee NDTV review nahi bataya

    Kjo(gay) kabhi nahi sudhrega sala.

    ReplyDelete

  2. bakwas critics. kuch bhi rating de dete hai.

    Indicine 4/5 diya hai aur bola hai picture mein koi fault nahi hai

    pros : hai
    cons : koi nahi hai

    10 star movie ko dena chahiye...lmao.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bro. Who will believe that ghatya website indicine? Worst website ever in web is indicine.

      Delete
  3. Rihaan- viaan critics ... बद्रीनाथ की दुल्निया हम्पटी शर्मा की दुल्हनिया का सिक़ुअल है ! मूवी एक मध्य वर्गीय परिवार की जिंदगी को दिखाती है ! जो बहुत से दर्सको को सीधे तोर से जोडती है ! ये मूवी समाज के दर्द ,दहेज़ और महिला के सपनो के उड़ान पर पाबंदी है ! और समाज में विवहा को एक बोज्ज के तोर पर जोडती है ! इस मूवी के massage को डायरेक्टर समझा नहीं पाया या वह समझाना नहीं चाहता था लेंकिन डायरेक्टर शंशांक खेतान ने इस मूवी में एक अछि लव स्टोरी दिखाई जो दर्शको को अच्छी लगी !
    मूवी की शुरूवात एक बहुत फल्लो में होती है जो वरुण धवन के कंधो पर टिक्की दिखाई देती है वरुण धवन की up की भाषा पे शुरू से ही पकड़ काफी अच्छी है ! कहानी में बद्रीनाथ के पापा को महिला की मरियादा के नाम पर जकड कर रखने की सोच से पीड़ित है जिसमे उसमे आदर्शो को छोड़कर सभी की जिंदगी पिसती रह्ती है ! अलिया भट्ट अपनी गल्मेर्स छवि को तोड़कर अपने चर्क्टेर के साथ न्याय कर रही है और वो मूवी के इमोशनल सीन में अपने अभिनय से काफी गंभीरता दिखा रही है ! अलिया भट्ट और उनकी बहन के बीच का सपनो की उड़ान वाला एक संवाद फिल्म को एक गहराई देता है ! बद्री के दोस्त सोमवीर पर कॉमेडी की जिमेदारी उन्ही के कंधो पर होती है ! सोमवीर व अलिया भट्ट की बहन की शादी को लेकर बहुत ही हँस्य बनाये गए जो दर्शको को काफी पसंद आता है ! वरुण व उनके भाई का दोस्ताना अंदाज काफी अच्छा है ! वरुण धवन फिल्म में काफी उर्जावान नजर आते है और उनका अभिनय काफी अच्छा रहा ! और अलिया और वरुण के बीच की चेम्स्ट्री काफी अच्छी है !
    इंटरवेल से पहले तक फिल्म एक बहुत ही अच्छी तेज रफ़्तार से चलती है और उसमे दहेज़ और एक महिला के सपनो की उड़ान पर लगी बंदिशे और उसे तोड़ने की एक कसक मूवी को एक नयी उचाई तक पहुंचा देती है

    सेकंड पार्ट की बात की जाये तो फिल्म एक रफ़्तार के साथ शुरू होती है लेकिन आगे की फ्रेमो में एक अछे entertenment की कमी महसूस होती है और मूवी के इस पार्ट में पंच कॉमेडी कम और दर्शय कॉमेडी जयादा है इस पार्ट में एक लव एंगल दिखाया गया है जो ठीक -ठाक है लेकिन धर्मा paroduction की फिल्म होने के नाते मूवी के लव एंगल में करण जोहर नुमा बात नहीं थी !
    मूवी के पहले पार्ट में जो सामाजिक मुदा उठाया गया था वो पुअरन्तः भूल गए और सामाजिक तोर पर देखा जाये तो मूवी का क्लिमेक्स ठीक नहीं था क्यूंकि मूवी के लास्ट में बद्री के पापा का पक्ष नहीं रखा गया और लव एंगल के तोर पर देखा जाये तो मूवी का क्लिमेक्स अच्छा था जिसमे वरुण और अलिया की क्यूट सी लव स्टोरी दिखाई गयी है ! !
    मूवी की एडिटिंग ठीक- ठाक थी
    Background score ठीक था लेकिन करण जोहर वाली बात नहीं मिली !
    Cinemetogarphy बहुत अच्छी थी खासकर सेकंड पार्ट में !
    हमसफ़र song मूवी में लव एंगल ले तोर पर काफी इमोशन देता हुआ नजर आया मूवी के सारे गाने सुपर हिट थे और दर्सको की जुबान पे पहले ही चढ़ चुके थे !!

