Nil Battey Sannata Movie Review |Bollymoviereviewz
Wednesday, April 27, 2016

Nil Battey Sannata Movie Review


Nil Battey Sannata Movie Review

Nil Battey Sannata Movie Review Average Ratings:3.56/5
Reviews Counted:8
Score:100 % positive
Positive:7
Neutral:0
Negative :0

From All the  Top Professional Critics reviews on the web .


Ratings:3/5 Review By:Rajeev Masand Site:CNN IBN
Tiwari injects just the right dose of humor and empathy into Nil Battey Sannata. The film is directed with a light touch, yet realistically – you can see the careful details that have gone into creating the world that the characters inhabit, and the conversations they have. I’m going with three out of five for Nil Battey Sannata. Translated literally, the phrase means zero multiplied by anything equals zero. It’s commonly used to imply blankness, or the notion of knowing nothing. Ironic, considering the film leaves you feeling rewarded and just a little bit wiser.
Visit Site for more
Ratings:3/5 Review By:Anupama Chopra Site:Film Companion
Visit Site for more
Ratings:4.5/5 Review By:Namrata Thakker Site:Rediff
Overall, Nil Battey Sannata throws light not only the endearing mother-daughter relationship but also subtly explores issues like poverty and education. Last year, we had Dum Laga Ke Haisha, a feelgood film which left a lasting impression on everyone. For me, this year it is Nil Battey Sannata. Watch this film with your mother. The film is truly a fitting tribute to mothers and their unconditional, selfless love.
Visit Site for more
Ratings:3.5/5 Review By:Mohar Basu Site:Times Of India
Nil Battey Sannata is a rare film, the kind that will bring tears to your eyes but leave a smile on your face. It is gratifying to watch something unpretentious in times when masala films are stooping to entertain. Director Ashwiny Iyer Tiwari makes you buy into Chanda's innocent world, where happiness is found over relishing a plate of Chow Mein while watching a horror film.
Visit Site for more
Ratings:3/5 Review By:Shubhra Gupta Site:Indian Express
‘Nil Battey Sannata’ has a strong message about how education can change your life. It does underline the message, but stays just short of being preachy or message-y. And leaves you with a warm glow.
Visit Site for more
Ratings:4/5 Review By:Gautaman Bhaskaran Site:Hindustan Times
Ashwini Iyer Tiwari’s debut feature, Nil Battey is a powerful and honest work, completely shorn of the kind of pretension one sees in a large number of Bollywood movies. It is not just a touching story of a mother and her daughter but also a great chapter on the importance of education. It tells us that a parent’s limitations need not stop his/her child too.
Visit Site for more
Ratings:3.5/5 Review By:Saibal Chatterjee Site:NDTV
Nil Battey Sannata is easy to recommend. It is light-hearted, easy on the eyes and mind, and full of heart. This film says a great deal about a girl-child's struggles, a mother's hopes and the ways of the education system. But, in the end, Nil Battey Sannata is also a good old story about life and its vicissitudes.
Visit Site for more
Ratings:4/5 Review By:Surabhi Redkar Site:Koimoi
Nil Battey Sannata is an extremely realistic, straight from the heart film. This poignant story appeals to you instantly and is a perfect film to promote girl-education.A preachy end, slightly puts you back into the seat from this otherwise realistic film. Surely watch! This film is a beautiful mother-daughter story that will no matter what be relatable to everyone from their growing up years. These are the kind of films that prove cinema is all about story-telling and not star values!
Visit Site for more



Also see Fan Review in Hindi and Fan Box Office Collection

Nil Battey Sannata Story:  

Apu is a class 10th student and is giving up on studies, because she knows her mother will not be able to provide for her higher studies. Her mother tries hard and even enrolled her for maths tuition but Apu thinks only children of rich parents become doctors or engineers and believes she'll end up being a maid too like her mother. But one day her mother gets a chance to continue her Education.


Nil Battey Sannata Release Date:

April 22, 2016

 Director:  Ashwini Iyer Tiwari

 Producer:  JAR Pictures ,Colour Yellow

Cast:
Swara Bhaskar
Ratna Pathak
Pankaj Tripathy

Look at Bollywood Movies 2016 List and see Upcoming Bollywood Movies


Meanwhile also take a look at Box Office

More Shahrukh Khan:
Fan Poster
More Trailers
Shahrukh Khan Movies Box Office Analysis
Shahrukh Khan All Movies List 
SRK Upcoming Movies

More Reviews:
Kapoor & Sons Review
 Neerja Review
Airlift Review
Nil Battey Sannata Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments

1 comments:

  1. निल बट्टे सन्नाटा:
    जिंदगी-कहानी-सिनेमा! [4/5]

    सपनों के कोई दायरे नहीं हुआ करते. छोटी आँखों में भी बड़े सपने पलते देखे हैं हमने. फेसबुक की दीवारों और अखबारों की परतों के बीच आपको दिल छू लेने वाली ऐसी कई कहानियाँ मिल जायेंगी, जिनमें सपनों की उड़ान ने उम्मीदों का आसमान छोटा कर दिया हो. हालिया मिसालों में वाराणसी के आईएएस (IAS) ऑफिसर गोविन्द जायसवाल का हवाला दिया सकता है, जिनके पिता कभी रिक्शा चलाते थे. अश्विनी अय्यर तिवारी की मार्मिक, मजेदार और प्रशंसनीय फिल्म ‘निल बट्टे सन्नाटा’ भी ऐसी ही एक मर्मस्पर्शी कहानी के जरिये आपको जिंदगी के उस हिस्से में ले जाती है, जहां गरीबी सपनों की अमीरी पर हावी होने की कोशिश तो भरपूर करती है पर अंत में जीत हौसलों से लथपथ सपने की ही होती है.

    घरों, जूते की फैक्ट्री और मसाले की दुकानों पर काम करने वाली चंदा (स्वरा भास्कर) एक रात जब थक कर सोने से पहले अपनी 15 साल की बेटी अप्पू (रिया शुक्ला) से पूछती है कि वो बड़ी होकर क्या बनेगी? अप्पू खरी-खरी कह देती है, “मैं बाई बनूंगी. बाई की बेटी बाई ही तो बनेगी.” चंदा बहस में जीत नहीं सकती. 10वीं के बाद अप्पू को पढ़ाने के लिए पैसे कहाँ हैं चंदा के पास? वैसे भी, अप्पू मैथ्स में ‘निल बट्टा सन्नाटा’ है, मतलब ज़ीरो. पैसे तो बाद की बात हैं, पर इस मैथ्स का क्या करें? चंदा तो खुद मैट्रिक फ़ेल है. डॉ. दीवान (रत्ना पाठक शाह) के पास एक उपाय है. चंदा भी अप्पू का स्कूल ज्वाइन कर ले, खुद भी पढ़े और अप्पू की भी मदद करे. बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए माँ-बाप क्या कुछ नहीं करते, पर हम बच्चे कितना समझ पाते हैं? अप्पू के पास तो कोई सपना ही नहीं है, और चंदा के पास अप्पू से बड़ा कोई सपना नहीं!

    अश्विनी अय्यर तिवारी अपनी पहली ही फिल्म में साफ़ कर देती हैं कि सिनेमा कहानी कहने का एक सशक्त माध्यम है, कहानी जिसका कहा जाना जितना जरूरी है, उतना ही जरूरी है उसका सही ढंग से कहा जाना. आगरा की तंगहाल बस्तियां हों या सरकारी स्कूलों का वही जाना-पहचाना बेढंगापन; तिवारी बड़ी खूबी से फिल्म को सच्चाई के बिलकुल करीब तक रखने में कामयाब रही हैं. उनके किरदार भी अपनी जड़ों से एक बार भी उखड़ते दिखाई नहीं देते. चंदा गुस्से में होती है तो अपनी बेटी को भी गाली देने से झिझकती नहीं.

    अभिनय की दृष्टि से ‘निल बट्टे सन्नाटा’ एक जोरदार और जबरदस्त फिल्म है. स्वरा भास्कर एक पल को भी चन्दा से अलग नहीं दिखतीं. बेटी की हताशा में बेबस, गरीबी से जूझती, सपनों को जिंदा रखने में दौड़ती-भागती एक अकेली माँ का सारा खालीपन उनकी आँखों में हमेशा तैरता रहता है, ऐसा शायद ही कभी होता है कि वो पूरी तरह टूट जाएँ स्क्रीन पर, फिर भी आपकी आँखों को भिगोने में वो हर बार कामयाब होती हैं. अपनी पहली फिल्म में ही रिया एक मंजी हुई कलाकार की तरह आपको चौंका देती हैं, और इन दोनों के बीच फिल्म के सबसे मजेदार दृश्यों में नज़र आते हैं पंकज त्रिपाठी! अक्खड़, अकड़ू और निहायत ही अनुशासित मैथ्स टीचर की भूमिका में त्रिपाठी आपको अपने किसी न किसी पुराने टीचर की याद दिला ही देंगे.

    अंत में; ‘निल बट्टे सन्नाटा’ सिनेमा के उस क्लासिक नियम की जोर-शोर से पैरवी करती है, जहां फिल्म के बड़ी होने से कहीं ज्यादा ‘कहानी’ का बड़ा होना मायने रखता है. फ़िल्म के एक दृश्य में चंदा कहती भी है, “कृष 3 नहीं है, जिंदगी है जिंदगी”. और जिंदगी से ज्यादा दिलचस्प, जिंदगी से ज्यादा जज्बाती, जिंदगी से ज्यादा सच्ची कहानी और क्या होगी! [4/5]

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top