Dhanak Movie Review |Bollymoviereviewz
Saturday, June 18, 2016

Dhanak Movie Review

Dhanak Movie Review 

Average Ratings:3.25/5 
Score: 86% Positive 
Reviews Counted: 8
Positive:7
Neutral: 0
Negative: 1



Ratings:3/5 Review By: Rajeev Masand Site:CNN IBN
 Director Nagesh Kukunoor’s delightful new film Dhanak rests on the idea that if you want something badly enough, the whole universe conspires to make it happen.I’m going with an easy three out of five for Dhanak. It’s a crowd-pleaser that drives the point home about seeing with your heart instead of your eyes. Shrewd message for a film that’s not perfect, but is all heart.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By: Mohar Basu Site:TOI
The screenplay is a weak brew that relies solely on the humour of its sharp dialogues and the charm of the child actors. Hetal Gadda and Krrish Chhabria are crackling together and it is their camaraderie that shines when the film doesn't. Even though Dhanak stays mysterious till its last scene, it gets too repetitive to hold your interest. Its soulful music, heartfelt style of narration and of course, delightful kids can't make this half-baked story soar.
Visit Site For More 
Ratings:4/5 Review By: Namrata Thakker Site:Rediff
The second half did seem a bit slow in comparison to the first. Also, the back story of how Chotu loses his eyesight is hard to understand. The makers could have worked more in that area. But these elements do not hamper the flow of the story or its magic.To have a movie revolve around just two characters is hard but Kukunoor does it and how! He proves yet again why he is a filmmaker to reckon with.In the recent years, I can't remember watching a film with a big smile on my face throughout. You'll probably feel the same after watching Dhanak.
Visit Site For More 
Ratings:4/5 Review By: Saibal Chatterjee  Site:NDTV
Dhanak paints a portrait of hope in which the magic of popular Hindi cinema — Pari and Chotu are engaged in constant banter over who is more puissant, Shah Rukh or Salman — and the power of a child’s unbridled imagination merge in a marvellously infectious manner. The screenplay is the star in Dhanak. With Hetal Gada and Krrish Chhabria drawing the audience effortlessly into the tale, it takes on magical dimensions. And, of course, it is impossible not to mention the ever-dependable Vipin Sharma in the role of the deeply concerned but powerless guardian whose own dreams are no less touched by benign madness.Do yourself a favour: make sure Dhanak is a part of your plans this weekend.
Visit Site For More
  Ratings:3/5 Review By: Rohit Vats Site:Hindustan Times
Unlike most road movies, Dhanak is not about any inward journey for its lead characters. Undeniably innocent, their approach to life is pure and full of trust. They believe in a house with walls of sweets, and sing folklore with foreigners. They fight to prove Shah Rukh’s supremacy over Salman. And, to walk across Rajasthan is just another sport for them. Thanks to its use of fusion, Dhanak slowly grows on you. And, who knows, Chotu and Pari may help you in shedding that tough exterior you’ve been burdened with.
Visit Site For More
 Ratings:2/5 Review By: Shubhra Gupta Site:Indian Express
A little boy, who has lost his eyesight, and his sister Pari set out across Rajasthan on foot. Their mission, spearheaded by Pari’s determination, is to restore Chhotu’s sight. It’s hard not to be moved by these kids and their heart-warming story.
Visit Site For More
Ratings:3.5/5 Review By: Shubha Shetty Saha Site:Mid-day
There are certain sequences, like the one involving veteran actress Bharati Achrekar as a blind visionary, that seem too contrived and convoluted.A lot of credit for making this film so endearing goes to the child actors' performances. While Krrish with his childlike charm steals your heart, it is Hetal who stands out with a stunningly natural performer. The rest of the cast provide good support. Music is fabulous too.
Visit Site For More 
 Ratings:3.5/5 Review By: Surabhi Redkar Site:Koimoi
Dhanak is a delightful film that comes straight from the heart. An extremely endearing brother-sister tale, this film has a lot to offer when it comes to human nature and emotions
Visit Site For More

Dhanak Story:  

Pari (Hetal Gadda) has promised her little blind brother Chotu (Krrish Chhabria) that she’ll help get his eyesight back before he turns 10. When she spots her favorite star Shah Rukh Khan on the poster for an eye-donation drive, she is convinced her hero will help her on her mission.

