Raaz: Reboot Movie Review|Bollymoviereviewz
Wednesday, September 21, 2016

Raaz: Reboot Movie Review



Raaz 4: Reboot Movie Review 

Raaz: Reboot Movie Review
Average Ratings:1.67/5 
Score: 10% Positive
Reviews Counted:10
Positive:1
Neutral:1
Negative:8




Rajeev Masand didn't review this movie
Ratings:2.5/5 Review By:Renuka Site:Times Of India
Since it's the fourth instalment of the Raaz franchise, it's obvious that the story is in the same vein as the first starring Bipasha Basu and Dino Morea. But this one has zero scares and newbies who make Bipasha and Dino look like 'actors'. This overstretched drama is way too cliched and soppy to hold your interest but it does amuse you in its own unique ways.
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By:Troy Site:NDTV
With moderate production values, the film is well-mounted. Manoj Soni's cinematography is worth a mention. He captures the scenic locales in all their glory. And his frames seamlessly merge with the computer generated effects. Overall, Raaz Reboot is mediocre fare and may appeal only to fans of the Raaz franchise.
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By:Namrata Site:Rediff
Raaz Reboot might still go on to make money, like its predecessors in the franchise. But do we as the Indian audience need to assaulted with such banal, comical horror every single time the Bhatts have some money to make a film? Nope. So if you still go ahead and spend money on a movie like this, you DESERVE more movies like these. And thou shalt not complain about the poor state of horror movies in India. Thou absolutely shalt not.
Visit Site For More
Ratings:0.5/5 Review By:Tatsam Site:India today
Raaz Reboot might still go on to make money, like its predecessors in the franchise. But do we as the Indian audience need to assaulted with such banal, comical horror every single time the Bhatts have some money to make a film? Nope. So if you still go ahead and spend money on a movie like this, you DESERVE more movies like these. And thou shalt not complain about the poor state of horror movies in India. Thou absolutely shalt not.
Visit Site For More
Ratings:1/5 Review By:Sarit Ray Site:Hindustan Times
If you’ve already started with the slow claps, wait. There’s so much more. Raaz, director Vikram Bhatt’s genre-bending series — masquerading as horror, but providing laughs since 2002 — does not disappoint in its so-called Reboot.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Hungama Site:Bollywood Hungama
While the film's first half is slow, the second half picks up with the horror and mystery elements kicking in. However, the film misses the presence of sex element, which is the forte of the Bhatts and movies belonging to this genre.On the whole, RAAZ REBOOT offers an unconventional horror story that will leave you haunted and scared. If you are an enthusiast of supernatural thriller/horror movies, get ready to be shocked and surprised with this one.
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By:Shubhra GuptaSite:Indian Express
Suck on that, all ye who propagate the use of garlic buds and crosses to defeat blood-sucking vampires. Whether is ‘des’ or ‘vides’, no ‘buri aatmaa’ or plain vanilla ‘bhoots’ can stand up against the might of the ‘mangalsutra’. Or, we must hasten to add, a plaintive ‘sufi’ song. One is enough. Both together can chase anything away from anywhere, including the poor chumps who have paid to be scared.
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By:Surabhi Site:Koimoi
Raaz Reboot quite literally is a deja vu of most horror films from Bollywood.Raaz Reboot may be named as a Reboot but there is nothing different in it. Watch it only if you are a fan of Bollywood horror films! Raaz Reboot is a classic fail at coming even little close to scaring you. I need to reboot my memory to have watched this! A 1.5/5 for this one!
Visit Site For More
Ratings:-- Review By:Nandini Site:Scroll
Vikram Bhatt has landed the final nail in the coffin of the Raaz franchise, and that is a massive relief. Why build a 127-minute narrative around false hopes, non-existent sexual frisson, non-scary horror scenes, songs that escape memory, and a plot that relies on the power of the mangal sutra to set things right? Even the Ramsay brothers are more fun than this toothless romp in vampire country.
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By:Sreeju Site:BollywoodLife
Raaz is a series that definitely needs a reboot, but this film is not an answer for that, at least till the interval. Vikram Bhatt uses the same tropes to scare us that we have seen in all the films till now, to the point that we can guess when the paranormal entity makes his/her appearance next. It also doesn’t help matters that.the romantic songs feel forcibly interspersed in the narrative, because, you know, that’s the tradition when it comes to Bollywood horror flicks. Some of the scenes, which were supposed to scare us, looks laughable.
Visit Site For More

Also see Raaz Box Office

Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

Raaz: Reboot Story:  

The fourth installment of a horror series Raaz that explores secrets, mysteries and human frailties.