    ReplyDelete
  4. Rihaan- viaan critics ... बद्रीनाथ की दुल्निया हम्पटी शर्मा की दुल्हनिया का सिक़ुअल है ! मूवी एक मध्य वर्गीय परिवार की जिंदगी को दिखाती है ! जो बहुत से दर्सको को सीधे तोर से जोडती है ! ये मूवी समाज के दर्द ,दहेज़ और महिला के सपनो के उड़ान पर पाबंदी है ! और समाज में विवहा को एक बोज्ज के तोर पर जोडती है ! इस मूवी के massage को डायरेक्टर समझा नहीं पाया या वह समझाना नहीं चाहता था लेंकिन डायरेक्टर शंशांक खेतान ने इस मूवी में एक अछि लव स्टोरी दिखाई जो दर्शको को अच्छी लगी !
    मूवी की शुरूवात एक बहुत फल्लो में होती है जो वरुण धवन के कंधो पर टिक्की दिखाई देती है वरुण धवन की up की भाषा पे शुरू से ही पकड़ काफी अच्छी है ! कहानी में बद्रीनाथ के पापा को महिला की मरियादा के नाम पर जकड कर रखने की सोच से पीड़ित है जिसमे उसमे आदर्शो को छोड़कर सभी की जिंदगी पिसती रह्ती है ! अलिया भट्ट अपनी गल्मेर्स छवि को तोड़कर अपने चर्क्टेर के साथ न्याय कर रही है और वो मूवी के इमोशनल सीन में अपने अभिनय से काफी गंभीरता दिखा रही है ! अलिया भट्ट और उनकी बहन के बीच का सपनो की उड़ान वाला एक संवाद फिल्म को एक गहराई देता है ! बद्री के दोस्त सोमवीर पर कॉमेडी की जिमेदारी उन्ही के कंधो पर होती है ! सोमवीर व अलिया भट्ट की बहन की शादी को लेकर बहुत ही हँस्य बनाये गए जो दर्शको को काफी पसंद आता है ! वरुण व उनके भाई का दोस्ताना अंदाज काफी अच्छा है ! वरुण धवन फिल्म में काफी उर्जावान नजर आते है और उनका अभिनय काफी अच्छा रहा ! और अलिया और वरुण के बीच की चेम्स्ट्री काफी अच्छी है !
    इंटरवेल से पहले तक फिल्म एक बहुत ही अच्छी तेज रफ़्तार से चलती है और उसमे दहेज़ और एक महिला के सपनो की उड़ान पर लगी बंदिशे और उसे तोड़ने की एक कसक मूवी को एक नयी उचाई तक पहुंचा देती है

    सेकंड पार्ट की बात की जाये तो फिल्म एक रफ़्तार के साथ शुरू होती है लेकिन आगे की फ्रेमो में एक अछे entertenment की कमी महसूस होती है और मूवी के इस पार्ट में पंच कॉमेडी कम और दर्शय कॉमेडी जयादा है इस पार्ट में एक लव एंगल दिखाया गया है जो ठीक -ठाक है लेकिन धर्मा paroduction की फिल्म होने के नाते मूवी के लव एंगल में करण जोहर नुमा बात नहीं थी !
    मूवी के पहले पार्ट में जो सामाजिक मुदा उठाया गया था वो पुअरन्तः भूल गए और सामाजिक तोर पर देखा जाये तो मूवी का क्लिमेक्स ठीक नहीं था क्यूंकि मूवी के लास्ट में बद्री के पापा का पक्ष नहीं रखा गया और लव एंगल के तोर पर देखा जाये तो मूवी का क्लिमेक्स अच्छा था जिसमे वरुण और अलिया की क्यूट सी लव स्टोरी दिखाई गयी है ! !
    मूवी की एडिटिंग ठीक- ठाक थी
    Background score ठीक था लेकिन करण जोहर वाली बात नहीं मिली !
    Cinemetogarphy बहुत अच्छी थी खासकर सेकंड पार्ट में !
    हमसफ़र song मूवी में लव एंगल ले तोर पर काफी इमोशन देता हुआ नजर आया मूवी के सारे गाने सुपर हिट थे और दर्सको की जुबान पे पहले ही चढ़ चुके थे !!