Dhanak Release Date:

June 17 2016

 Director: Nagesh Kukunoor

 Producer: Manish Mundra, Nagesh Kukunoor, Elahe Hiptoola

Cast:
Hetal Gadda,
Krrish Chhabria,
Vipin Sharma,
Gulfam Khan,
Vibha Chibber,
Vijay Maurya

Run Time:  2 hours and 29 Minutes



Look at Upcoming Bollywood Movies

Housefull 3 Box Office 

Meanwhile also take a look at Box Office India Collection

More Reviews:
Kapoor & Sons Review
 Neerja Review

Read More About Celebs:
Salman Khan | Shahrukh Khan |Aamir Khan | Ranbir Kapoor 
 Hrithik Roshan
Dhanak Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

1 comments:

  1. धनक:
    मासूम, मजेदार, मनोरंजक!! [3.5/5]

    एक सच की दुनिया है जो हमारे आस-पास चारों तरफ पसरी है, और एक दुनिया है जैसी हम अपने लिये तलाशते हैं, जिसके होने में हम यकीन करना चाहते हैं. अपने देश के साथ भी ऐसा ही कुछ कनेक्शन है हमारा. एक, जैसी हम देखना चाहते हैं, मानना चाहते हैं और दूसरा जो वाकई में है. नागेश कुकूनूर की ‘धनक’ हमारी परिकल्पना और सच्चाई की इन्हीं दो दुनियाओं के बीचोंबीच कहीं बसी है. अगर आप अच्छे हैं, दिल के सच्चे हैं तो आपके साथ बुरा कैसे हो सकता है? परीकथाओं में अक्सर इस तरह के मनोबल बढ़ाने और नेकी की राह पर चलते रहने के लिए हिम्मत बंधाने वाली उक्तियाँ आपने भी पढ़ी या सुनी होंगी. ‘धनक’ किसी एक प्यारी और मजेदार परी-कथा जैसी ही है, जिसमें बहुत सारे अच्छे लोग हैं और जो बुरे भी हैं वो सदियों पुराने, जाने-पहचाने जैसे हमेशा कोसते रहने वाली ‘डायन’ चाची और बच्चे उठाने वाला दुष्ट गिरोह.

    बड़ी फिल्मों में अपनी बात का लोहा मनवाने के लिए कई तरह के हथकंडे आजमाए जाते हैं. अभिनय जगत के बड़े-बड़े नाम, पब्लिसिटी का ज़ोर-शोर, शानदार सेट्स की चकाचौंध और खूबसूरत विदेशी लोकेशन्स, पर ‘धनक’ जैसी छोटी फिल्मों के पास सिर्फ एक ही रामबाण होता है...बड़ी ही सादगी से कही गयी एक जादुई कहानी, जो दिल छू जाए! राजस्थान के एक छोटे से गाँव में छोटू [कृष छाबड़िया] अपनी बहन परी [हेतल गडा] और चाचा-चाची के साथ रहता है. छोटू देख नहीं सकता. एक बीमारी ने उसकी आँखें लील लीं. पर चार साल पहले उसने ‘दबंग’ देखी थी और आज तक सलमान ‘भाई’ का फैन है, जबकि उसकी बहन ‘सारुक खान’ को पसंद करती है. ‘नेत्रदान महादान’ के पोस्टर में शाहरुख़ खान को देख कर परी मान बैठी है कि उसके भाई की आँखें अब वो ही ला सकता है. ऐसे में, एक दिन खबर मिलती है शाहरुख़ खान जैसलमेर से कहीं शूटिंग कर रहा है. बस, परी छोटू को लेकर निकल पड़ती है उसकी आँखें दिलाने.

