Veerappan Hindi Movie Review|Bollymoviereviewz
Wednesday, June 1, 2016

Veerappan Hindi Movie Review

Veerappan Movie Review

Veerappan Hindi Movie Review
Average Ratings:2.31/5 
Score: 44% Positive 
Reviews Counted: 10
Positive: 4
Neutral: 1
Negative: 5


Ratings:2/5 Review By: Rajeev Masand Site:CNN IBN
It would be a stretch to describe Ramgopal Varma’s new film Veerappan as a return to form for the once-maverick director, but this much can be said: the film is more coherent than a lot of his recent work. Varma takes frequent liberties with the truth in this remake of his own Kannada film Killing Veerappan, but what you leave the cinema with at the end are shattered eardrums from the incessant background music.
Visit Site For More
Ratings:-- Review By: Taran Adarsh Site:Twitter
Veerappan gives an insight into the life and times of the dreaded bandit. RGV is in good form. Sandeep Bhardwaj as Veerappan is superb.
Visit Site For More
Ratings:2.5/5 Review By: Anupama Chopra Site:Youtube
Visit Site For More
Ratings:-- Review By: Komal Nahta Site:Zee ETC Bollywood Business
On the whole, Veerappan is an ordinary fare which will not be able to score much at the box-office. It will do well in single-screen cinemas of centres where action fares are liked.
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By: Saibal Chaterjee Site:NDTV
Veerappan does not shy away from making a great deal of noise, but the film is more akin to soggy gelatin sticks delivering a damp squib than a big explosive device triggering an earth-shattering bang. At no point in the film does one get the impression that RGV might be anywhere near regaining his lost touch. The maker of Satya and Company is nowhere in sight in this messy, pedestrian thriller.
Visit Site For More
Ratings:1.5/5 Review By: Shubhra Site:IndianExpress
To find an actor who resembles the real-life character he has to play is a stroke of pure luck. But to fritter that away by making that reel-life character so uni-dimensional, so uninteresting is pure misfortune, both for the once terrific director, as well as for us viewers who live in hope for his return
Visit Site For More
Ratings:2/5 Review By: Rohit Vats Site:Hindustan Times
The basic idea is to present it as a morally ambiguous story where the good can also use evil means, but that isn’t enough. Having said that, this 126-minute film has pace and a narrative technique which may give you a glimpse of RGV’s old charm. But, the mojo isn’t completely back yet.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By: Srijana Das Site:Times Of India
In all fairness, Sandeep brings Veerappan alive and the National Award winner Usha as Muthulakshmi is convincing. Though not in top form, RGV does redeem himself to some degree. And his film does allow you to get up, close and personal with the notorious criminal who made a monkey of the Tamil Nadu and Karnataka Governments, because he knew the loopholes in the system.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By: Hungama Site:Bollywood Hungama
While the first half of the film builds up the story and the pace, the film's second half dips slightly. On the whole, VEERAPPAN has violence that may seem a bit over the top for a certain segment of audience. With its unconventional and extremely well-narrated story line and Ram Gopal Varma's trademark filmmaking skills VEERAPPAN will most likely be patronized by a niche segment of the audience.
Visit Site For More
Ratings:3/5 Review By: Asira Site:Deccan Chronicle
Veerappan fictionalises the life of the notorious brigand, brought to us in typical Ram Gopal Varma style – gritty and engaging.A cop is killed by Veerappan (Sandeep Bharadwaj) and the dead man’s wife Priya (Lisa Ray) joins the force as a spy to avenge her husband’s death. And she uses the bandit’s wife to get to him. That, more or less, is it. RGV has told it taut, specially in the second half that is all about Operation Killing Veerappan.
Visit Site For More




Veerappan Story:  

Veerappan is Indian docu -drama thriller based on the events leading to Operation Cocoon to capture or kill Indian bandit Veerappan. The story revolves around the search of Veerappan by a group of Police Officers headed by Kannan. Kannan is a non-conformist, one who would willingly flout rules as long as Veerappan is captured. The plot tracks the team’s attempts to corner Veerappan.

Veerappan Release Date:

May 27 2016

 Director:  Ram Gopal Varma

 Producer:  Raina Sachin Joshi

Cast:
Sandeep Bharadwaj
Sachiin J Joshi
Usha Jadhav
Lisa Ray

Run Time:  2 hours and 5 Minutes

Look at Bollywood Movies 2016  and see Upcoming  Movies


Meanwhile also take a look at Box Office
More Reviews:
Kapoor & Sons Review
 Neerja Review


Veerappan Hindi Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

3 comments:

  1. वीरप्पन (A):
    बोर-प्पन, शोर-प्पन! [2/5]
    (वीरप्पन देख चुके और देखने जाने वाले दो दर्शकों के बीच की बातचीत का एक अंश)
    “सुना है, राम गोपाल वर्मा लौट आये हैं?”
    “हाँ, भाई! लौट आये हैं.”
    “सत्या वाले?”
    “कहाँ तुम भी...”
    “...तो? कंपनी वाले?”
    “मज़ाक न करो”
    “ भूत वाले तो होंगे?”
    “....(चुप)”
    “ सरकार?....सरकार राज?”
    “(झुंझला कर) अज्ञात वाले हैं. रक्त-चरित्र वाले हैं. आया समझ?”
    “(आह भरते हुए)...चलो, आग वाले तो नहीं हैं ना!”
    ......
    अगर आप भी सिर्फ इसी बात से तसल्ली कर लेने के लिए तैयार बैठे हैं कि चलो, राम गोपाल वर्मा वापस तो आ गए, ऐसे हाल में उनकी नयी फिल्म ‘वीरप्पन’ आपको ज्यादा निराश नहीं करेगी. आख़िरकार इसमें ऐसा कुछ अलग या अनोखा तो है नहीं, जो आपको झटका दे दे, चौंका दे. वही सब तो है जिसके लिए राम गोपाल वर्मा जाने जाते हैं और जिसके लिए आप उनके, उनकी फिल्मों के मुरीद हैं. किसी एक के कंधे से होते हुए दूसरे के चेहरे पे चढ़ता कैमरा, जिन्हें हम OTS (over the shoulder) शॉट पुकारते हैं, कानफाड़ू बैकग्राउंड म्यूजिक, एक्टिंग के नाम पर आड़े-तिरछे चेहरे बनाना और डायलॉग्स एकदम सतही-सपाट; रामू एक बार फिर अपने (उस) आप को दोहराने में सफल साबित होते हैं, जिसे हममें से कोई भी अब और बर्दाश्त करने के मूड में नहीं दिखता.

    राम गोपाल वर्मा जिस शिद्दत से जुर्म की कालिख में लिपे-पुते चेहरों में अपने नायक ढूंढते रहते हैं, कुख्यात चन्दन तस्कर वीरप्पन ऐसा लगता है जैसे उन्हीं के लिए गढ़ा गया हो. एक ऐसा जीवंत किरदार जो खूंखार हो, वहशी हो, निर्मम हो और जिसका हिंसा के साथ एक पागलपन वाला रिश्ता हो, राम गोपाल वर्मा के लिए कोई और दूसरा इससे बेहतर ढूंढ पाना मुश्किल था. बेहतर होता, रामू इसे महज़ अपना ‘कमबैक’ न मान कर थोड़ा और महत्वाकांक्षी हो पाते. वीरप्पन की रोबदार मूंछों वाली छवि को परदे पर उतार भर लेने की कामयाबी से ही रामू इतने उत्साहित लगने लगते हैं कि उसके किरदार की बर्बरता को उकेरना भूल ही जाते हैं. एक-दो दृश्यों को छोड़ दें, तो पूरी फिल्म में वीरप्पन के खौफ से ज्यादा गोलियों का शोर आपको अधिक विचलित करता है. अपने आपराधिक जीवनकाल में वीरप्पन ने तकरीबन सौ पुलिसवालों की हत्या की थी, राम गोपाल वर्मा फिल्म में इस गिनती का पीछा करते थकते नहीं, मानो वीरप्पन के वीरप्पन बनने में इसी एक अदद गिनती का हाथ रहा हो.

    अभिनेता संदीप भारद्वाज का हूबहू वीरप्पन की तरह दिखना और लगना अगर वीरप्पन फिल्म का सबसे कामयाब पहलू है, तो सचिन जोशी [पुलिस वाले की भूमिका में] का ठंडा अभिनय सबसे कमज़ोर. उसके ऊपर पूरी फिल्म में उन्हीं की आवाज़ के साथ कहानी का आगे बढ़ना; आप को पता चल गया होगा असली मुजरिम कौन है? वैसे फिल्म अगर कहीं आपको सचमुच बाँधने की कोशिश करती है तो वो है वीरप्पन की पत्नी लक्ष्मी का ट्रैक. स्पेशल टास्क फ़ोर्स अपने ही एक अधिकारी की विधवा पत्नी [लीज़ा रे] को लक्ष्मी [उषा जाधव] के करीब ले जाती है, जहां पूरी कहानी दोनों के इर्द-गिर्द घूमने लगती है. यहाँ भी उषा जाधव तो अपने अभिनय में सधी और संपन्न नज़र आती हैं, पर लीज़ा के लिए अभी भी अभिनय उतना ही मुश्किल लगता है जितना उनका साफ़ तरह से हिंदी बोल पाना. वो नर्गिस फाखरी की याद दिलाती हैं, अजीब अजीब तरह के चेहरे बनाती हैं, जैसे वो किसी फिल्म का नहीं, बालाजी टेलीफिल्म्स के सास-बहू सीरियल्स का एक ऐसा किरदार हों जो बैकग्राउंड में बोलना ज्यादा पसंद करता हो और बात-बात पर गर्दन टेढ़ी करके आँखें छोटी-बड़ी करता रहता हो.

    आखिर में सिर्फ इतना ही, राम गोपाल वर्मा की वीरप्पन शोर बहुत करती है, कहती बहुत कम. रामू अगर बॉलीवुड में इसे अपनी वापसी का जरिया मान रहे हों, तो मैं कहूँगा आपको अभी भी कुछ दिन और एकांतवास में रहना चाहिए. मेरा इंतज़ार अभी ख़तम नहीं हुआ. “मेरे राम गोपाल वर्मा आयेंगे! ज़रूर आयेंगे!!” कब? पूछिए मत! [1.5/5]

    ReplyDelete
  2. Above 2 ..down 1.5
    ???

    ReplyDelete
    Replies
    1. typo error, bro! Consider it 1.5. :)

      Delete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top