    ReplyDelete
  5. बद्रीनाथ की दुल्हनिया:
    बेटे पढाओ, बेटी बचाओ! [2/5]

    दुल्हन शादी के मंडप में दूल्हे को सजा-सजाया छोड़ के भाग गयी है. पढ़ी-लिखी है, उसे ‘क्लौस्ट्रोफ़ोबिया’ का मतलब अच्छी तरह पता है. एक साल बाद खबर आई है कि लड़की मुंबई में कहीं है. लड़का अब भी हाथ भर का मुंह लटकाए, थूथन फुलाए सड़क पर बाइक का एक्सीलेटर चांप रहा है. पिताजी हैं बड़का विलेन टाइप. फरमान सुना दिये हैं कि लड़की को उठा लाओ, हवेली के चौखटे पे लटका देंगे ताकि पता तो चले, बेइज्ज़ती का ज़ायका होता कैसा है? लड़का भी अपने झाँसी का ही है, ‘जो आज्ञा, पिताजी’ बोल के निकल पड़ा है. खैर, दुल्हनिया बद्रीनाथ की हो या केदारनाथ की, पिक्चर तो करन जौहर की ही है ना! तो भईया, आखिर में होना वही है, क्लाइमेक्स तक पहुँचते-पहुँचते लड़के में बदलाव के लक्षण इतने तेज़ी से चमकाई देते हैं जैसे फिल्म नहीं, गोरा बनाने वाली फेयरनेस क्रीम का विज्ञापन चल रहा हो. और लड़की? लड़कियों के लिए तो भाई आजकल सब माफ़ है. हम और आप होते कौन हैं, उनके इंटेंट और ‘चेंज ऑफ़ इंटरेस्ट’ पर प्रश्नवाचक चिन्ह लगाने वाले?

    ‘हम्प्टी शर्मा की दुल्हनिया’ के तर्ज़ पर ही, लेखक-निर्देशक शशांक खेतान एक बार फिर आपका परिचय छोटे शहरों के मिडिल-क्लास घरों-परिवारों के बड़े अपने से लगने वाले किरदारों से कराते हैं. तेज़-तर्रार बाप (रितुराज सिंह) के आगे कोई अपनी मर्ज़ी से चूं तक नहीं कर सकता. भाभी (श्वेता बासु प्रसाद) पढ़ी-लिखी होने के बावज़ूद, जॉब करने जैसी फालतू बात सोच भी नहीं सकती. और लड़के तो एक नम्बर के मजनूं. दूसरे की शादी में अपने लिए लड़की पसंद कर आते हैं, वो भी दुल्हन की सबसे क़रीबी. नहीं, नहीं, वो पीछे वाली सांवली-सलोनी नहीं, आगे वाली गोरी-चिट्टी, जो बाकायदा स्टेप मिला-मिला के डांस कर लेती हो. फिर ‘वो तेरी, ये मेरी, इसको तू रख ले, उसको मुझे दे दे’, और उसके बाद लड़की (आलिया भट्ट) के आगे-पीछे चक्कर लगाने का खेल. वैसे ‘बद्रीनाथ की दुल्हनिया’ बड़े ठीक मौके पर सिनेमाघरों में आई है. भाजपा जल्द ही उत्तर प्रदेश में ‘एंटी-रोमियो स्क्वाड’ का गठन करने वाली है. अपनी थेथरई, बेहयाई और अकड़ की वजह से, उनके लिए बद्रीनाथ (वरुण धवन) जैसे आशिक़ एकदम सटीक बैठते हैं, जिनको लड़कियों की ‘ना’ सुनाई ही नहीं देती, जिनके ताव के आगे क्या झाँसी, क्या सिंगापुर, सब बराबर हैं, और जिनको लड़की पर धौंस जमानी हो, तो ‘मेरा बाप कौन है, पता है?” जैसे जुमले उछालने खूब आते हों.