    ‘धनक’ एक ऐसी फिल्म है जो अपनी मासूमियत कभी खोने नहीं देती. रिश्तों में अपनापन, प्यार और मीठी तकरार का भरपूर लुत्फ़ आपको देती है. होशियार परी 2-3 साल से लगातार फ़ेल हो रही है, ताकि वो अपने छोटे भाई की क्लास में आ जाये. तालाब से पानी भरने जाती है तो छोटू को अपने साथ-साथ दुपट्टे से बांधे रखती है. छोटू हालाँकि बहुत चंट है. गलतियों के लिये डांट पड़ने पर बड़ी चालाकी से अपने अंधेपन की दुहाई देकर बच जाता है. और चटोर भी बहुत. बहरहाल, फिल्म ऐसे पलों से पटी पड़ी है, जहां छोटू का बडबोलापन और उसकी साफगोई आपको ठहाके लगाने पर मजबूर कर देते हैं. मसलन, एक दृश्य में छोटू से उसका एक दोस्त शमशेर बड़ी संजीदगी से पूछता है, “तेरी बहन की शादी के बाद तू क्या करेगा?” “तो भी मैं उसके साथ ही रहूँगा, उसके आदमी को तकलीफ़ नहीं हुई तो?” शमशेर थोड़ा रुक कर कहता है, “मैं अगर उसका पति होता तो मुझे कोई दिक्कत नहीं होती” “तुझे पसंद है वो?” “सोणी है छोरी” “ठीक है, कल मैं रिश्ते की बात करता हूँ”, 8 साल का छोटू बेबाकी से बोल देता है.

    ‘धनक’ की ख़ूबसूरती राजस्थान के रंग-रंगीले परिवेश और उससे भी रंगीन किरदारों में छुपी हुई है. तुनकमिजाज़, पर मासूमियत से भरे छोटू और पूरी शिद्दत से उसे चाहने, उसका ध्यान रखने वाली परी के अलावा इस फिल्म में आधा दर्जन से ज्यादा और अजब-अनोखे किरदार हैं जो आपका मनोरंजन करने के लिए हमेशा एक पैर पर खड़े रहते हैं. शाहरुख़ से अपनी दोस्ती जताने वाला छैल-छबीला [राजीव लक्ष्मण, ‘रोडीज़’ वाले], राजस्थानी लोकगायक [विजय मौर्या], हवा में स्टेयरिंग पकड़े ट्रक चलाने वाला पागल [सुरेश मेनन], शाहरुख़ के साथ अपनी सेल्फी के साथ गाँव वालों की सेल्फी खिंचाने के लिए पैसे उगाही करने वाला [निनाद कामत], गोल-चिकने पत्थरों से भविष्य बताने वाली जादूगरनी बुढ़िया [भारती अर्चेकर] और चमत्कारी माता के भेष में भक्तों को ठगती एक थिएटर आर्टिस्ट [विभा छिब्बर]. यकीन मानिए, इनमें से हर किरदार आपको गुदगुदाने में कामयाब साबित होता है.

    अंत में, नागेश कुकूनूर की ‘धनक’ बारिश में इन्द्रधनुष की तरह ही है. देखते ही दिल छोटे बच्चे जैसा खिल उठता है. कृष छाबड़िया और हेतल गडा का अभिनय आपको पूरी फिल्म में बांधे रखता है. ‘धनक’ शायद साल की सबसे मनोरंजक फिल्म है. सौ करोड़ की दौड़ में मनोरंजन के मायने अपने अपने मतलब से तोड़-मरोड़ कर पेश करने वाली तमाम ‘फूहड़’ फिल्मों से आज़िज आ गए हों तो इस पते पर दरवाजा खटखटाइये, आप बिलकुल निराश नहीं होंगे! [3.5/5]

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top