Zubaan Movie Review |Bollymoviereviewz
Thursday, March 10, 2016

Zubaan Movie Review

Zubaan Movie Review

Average Ratings:2.58/5
Score :67% Positive
Reviews Counted:7
Negative :2

From All the  Top Professional Critics reviews on the web .

Ratings:2/5 Review By:Raja Sen Site:Rediff
Look, Zubaan isn’t a bad film. It is decently made and reasonably well acted, especially by Manish Chaudhari who conquers the screen in his swaggering role of a boorish businessman. Kaushal is immensely earnest, and Raaghav Chanana brings some nuance to his part of the insecure son -- whenever the script allows him. Perhaps we ought to take a cue from the strikingly-haired French hip-hop dancers who pat the hero and heroine on their shoulders when they finally do kiss, and treat this boring little film with what it demands most: indulgence.
Visit Site for more
Ratings:-- Review By:Komal Nahta Site:Zee ETC Bollywood Business
Mozez Singh has written a story which starts off well but loses steam as it moves. Thani, Sumit Roy and Mozez Singh’s screenplay moves at a leisurely pace, perhaps, because there is not much to say. It becomes boring in the first half and unconvincing towards the end. On the whole, Zubaan is a well-made and well-enacted film but its commercial prospects are poor because at the end of it all, it appears as an exercise in futility and without purpose.
Visit Site for more
Ratings:2.5/5 Review By:Shubhra Gupta Site:Indianexpress
The writing is patchy, with Kaushal not coming off as striking as he was in ‘Masaan’ : he’s good yes, he makes us watch, yes, but is already familiar. And the climactic passage is too stretched. Singh clearly has a voice, though, and a talent for creating twisty drama. Pity the plot dips and the tone shifts, which results in the film speaking in parts, and being muzzled in the rest. But the music is lovely: in many places, I listened more than I looked.
Visit Site for more
Ratings:2.5/5 Review By:Saibal Chatterjee Site:NDTV
Zubaan also has considerable space for two other actors - Manish Chaudhary and Raaghav Chanana.Chaudhary is of course a proven quantity and has the presence to fill up the screen. Chanana is perfectly cast in the role of the corporate scion who cannot understand why his dad is averse to giving him his due. Zubaan stretches itself too thin at times in trying to raise its narrative tempo. In its quieter moments, however, it does manage to get its voice heard. Watch it for the latter bits - and for Vicky Kaushal.
Visit Site for more
Ratings:3/5 Review By:Mohar Basu Site:TOI
Zubaan has a feeble story which doesn't do justice to its technical finesse. It is hardly appealing in the first hour but with solid performers like Vicky Kaushal and Manish Chaudhari, the film soars over its runtime. Zubaan might test your patience but it is heartbreaking in parts. Luckily, the melodrama is kept at bay even when the protagonist finds himself divided between materialism and mirth.
Visit Site for more
Ratings:3/5 Review By:Hungama Site:Bollywood Hungama
. The second half is not as watertight as the flawless first half, because, the film dips in second half… only to pick up pace again towards climax.On the whole, ZUBAAN comes across as a magnificent masterpiece of the recent times. Strong performances and extremely relatable screenplay will surely bring the audiences to witness the film that speaks about love, ambition, trust, faith and betrayal.
Visit Site for more
Ratings:2.5/5 Review By:Surabhi Redkar  Site:koimoi
Zubaan has a platter of themes to offer and it may not be a great thing for everyone. It is a musical, coming of age tale of self-discover, a love story all rolled into one. This film may appeal to a very limited audience.

Visit Site for more

Zubaan Story:  

The film is the coming of age story of a young boy (Vicky Kaushal) who loses his faith and develops a fear of music & his journey in fighting that fear and thus finding himself.

Zubaan Release Date:

Mar 4, 2016

 Director: Mozez Singh

 Producer: Guneet Monga,Shaan Vyas,Mozez Singh

Vicky Kaushal
Sarah Jane Dias
Raaghav Chanana

Also Try Tere Bin Laden 2 Review & Neerja Review

Look at Bollywood Movies 2016 List and see Upcoming Bollywood Movies

Meanwhile also take a look at and Box Office of all Hindi movies

Looking For More Reviews than Also Try:
Airlift Review
Bajirao Mastani Review
Dilwale Review
Tamasha Review
PRDP Review 
Bajrangi Bhaijaan Review
Zubaan Movie Review
  • Comments
  • Facebook Comments


  1. ज़ुबान:
    दिल, दुनिया और म्यूजिक! [3/5]

