Crazy Cukkad Family Review|Bollymoviereviewz
Wednesday, January 21, 2015

Crazy Cukkad Family Review

Crazy Cukkad Family  Rating: 1.87/5 

From All the  reviews on the web

Showing Top 9 Reviews

Crazy Cukkad Family Hindi Movie Review




Ratings:2/5 Review By:  Renuka Vyvahare Site:Times Of India (TOI)
If you give a funny twist to a probable sequel of Baghban, it could end up looking like this. However, what puts a break on this potentially quirky laughter ride is its predictable story. From a gay love track and happily-ever-after climax to the property dispute... you can foretell every twist in the plot. Also, jokes about item girl Cherry doing her 'hot pakoda' dance in slowmo seems irrelevant.Overall, the characters are crazy enough to amuse you with their shenanigans. If you don't mind a cliched story, Beri villa is worth a visit.
Visit Site for more
Ratings:-- Review By:  Komal Nahta Site:Zee ETC Bollywood Business
On the whole, Crazy Cukkad Family is entertaining, no doubt, but at the end of the day, it appears like a nice television serial. Lack of face value and the poor opening will do the film in. Its commercial prospects are very dull.
Visit Site for more
Ratings:1.5/5 Review By:  Saibal Chaterjee Site:NDTV
Crazy Cukkad Family has lyricist Swanand Kirkire in the principal role of a lout out to make a right royal nuisance of himself. He is not bad at all. And neither is Shilpa Shukla as the woman determined to give the men in her family a run for their money. But when actors are made to spout lines that add up to naught, they can only tie themselves up in knots. A wild goose chase is always avoidable, especially when it assumes the form of a full-fledged film.
Visit Site for more
Ratings:1.5/5 Review By:  Shubhra Gupta Site:Indian Express
A situation like this is ripe for black humour, and a sharp comedy of manners. There are moments when the film seems to get it, but then squanders the chance, and gets back to being broad and obvious. And dull. There’s also an attempt at being different, in the shape of a couple of offbeat partners that the brothers and sisters possess (one lives out his fantasies in drag, the other is in a same s** relationship). You wish more were made of these. And of the title, which is nice and snappy. Too bad the film isn’t.
Visit Site for more
Ratings:2/5 Review By:  Pooja Nayak Site:DNA
Crazy Cukkad Family has lyricist Swanand Kirkire in the principal role of a lout out to make a right royal nuisance of himself. He is not bad at all. And neither is Shilpa Shukla as the woman determined to give the men in her family a run for their money. But when actors are made to spout lines that add up to naught, they can only tie themselves up in knots. A wild goose chase is always avoidable, especially when it assumes the form of a full-fledged film.
Visit Site for more
Ratings:1.5/5 Review By:  Saurabh Dwivedi Site:India Today
Crazy Cukkad Family has a lame story and screenplay too follows the formula of picking up from here and there. The biggest strength of a low budget film is its story and performances but this film is a big zero as far as story is concerned. Go watch Crazy Cukkad family if you can laugh watching any comedy or if you want your family to learn the lesson of unity.
Visit Site for more
Ratings:3/5 Review By:  Ksumita Das Site:Deccan Chronicle
The narrative hinges itself on satire, however, the melodrama towards the end dilutes the humour; that could have been avoided. That apart, Ritesh Menon’s direction is confident and his portrayal of characters, engaging. Kudos to the editing team for keeping the film under two hours, a minute more and it could have easily flown off the rails. But overall Crazy Cukkad Family manages to be a decent balance of chuckles, LOLs and WTFs.
Visit Site for more
Ratings:2/5 Review By:  Bollywood Hungama Site:BollywoodHungama
Even though this is Ritesh Menon's debut film, the film looks promising in parts. While he succeeds in keeping the first half of the film tight, it's the wavering second half that acts as a disjoint to the film's flow. The film could have been made a bit stronger in its direction. Even if he had changed the (bizarre) climax into a more believable one, things would have been a bit different. On the whole, CRAZY KUKKAD FAMILY is decent one time watch.
Visit Site for more
Ratings:1.5/5 Review By:  Rohit Vats Site:Hindustan Times
The idea of presenting a money-minded madcap household might have looked good on paper, but it doesn’t work as a film in the absence of a strong conflict line. The sibling rivalry looks forced and typical because the story unfolds in a very banal manner.The editor has done a fantastic job by keeping the length of the film just under 90 minutes. It stops CCF from becoming a tedious watch.In the end, Crazy Cukkad Family lacks freshness and is a rework of many Bollywood films. You may like it in bits and pieces, but overall it’s just an average film.
Visit Site for more
Also Try:
Alone Review
PK Review

