Parched Movie Review |Bollymoviereviewz
Sunday, September 25, 2016

Parched Movie Review


Parched Movie Review 

Average Ratings:3.1/5
Score: 80% Positive
Reviews Counted:10
Positive:8
Neutral:1
Negative:1




Ratings:3/5 Review By:Rajeev Masand Site:CNNNews18
But for these hitches, it’s an entertaining ride. The three friends, parched both emotionally and sexually, will have you rooting for them and cheering as they find their feet and their freedom in the end. I’m going with three out of five.But for these hitches, it’s an entertaining ride. The three friends, parched both emotionally and sexually, will have you rooting for them and cheering as they find their feet and their freedom in the end. I’m going with three out of five.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Anupama Chopra Site:Film companion
There are moments here of genuine intimacy between the women. Their bond and love is authentic. But the larger narrative is inert and clunky – Parched feels like a film written to make larger points. The events don’t flow organically and a few threads are just left hanging.Parched gets bogged down by its own good intentions. But these spirited female characters will stay with you. So will the luscious cinematography by Oscar winner Russell Carpenter.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By:Aseem Site:Rediff
While Parched might remind some viewers of Thelma & Louise, the film is rooted in India. The theme of women being mistreated in traditional and even modern societies may be universal, but Parched remains Indian in its tone, ethos, and the very distinct and disturbing male-female dynamics.And under Yadav's able guidance, Parched genuinely shines.
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By:Shubhra Site:Indian Express
But despite Parched’s obvious worthy intentions, its execution left me discomfited. The violence unleashed on the women, including the clearly underage bride who is ravished by her entitled ‘husband’, the drunken beatings which leave Lajjo routinely broken and bruised, the horrific assaults on Bijli’s supine body, are relentless. The film shows all its punches landing where they hurt most, and after a while it all becomes too much, almost gratuitous.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Suhani Singh Site:India Today
Parched packs in many social issues into the film - from violence against women to the need of education of girls - and it does so without screaming from the rooftop. There are some memorable moments here with the best being a near-silent encounter between Lajjo and Rani, in which, Parched says volumes about a woman's desires with great subtlety and depth. It's a pity then that after hitting the right notes for most part, the film in its quest for emotional liberation quickly jumps to a rather far-fetched ending that leaves more questions.
Visit Site For More
Ratings:4/5 Review By:Saibal Chaterjee Site:NDTV
Leena Yadav's Parched is an irresistible beast of a film. As incendiary as it is entertaining, it goes where Indian cinema rarely does without becoming exploitative - into the erogenous fantasies of long-suppressed village women who are no longer willing to countenance their restrictive veils. Parched is provocative and playful, grim and defiant, tender and disquieting all at once. It is, therefore, anything but a dry cinematic tract with feminist messages strewn across its expanse.
Visit Site For More
Ratings:4/5 Review By:Meena Iyer Site:TimesOf India
The film addresses how there is nothing shameful about a woman's need for sex or ownership of her body. As the village women talk about their carnal desires, you empathise. Like last week's matinee offering Pink, you raise a toast to the director for raising some hard-hitting questions on the double standards of society. When Bijli asks, How come there are only abuses of the MC, BC variety or gaalis named only after women and none after men, you applaud. Frankly, like the film suggests, perhaps it is time to coin expletives after men too.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Rashma Shetty Site:BollywoodLife
While this one is clearly a Sex And The Village that many girls might enjoy, it’s not gonna leave you with a feeling of elation as it’s more like a chick flick for the rural audience. You might like it but it won’t make you go ‘woah’! After watching Pink and having high hopes for some more of hard hitting women centric films, I was very disappointed. One time watch would be enough for this film.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By:Mayank Shekhar Site:Mid Day
Genre-wise, 'Fem-jep', or female in jeopardy, is how you'd describe this film as a cliché. But there is still much joy in the air as the three ladies — married, single, and a whore — form an unlikely but fun trio dealing with sex, lies, and life itself. Despite obvious flaws in the story-telling, it's downright impossible not to be drawn to these characters.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By:Surabhi Site:Koimoi
Parched has enjoyed critical acclaim outside India, but as an Indian, I would say the film does not comes as a surprise. We are familiar with these harsh realities of rural India and a new outlook towards it would have been a revelation. As for the performances and cinematography, if you enjoy art films, this could be your pick!
Visit Site For More



Interested in which movies are releasing next then see Upcoming Bollywood Movies 

Parched Story:  

The film revolves around four women living an unwanted life in a village of north-western region of India, which still suffers from old, age-ridiculed traditions like forced child marriages and other social issues like financial difficulties, spousal and familial rape, and physically and emotionally abusive alcoholic husbands.

Parched Release Date:

Sep 23 2016

 Director:  Leena Yadav

 Producer:    Ajay Devgan

Cast:
Tannishtha Chatterjee
Radhika Apte
Surveen Chawla
Adil Hussain
Lehar Khan
Sayani Gupta

Run Time:  2 hours and 16 Minutes



To check out Budget and latest box office collection of movies see Box Office


Want to find Shahrukh Khan 's next movie see SRK Upcoming Movies

Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan |  Salman Khan

 Parched Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

3 comments:

  1. पार्च्ड (A):
    हम सब ‘बोल्ड’ हैं! [3.5/5]

    हाव-भाव और ताव में लीना यादव की ‘पार्च्ड’ पिछले साल रिलीज़ हुई पैन नलिन की ‘एंग्री इंडियन गॉडेसेज’ से बहुत कुछ मिलती-जुलती है, और अपने रंग-रूप में केतन मेहता की ‘मिर्च मसाला’ जैसी तमाम भारतीय सिनेमा के मील के पत्थरों से भी. जाहिर है, इस तरह का ‘पहले बहुत कुछ देख लेने’ की ऐंठ आप में भी उठेगी, पर जिस तरह की बेबाकी, दिलेरी और दबंगई ‘पार्च्ड’ दिखाने की हिमाकत करती है, वो कुछ अलग ही है. यहाँ ‘आय ऍम व्हाट आय ऍम’ का जुमला बेडरूम के झगड़ों और कॉफ़ी-टेबल पर होने वाली अनबन में सिर्फ जीत भर जाने के लिए इस्तेमाल नहीं किया जाता. ‘पार्च्ड’ अपने किरदारों को उनके तय मुकाम तक छोड़ आने तक की पूरी लड़ाई का हिस्सा बन कर एक ऐसा सफ़रनामा पेश करती है, जो हमारी ‘घर-ऑफिस, ऑफिस-घर’ की रट्टामार जिन्दगी से अलग तो है, पर बहुत दूर और अनछुई नहीं.

    लम्बे वक्त से दबी-कुचली, गरियाई-लतियाई और सताई जा रही गंवई औरतों के सर पर पहाड़ जैसा भारी हो चला घूंघट अब मिट्टी के ढूहे सा भरभराकर सरकने लगा है. सारी की सारी घुटन, चुभन, सहन अब धरती के आँचल में दबे लावे की तरह फूटने की हद तक आ पहुंची है. धागे जैसे भी हों, मोह के, लाज के, समाज के, सब के सब टूटने लगे हैं. रानी [तनिष्ठा चैटर्जी] विधवा है, जो अपने ही जवान बेटे की खरी-खोटी सुनती है. शायद इसीलिए क्यूँकि 15-16 साल का ही सही, वो भी एक मर्द है और रानी जैसियों को मर्दों की सुननी पड़ती है. लज्जो [राधिका आप्टे] बाँझ हैं, जिसे कोई अंदाज़ा भी नहीं कि मर्द भी बाँझ हो सकते हैं. बिजली [सुरवीन चावला] मर्दों के मनोरंजन का सामान है. गाँव की डांस कंपनी में ‘खटिया पे भूकंप’ जैसे गानों पर मर्दों को जिस्म दिखाती भी है और परोसती भी है, पर अपनी मर्ज़ी से! जानकी [लहर खान] बालिका-वधू है, जिसे रानी अपने बेटे के लिए शादी के नाम पर खरीद लायी थी.

    ‘पार्च्ड’ इन सबके और दूसरे कई और छोटे-छोटे किरदारों के साथ औरतों के साथ होने वाले हर तरह के अमानवीय कृत्यों का कच्चा-चिट्ठा खोल के सामने रखती है. ‘पढ़-लिख कर कौन सा इंदिरा गाँधी बनना है?’ जैसे उलाहनों से लेकर मणिपुर से आई बहू को ‘विदेशी’ कहने और शादी में सामूहिक घरेलू यौन-उत्पीड़न जैसी घिनौनी कुरीतियों तक, फिल्म एक सिरे से बहुत कुछ और सब कुछ एक साथ कहने की कोशिश करती है. गनीमत है कि इस बार घटनाक्रम पुराने ढर्रे के सही, पर ‘एंग्री इंडियन गॉडेसेस’ की तरह जल्दबाजी भरे और बनावटी नहीं लगते. बिना किसी शर्म, झिझक और लिहाज़ की परवाह करते गंवई संवाद जिनमें गाली-गलौज के साथ-साथ यौन-संबंधों से जुड़े कई खांटी शब्दों की भरमार दिखती है, और कुछ बहुत संवेदनशील दृश्य जिनके खुलेपन में लीना का (एक औरत का) निर्देशक होना ज़रूर मददगार साबित हुआ होगा, फिल्म को एक आज़ाद ख्याल और अलग अंदाज़ दे जाते हैं.

    कई मामलों में फिल्म एक खालिस ‘औरतों की फिल्म’ कही जा सकती है. कैमरा सामने होने की झिझक कई बार झलकियों में भी नहीं दिखती. फिल्म मजेदार पलों से पटी पड़ी है. बिजली का ‘मर्दों वाली गालियाँ’ ईजाद करना, ‘वाइब्रेशन मोड’ पर मोबाइल के साथ लज्जो का ‘वाइब्रेटर-एक्सपीरियंस’, रानी का फ़ोन पर अनजान ‘लवर’ से बातचीत, फिल्म बड़ी बेहयाई से आपका भरपूर मनोरंजन करती है. फिल्म का तडकता-भड़कता संगीत एक और पहलू है, जो संजीदा कहानी के बावजूद आपके मूड को हर वक़्त फिल्म में दिलचस्प बनाये रखता है. कैमरे के पीछे जब ‘टाइटैनिक’ के रसेल कारपेंटर और एडिटिंग टेबल पर ‘नेबरास्का’ के केविन टेंट जैसे दिग्गजों की फौज हो, तो फिल्म के टेक्निकल साज़-ओ-सज्जा पर कौन ऊँगली उठा सकता है?

    अभिनय में सुरवीन चावला सबसे ज्यादा चौंकाती हैं. उनके किरदार में जिस तरह की बोल्डनेस दिखती है, और दूसरे हिस्सों में उनका इमोशनली टूटना, सुरवीन कहीं भी डांवाडोल नहीं होतीं. राधिका और तनिष्ठा दोनों के लिए इन किरदारों में कुछ बहुत नया न होते हुए भी, दोनों बहुत सधे तरीके से अपने किरदारों को जिंदा रखती हैं. अन्तरंग दृश्यों में राधिका का समर्पण काबिले-तारीफ है. तनिष्ठा तो शबाना आज़मी हैं ही आजकल के ‘अर्थपूर्ण सिनेमा’ के दौर की. अन्य भूमिकाओं में सुमित व्यास और बिजली के मतलबी आशिक़ की भूमिका में राज शांडिल्य सटीक चुनाव हैं.

    अंत में; ‘पार्च्ड’ औरतों को देह-सुख का सामान और बिस्तर पर बिछौना मात्र मानने वाली पुरुष-सत्ता के खिलाफ ‘पिंक’ की तरह कोई तेज-तर्रार आवाज़ भले ही न उठाती हो, औरतों की आज़ादी के हक़ में एक ऐसी हवा तो ज़रूर बनाती है, जहां मर्दों की तरफ से लाग-लपेट, लाज-लिहाज़ का कोई बंधन मंजूर नहीं. प्रिय महिलाएं, ‘सास-बहू और नागिन’ जैसे सीरियलों की गिरफ्त से अगर छूट पाएं, तो ज़रूर देखने जाएँ! [3.5/5]

    ReplyDelete
  2. क्या निर्माता अजय देवगण पार्च्ड को हिन्दी में किसी उपयुक्त टाइटल से रिलीज़ नहीं कर सकते थे..!

    ReplyDelete
  3. क्या निर्माता अजय देवगण पार्च्ड को हिन्दी में किसी उपयुक्त टाइटल से रिलीज़ नहीं कर सकते थे..!

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top