    सपनों के पीछे भागते-भागते आप मंजिल तक पहुँच जाएँ, और वहाँ पहुँच कर आपको लगे कि ये तो वो मंजिल नहीं, जिसके लिए अब तक आपने इतनी जद्दोजेहद की. ऐसा अक्सर नहीं होता. ऐसा सबके साथ भी नहीं होता. या अगर होता भी है तो इतनी देर से कि आपका पीछे लौटना मुमकिन ही न हो. पहली बार निर्देशन की बागडोर सँभालते मोज़ेज सिंह की ‘ज़ुबान’ एक ऐसे नौजवान की कहानी है, जो अपने सपनों के लिए किसी भी हद तक जा सकता है पर, एक दिन जब उसके चाहतों की दुनिया उसके क़दमों में बिछी दिखाई देती है, उसे एहसास होता है इस पूरे सफ़र में उसने अपनी पहचान ही खो दी है, अपनी जुबान ही खो दी है.

    गुरदासपुर के दिलशेर [विक्की कौशल] को अपने रोल मॉडल गुरुशरण सिकंद [मनीष चौधरी] जैसा ही एक अमीर और कामयाब बिज़नसमैन बनना है. सिकंद उसी के गाँव से आते हैं, शायद इसीलिए दिलशेर सिकंद ही बनना चाहता है. हालाँकि हमेशा से ऐसा नहीं था. दिलशेर को अपने पिता के साथ गुरबानी गाना बहुत भाता था पर एक हादसे में पिता नहीं रहे. और अब दिलशेर हकलाता भी है. सिकंद तक पहुँचने के लिए, दूसरा सिकंद बनने के लिए दिलशेर कोई मौके नहीं छोड़ता पर जब अपनी सारी कोशिशों के बाद उसे अपनी मंजिल तय नज़र आती है, अचानक उसे सब कुछ बेमानी लगने लगता है. जैसे कस्तूरी उसके अन्दर ही रची-बसी थी और वो पागलों की तरफ इधर-उधर भटक रहा था. उसकी ज़ुबान ही उसकी पहचान है...और उसे इसका एहसास दिलाने में मदद करती है, अमाईरा [सारा जेन डायस]!

    ‘जुबान’ उन चंद खूबसूरत फिल्मों में से है, जो आपसे कुछ कहने की कोशिश करती हैं (यकीन मानिये, ऐसा हर फिल्म के साथ नहीं होता. मेरी याददाश्त में शायद ‘तमाशा’ इस तरह की आखिरी फिल्म रही है) ये बात दीगर है कि कई बार ये कोशिश सटीक बैठती है, कई बार नहीं. फिल्म को गहराई देने के लिए मोजेज़ अक्सर गीतों और संगीत को अपना जरिया बनाते हैं, जो कहीं से भी आपको निराश नहीं करते और फिल्म को नयेपन का चोला पहनाने में भी बखूबी कामयाबी हासिल करते हैं. फिल्म एक ठहराव के साथ आगे बढती है, जहां कहानी के बहुत से हिस्से पहले रोमांचक तरीके से छिपाने और बाद में सामने लाने के सांचे में पिरोये गए हैं.

    खूबसूरत सिनेमेटोग्राफी के साथ-साथ, ‘ज़ुबान’ को देखने लायक फिल्म बनाते हैं तो वो हैं उसके किरदार और उन किरदारों में ढले कलाकार. हालाँकि विक्की कौशल को हम ‘मसान’ में पहले भी देख चुके हैं, मगर तकनीकी तौर पर ये उनकी पहली फिल्म है. उनके अभिनय में एक ख़ास तरह का कसाव है जो आपको कभी भी उनसे ऊबने नहीं देता. मनीष चौधरी मंजे हुए अदाकार माने जाते हैं, और यहाँ भी वो अपना लोहा खूब मनवाते हैं. सारा जेन डायस फिल्म में एक अलग ही रंग भरती हैं. सिकंद के बेटे की भूमिका में राघव चानना प्रभावित करते हैं.

    आखिर में; ‘ज़ुबान’ में सब कुछ अच्छा है, ऐसा नहीं है. कहानी की पकड़ अक्सर आप पर बनती-छूटती रहती है. फिल्म की रफ़्तार भी कुछ इस तरह की है कि आप इसे एक ‘स्लो’ फिल्म कहने से गुरेज नहीं करते, पर इन सबके बावजूद ‘ज़ुबान’ एक आम फिल्म नहीं है, एक आसान फिल्म नहीं है. दिल, दुनिया और दिमाग के बीच झूलते-जूझते नौजवानों को आवाज देती एक ऐसी ज़बान, जिसे सुनने-समझने के लिए आपको भी थोड़ी मेहनत तो करनी होगी. [3/5]


Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered