Court Movie Review (Marathi)|Bollymoviereviewz
Monday, April 20, 2015

Court Movie Review (Marathi)


Court Movie Rating: 4.07/5


From All the reviews on the web


Showing Top 8 Reviews


Court Movie Review by 



Ratings: -- Review By:Rajeev Masand Site:CNN IBN
The beauty of Tamhane’s film lies in the fact that it is so real. Court is a biting commentary on society, a wry fly-on-the-wall take on the farcical way in which our judicial system and its antiquated laws decide the fate of our people. The lead performers cease to act, and just let their characters breathe through this subtle script. It is how Tamhane tells his story that we are drawn in – occasionally choosing to strip the characters of their day jobs and taking us into their lives.
Visit Site for more
Ratings4/5 Review By:Mihir Bhanage Site:Timesofindia.com
The film takes its time to unfold, perhaps metaphorically used to point towards the slow procedure of the judiciary, but the brilliance of the script and acumen of the director keep you hooked. 'Court' is a film for the thinking viewer and requires you to evaluate scenes using your brains. Those of you who are formulaic film lovers and want to howl and whistle in cinema theatres, please stay away from this one instead of spoiling the experience for others. For people who love meaningful cinema, this is a must watch. Don't miss the summons!
Visit Site for more
Ratings:4/5 Review By: Anupama Chopra  Site:Youtube
Visit Site for more
Ratings:3.5/5 Review By:Raja Sen Site:Rediff.com
Vivek Gomber and Geetanjali Kulkarni, the two pros in the cast, deliver superb performances to sustain our interest in the dreary court proceedings.Worthy of special praise is the manner in which the duo merges seamlessly with the amateurs.The latter are the real faces in the drama, like the dead sewage worker's wife (Usha Bane) and the folk poet's young co-traveller Subodh Khuste (Shishir Pawar).The multilingual Court (Marathi, Hindi, English and Gujarati, with subtitles) is an exceptional cinematic achievement: a film that no cinema lover can afford to miss.
Visit Site for more
Ratings4.5/5 Review By:Saibal Chatterjee Site:Ndtv.com
The film takes its time to unfold, perhaps metaphorically used to point towards the slow procedure of the judiciary, but the brilliance of the script and acumen of the director keep you hooked. 'Court' is a film for the thinking viewer and requires you to evaluate scenes using your brains. Those of you who are formulaic film lovers and want to howl and whistle in cinema theatres, please stay away from this one instead of spoiling the experience for others. For people who love meaningful cinema, this is a must watch. Don't miss the summons!
Visit Site for more
Ratings:4/5 Review By:Shubhra Gupta  Site:Indianexpress.com
Tamhane’s film junks melodrama, and is all the more powerful for it. Just a tiny niggle: there are times it feels like it is opening too many fronts and you start feeling the weight, but the film moves on before it gets too heavy. The rest is subtle and hard-hitting, and your jugular is where it aims, unerringly.‘Court’ is a searing, unmissable film​, and is one of the best you will see this year​ . If you feel any other way, well, go ahead, sue me.Four stars.
Visit Site for more
Ratings:4/5 Review By:Suhani Singh Site:India Today
It's not a stretch to say that Court marks the release of the finest film of 2015. It also won't be easy to top the National Award winner for Best Feature Film, a multilingual film which is unlike any courtroom drama Indian audiences have seen.
Visit Site for more
Ratings:4.5/5 Review By:Shubha Shetty Saha Site:Mid-day.com
This powerful, soul searching story accentuated by confident direction is ably assisted by awe inspiring casting (casting director Sachit Puranik) and near-perfect production design (Somnath Pal and Pooja Talreja). Geetanjali stands out with her brilliant performance, while the other actors lend good support. However, Gomber seems to struggle with his Gujarati accent and trying to fit into his character.A film so real that you can almost touch it. Please go watch it. The audience needs such films more than the film needing the audience.
Visit Site for more

About Court: 

Synopsis:
 Court Movie is about a ageing folk singer is tried in court on charges of abetment of suicide. He is accused of performing an inflammatory song which might have incited the worker to commit the act.

Release Date: April 17, 2015

Running time: 116 minutes

 Director: Chaitanya Tamhane

Produced By:Zoo Entertainment Pvt Ltd

 Written By: Chaitanya Tamhane

Music composed by: Sambhaji Bhagat

Cast:
Vira Sathidar
Vivek Gomber
Geetanjali Kulkarni
 Pradeep Joshi
Usha Bane
Shirish Pawar

 Also Try:
Margarita With a Straw Review
New Hindi Movies
Upcoming Movies
Hindi Movies List 2015 
Box Office 
Top 10 Bollywood Songs Apr 8
Court Movie Review (Marathi)
  • Comments
  • Facebook Comments

1 comments:


  1. कोर्ट (मराठी):
    सिर्फ सच…और सिनेमा! सिनेमा और सच के सिवा कुछ नहीं!! [4.5/5]

    अगर आप कभी असल ज़िंदगी में कोर्ट नहीं गए, तो प्रबल संभावना है कि आपके मन में कोर्ट की जो थोड़ी-बहुत परिकल्पना होगी, हिंदी फिल्मों से उधार ली हुई होगी। जहां वकील 'तू डाल-डाल, मैं पात-पात' की तर्ज़ पर गला-काट जिरह कर रहे होंगे, मुलज़िम कुशल कारीगरी से बनाये गए बड़े से कठघरे पे हाथ टिकाये बार-बार 'योर ऑनर, ये झूठ है' का जुमला फेंक रहा होगा और जज साहब भी इंसाफ का हथौड़ा 'ऑर्डर-ऑर्डर' की धुन पर बजाने में पूरी तरह मशगूल होंगे। भारत में जहां हज़ारों-लाखों मुकदमे सालों से 'तारीख़ पे तारीख़' का दर्द झेल रहे हैं, कोर्ट में इस तरह के अति-उत्साह, अप्रत्याशित जोश और अविश्वसनीय रोमांच की उम्मीद करना एक तरह से बेवकूफ़ी ही होगी। ऐसा ही कुछ चैतन्य तम्हाणे की राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म 'कोर्ट' के बारे में भी कहा जा सकता है! यथार्थ के इतने करीब एक ऐसी फिल्म जिसमें बनावटीपन 'दाल में नमक' जितना है, वो भी एकदम सही मात्रा में, न कम-न ज्यादा!

    मराठी के जुझारू लोक-गायक, गीतकार-लेखक और विचारक नारायण कांबले [वीरा साथीदार] पर पहले भी सरकार-विरोधी, जाति-संप्रदाय विरोधी और सामाजिक उत्तेजना भड़काने के आरोप लगते रहे हैं पर इस बार उन्हें एक मजदूर को आत्महत्या के लिए उकसाने के इल्ज़ाम में पुलिस ने गिरफ़्तार किया है! दो दिन पहले अपने एक जोशीले गीत में कांबले ने 'इस तरह जीने से तो गटर में डूब कर मर जाना अच्छा' का शंख फूँका था, और आज सफाई-कर्मचारी वासुदेव पवार गटर में मरा पाया गया. बहरहाल, मामला कोर्ट में पहुँच गया है! सरकारी पक्ष की वकील नूतन [गीतांजलि कुलकर्णी] ने दो-ढाई पेज का मुकदमानामा एक सांस में खत्म कर दिया। बचाव-पक्ष के वकील विनय [विवेक गोम्बर] जमानत लेने में असफल रहे. अगली तारीख मिल गई है. नूतन मुंबई की लोकल ट्रेन में पति की डायबिटीज़ और खाने में कम तेल इस्तेमाल करने फायदे बता रही हैं. विनय डाइनिंग टेबल पर अपने माँ-बाप से शादी न करने के मुद्दे पर लड़ रहा है. अगली तारीख पर दोनों फिर आमने-सामने हैं, पर एक अहम गवाह की तबियत ख़राब है! एक और तारीख से यहां किसी को कोई तकलीफ़ नहीं, फैसले की किसी को कोई जल्दी भी नहीं।

    गौरतलब हो कि इन सबके बीच मृणाल देसाई का कैमरा थोड़ी दूरी बनाकर, एकदम सांस रोके चुपचाप आपको वास्तविकता का स्वाद चखा रहा है, जैसे आप सिनेमाहॉल में नहीं, वहीँ कहीं एक कुर्सी पकड़ के बैठे हों. फिल्म के एक दृश्य में बचाव पक्ष के वकील एक रेस्टोरेंट से बाहर निकल रहे हैं, कैमरा सड़क के पार से उन्हें देख रहा है, एकदम स्थिर। एक ख़ास जाति के दो लोग वकील साब के मुंह पर कालिख पोतने लगते हैं, फ्रेम में सिर्फ रेस्टोरेंट का दरबान दिख रहा है और बाकी का पूरा घटनाक्रम आप सिर्फ आवाज़ों के जरिये देख पा रहे हैं. बेहतरीन प्रयोग!

    फिल्म को सच्चाई का रंग देना हो तो कलाकारों का किरदारों में ढल जाना बहुत जरूरी है। 'कोर्ट' में पता लगाना मुश्किल हो जाता है कि कौन अभिनेता है? और कौन असली किरदार? अगर आप गीतांजलि कुलकर्णी को पहचानते नहीं तो पहले दो दृश्यों में आप उन्हें कोई असल ज़िंदगी की वकील समझने की भूल यकीनन कर बैठेंगे, जिसे नाटकीय अभिनय का 'क-ख-ग' भी नहीं आता! हालाँकि उनके मुकाबले विवेक गोम्बर थोड़े ज्यादा सचेत नज़र आते हैं, पर 'शिप ऑफ़ थीसियस' के बाद ये एक ऐसी फिल्म है जिसमें अभिनय, अभिनय नहीं लगता, संवाद रटे-रटाये नहीं लगते और फिल्म कुल मिलाकर भारतीय सिनेमा को एक नए मुकाम पे ला खड़ा करती है!

    अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर सत्ता का पौरुष-प्रदर्शन देखना हो या सदियों पुराने तौर-तरीकों और सामाजिक मान्यताओं को आधार-स्तम्भ बनाये बैठी भारतीय न्याय व्यवस्था की जीर्ण-शीर्ण, जर्जर हालत की बानगी देखनी हो तो और किसी कोर्ट के दरवाजे खटखटाने की जरूरत नहीं, बेहिचक चैतन्य तम्हाणे की 'कोर्ट' देख लीजिये! साल की सबसे अच्छी फिल्म, अब तक की! [4.5/5]

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top