Raaz: Reboot Release Date:

Sep 16 2016

 Director:  Vikram Bhatt

 Producer:   Mukesh Bhatt Mahesh Bhatt,Vishesh Bhatt,Bhushan Kumar

Cast:
Emraan Hashmi as Aditya
Kriti Kharbanda as Shaina
Gaurav Arora as Rehaan

Run Time:  2 hours and 16 Minutes



To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office India Collection


Want to find Shahrukh Khan 's next movie see SRK Upcoming Movies

Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan
Raaz: Reboot Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

5 comments:

  1. Good.....
    Mesmerizing outdoor scenes... Acting is good.. Songs are Ok...

    Bad....
    Mystery element not solid...horror scenes only for kids.. sensuality missing..

    ReplyDelete
  2. Raaz Rebooted is the 4th Venture of Raaz Franchise Featuring Our Very Favourite Kissran Suckme(Emraan hashmi),Kriti Kharbooja(kharbanda) & Gaurav Pakora(Arora),Without saying Negative I will only say this is a Very Comedy Movie the More they try to Scare You the More You laugh,But there is Absolutely no Harm in Watching Emraan Hasmi Movies once as He is a Dark Horse in Acting,The Positve Points is Abhijeet Singh's Deep Vocals Like Raaz Aaankhein Teri,Lo maan Liya, In the Movie Once Emraan Told Kriti that He won't harm her than later He was trying to go into Kriti's Mouth Via his Lips,Medical Recommendation Eat Popcorn Sip Coke & pass the Movie,Box Office Collection-20-30 Crore ,Final Verdict Average

    ReplyDelete
  3. राज़ रीबूट (A):
    अंत हुआ, भला हुआ! [1/5]

    विक्रम भट्ट की ‘राज़ रीबूट’ रिलीज़ से पहले ही आपको खुश कर जाती है. महेश भट्ट पहले ही बयान दे चुके हैं, ‘राज़’ सीरीज की ये आख़िरी फिल्म होगी. इसका मतलब ये है कि अब विक्रम भट्ट की वो घिसी-पिटी, वाहियात संवादों से भरी स्क्रिप्ट जो पिछले 7 सालों से ‘राज़ (2002)’ की कामयाबी को भुनाने के चक्कर में बार-बार एक अलग और नई फिल्म के तौर पर दर्शकों तक पहुंचाई जा रही थी, अब ये खेल बंद हुआ समझिये. अपने आप में ये एक बहुत राहत पहुंचाने वाली बात है, हालाँकि सीरीज की आख़िरी किश्त ‘राज़ रीबूट’ जाते-जाते भी आप पर कोई रहम नहीं करती.

    डराने की हर कोशिश जब हंसाने लग जाए, समझिये विक्रम भट्ट फॉर्म में हैं. फिर भी मैं कहता हूँ, डायलाग-राइटिंग में हाथ आजमाने वाले हर नए-पुराने टैलेंट को इस फिल्म से सीखना चाहिए कि आखिर क्या नहीं लिखना है? हीरोइन को एक ऐसा कैमरा चाहिए, जो लाइट ऑफ होने के बाद भी कमरे में होने वाली सारी एक्टिविटी रिकॉर्ड कर सके. दुकानदार का जवाब सुनिए, “ओह, तो आपको नाईट विज़न कैमरा चाहिए?”. भूत-प्रेतों पर रिसर्च करने वाला एक दिव्यांग (नेत्रहीन) चाय का कप छू कर बता देता है, “इस कप पर दो लोगों के होंठ महसूस हो रहे हैं”. वाह, गुरुदेव! पति-पत्नी के शादीशुदा दोस्तों में से एक पूछती है, “मैंने नोटिस किया है, तुम्हारे बेडरूम के बिस्तर पर एक तरफ सिलवटें नहीं हैं. तुम लोग अलग-अलग सो रहे हो?” मैं पूछता हूँ, ये कौन है जो बेड पर बड़ी सफाई और सावधानी से एक ही तरफ सो लेने का टैलेंट रखता है?