    लड़का-लड़की के बीच का भेदभाव हो, समाज की कुंठित-कुत्सित पितृसत्तात्मक व्यवस्था हो या फिर दहेज़ की समस्या; फिल्म पहले तो बड़ी समझदारी से उन पर व्यंग्य कसती है, हंसती है-हंसाती है, पर कहीं-कहीं उनका मखौल उड़ाने की जल्दबाजी में अपनी कमजोरियां, अपनी उदासीनता भी जग-जाहिर कर बैठती है. झाँसी के लड़के ‘मोलेस्टेशन’ का मतलब भी नहीं जानते, पर जब उन्हीं के साथ (जी हाँ, मर्दों के साथ भी होता है) ऐसी स्थिति बनती है, तो समझदार, सेंसिटिव वैदेही भी मुंह दबा कर हंसती नज़र आती है. वहीँ बदला हुआ बद्री जब अपने परिवार के बारे में टीका-टिप्पणी करता है, “वैदेही तो यहाँ घुट-घुट के मर जाती!’, उस मूढ़ को सामने खड़ी अपनी भाभी नज़र भी नहीं आतीं, जिनकी हालत और हालात वैदेही से कहीं कमतर नहीं. ‘चैरिटी बिगिन्स एट होम’ उसने शायद सुना भी नहीं होगा!

    फिल्म अपने पहले हिस्से में बड़े भोलेपन और सादगी के साथ, भारतीय मर्दों के जंग लगे अहं और भारतीय स्त्रियों के बदलते ‘मेरी आजादी, मेरा ब्रांड’ सुर के बीच के टकराव को सामने लाती है, पर मध्यांतर के तुरंत बाद सब उलट-पुलट और गड्डमगड्ड हो जाता है. किरदार अपने रंग छोड़ने लगते हैं. कहानी ढर्रे पर उतरती चली जाती है, और अंत तक पहुँचते-पहुँचते तो सब कुछ ‘बॉलीवुडाना’ हो जाता है. सही को सही कहने के लिए, गलत को गलत ठहराने के लिए ‘बोतल’ की भूमिका अहम हो जाती है, और अंत तो तभी सुखद होगा ना, जब लड़का-लड़की मिलेंगे और ‘शादी’ होगी. ताज्जुब होता है कि ऐसी फिल्म करन जौहर के बैनर से निकलती है, जो खुद ‘शादी’ को इतनी अहमियत नहीं देते और अभी-अभी अविवाहित रहते हुए सरोगेसी के जरिये जुड़वाँ बच्चों के पिता बने हैं.

    आखिर में, सिर्फ इतना ही कि फिल्म में ‘क्यूटनेस’ कूट-कूट कर भरी है तो मुद्दों को गंभीर हुए बिना नज़रंदाज़ किया भी जा सकता है. हिंदी सिनेमा अब तक बॉक्सऑफिस पर आखिर यही फार्मूला तो भुनाता आया है, सवाल है कि कब तक? हालाँकि इस फिल्म के बद्री को बदलने में महज़ कुछ घंटे ही लगते हैं, जब वो अपने होने वाले बच्चों के नाम ‘विष्णु, सार्थक, रुक्मणि और प्रेरणा’ से बदल कर ‘वैष्णवी, सार्थकी, रुक्मणि और प्रेरणा’ कर लेता है (मैं इसे अति-फेमिनिज्म कहता हूँ), पर हमारे सिनेमा, समाज और सोच को बदलने में जाने कितने और साल लग जाएँ, कौन कह सकता है? [2/5]

    ReplyDelete
  6. Its really a graet and first intrested movie of varun

    ReplyDelete
  7. mai daily movie dekhta hu.. new. but bollywood me akshy kumar k alava koi movie ki story ni banti .. sab bakvaas ban rahi hai ...
    hollywood is best

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top