    शादी के बाद प्रेमी-जोड़ा [गौरव अरोरा , कृति खरबंदा] मुंबई से रोमानिया ताजा-ताजा शिफ्ट हुआ है. “बर्फ का शहर है, अगले 5 साल तक कहीं और नहीं जाना है, तो चलो ‘बच्चा’ कर लेते हैं”, बीवी ज़िद पे अड़ी है. पति को पैसे कमाने हैं. झगड़ा पहले ही दिन इस हद दर्जे का है, कि दोनों के बिस्तर अलग-अलग हो जाते हैं. साथ सोने भर से भी शायद ‘बच्चा’ हो जाता हो. खैर, कुछ ही वक़्त बाद बीवी को घर में ‘किसी और’ के होने का एहसास होने लगता है. सिंक में आँख दिखाई देने लगती है, लैपटॉप से खून की नदियाँ बह निकलती हैं, वगैरह, वगैरह! पति को जब इन बेकार की बातों में यकीन नहीं होता, बीवी को उसका पुराना आशिक़ [इमरान हाशमी] आकर सहारा देता है. फिर वही होता है, जिसका आपको भी पता था और इंतज़ार भी. दो-चार किसिंग सीन, उतने ही गाने और एक ‘राज़’ जिसके खुलने से पहले ये एक लफ्ज़ इतनी बार बोला-सुनाया जाता है कि आपको फर्क पड़ना ही बंद हो जाता है.

    विक्रम भट्ट साब की एक ही परेशानी है कि वो अपनी फिल्म चाहे दुनिया के किसी भी कोने में या ब्रह्माण्ड के किसी भी ग्रह पर लेकर चले जाएँ, अपने साथ भारतीय हॉरर सिनेमा के कुछ अनमोल तत्व ले जाना नहीं भूलते, मसलन, मंगलसूत्र. मंगलसूत्र का खो जाना एक पतिव्रता नारी के लिए कितना कष्टप्रद हो सकता है, आपको फिल्म देखकर ही पता चलेगा. वहीँ, जब शादीशुदा होने के बावजूद गैर-मर्द से सम्बन्ध बनाने की बारी आती है, बड़ी सहूलियत से कपड़े उतारने से पहले मंगलसूत्र उतार देना सब कुछ जायज़ कर देता है. फिल्म में ‘द एक्सोर्सिस्ट’ की भी छाप हर बार की तरह इस बार भी भरपूर है. मजेदार बात ये है कि इस बार वाला भूत ‘एफ़-वर्ड’ इस्तेमाल करने में कोई हिचकिचाहट नहीं दिखाता, और दिल खोल के गालियाँ बरसाता है.

    अभिनय की बात करें, तो गौरव अरोरा का फिल्म में होना ही हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के कामकाज के तरीकों पर सवालिया निशान खड़े कर देता है. विक्रम भट्ट की फिल्म में आफ़ताब और रजनीश दुग्गल जैसों का होना फिर भी चलता है, गौरव अरोरा के साथ तो ‘गुड लुक्स’ का भी चक्कर दूर-दूर तक नहीं दिखता. असल में इमरान हाश्मी ही हैं जो पूरी तरह से समर्पित दिखाई देते हैं. फिल्म से ज्यादा, भट्ट कैंप और अपनी ‘सीरियल किसर’ वाली इमेज के प्रति. कृति खरबंदा डराने वाले दृश्यों में कामयाब रहती हैं.

    फिल्म के शुरूआती एक दृश्य में, एक कौवा रुकी हुई कार के सामने वाले शीशे से टकराकर आत्महत्या कर लेता है. जानवरों को आने वाले संकट और बुरे वक़्त का अंदेशा इंसानों से बहुत पहले ही हो जाता है. काश, उसके इस बलिदान को हम इंसान वक़्त रहते समझ पाते! कम से कम पूरी फिल्म झेलने से बच जाते! चलो, ‘राज़’ का अंत हुआ...और कभी-कभी अंत ही भला होता है. [1/5]

    ReplyDelete
  4. उपयुक्त रिव्यु। बेहतर आलोचना। एक बात और। अगर ये फिल्म, चाहे जिस वजह से, पैसे जुटाने में कामयाब हो गयी तो महेश साब की बातों को उसी वक़्त भूल जाना। अगली बार उनका यही जवाब आएगा -" स्क्रिप्ट इतनी दमदार मिल गयी की खुद फिल्म बनाने से रोक ही नहीं पाए "। हॉरर फिल्में बनाने के नाम पर हॉरर जेनरेशन के सत्यानाश करने पर तुले पड़े हैं भट्ट लोग।

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top