Crazy Cukkad Family Review
  • Comments
  • Facebook Comments

1 comments:

  1. क्रेज़ी कुक्कड़ फैमिली:
    उबाऊ, नाटकीय, नीरस! [1.5/5]

    बाप तीसरी बार कोमा में है, और अलग-अलग शहरों और विदेशों में रह रहे बेटे-बेटियां उन्हें मिलने-देखने आने में हिचक रहे हैं. 'पिछली बार की तरह इस बार भी नहीं मरे, तो आने-जाने का फिर खर्चा ', पर वसीयत में कऱोडों की प्रॉपर्टी भी तो मिलने वाली है. जाहिर है सारी जद्द-ओ-जेहद अब इस सोने के अंडे देने वाली मुर्गी को हथियाने-हड़प कर जाने की है. हालाँकि लालच में सर से लेकर पैर तक डूबे ऐसे दोयम दर्ज़े के लोगों और टुकड़ों में बँटी उनकी फैमिली की कहानी बॉलीवुड के लिए नयी बिलकुल नहीं है, पर 'क्रेज़ी कुक्कड़ फैमिली' उसे एक मज़ाकिया चोला पहनाने की कोशिश जरूर करती है! कई बार कामयाब भी होती है पर इसे एक 'पूरी तरह मजेदार' फिल्म कहना बड़ी ज्यादती होगी. अपने औसत दर्जे के लेखन-निर्देशन की वजह से सिर्फ 105 मिनट की फिल्म भी ज्यादातर उबाऊ, जबरदस्ती थोपी हुई और नीरस लगती है!

    पुश्तैनी हवेली और करोड़ों की प्रॉपर्टी के मालिक बेरी साब कोमा में हैं. पूरा परिवार इकट्ठा हुआ है पर सबको जल्दी है तो वकील साब से मिलने की. नौकर याद दिलाता है, "बाबूजी से कब मिलेंगे?". बड़े बेटे [लेखक एवं गीतकार स्वानंद किरकिरे, प्रभावशाली अभिनय] को पैसे चाहियें, एक दबंग नेता से अपनी जान छुड़ाने के लिये। छोटा भाई [कुशल पंजाबी] ग्रीन कार्ड के लिए नकली शादी का ढोंग कर रहा है. 'मिस इंडिया' न बन पाने का मलाल लिए बेटी [शिल्पा शुक्ला] अपनी झूठी सोशलाइट ज़िंदगी जीने में मशगूल है और सबसे छोटा बेटा अपनी समलैंगिक शादी के बाद लिंग-परिवर्तन के लिए पैसों का मुंह ताक रहा है. फिल्म पैसों के पीछे भागती और पैसों की जरूरतों पे अटकी ज़िंदगी दिखाने में काफी हद तक सटीक है. जहां कुछ बहुत ही मजेदार किरदार फिल्म में उत्सुकता बनाये रखते हैं, वहीँ कुछ प्रसंग बहुत ही नाटकीय लगते हैं. फिल्म के एक दृश्य में जब दबंग नेता [किरण कर्माकर] स्वानंद को बेघर कर उसका सारा सामान खुले आसमान के नीचे रखवा देता है, स्वानंद की नींद सुबह सोफे पे खुलती है और वो बिना किसी भाव के आदतन उठ कर सामने रखे फ्रिज से पानी की बोतल निकालता है. इसी तरह दिन भर पत्नी के दवाब में घुट-घुट कर रहने वाला पति [निनाद कामत] जब रात को उसी की नाईटी पहनकर उस पर जोर चलाने का अभिनय करता है, हंसी के लिए थोड़ी जगह बनती दिखती है! काश ऐसे मौके और भी होते!

    हालाँकि संवाद और कहानी में नयेपन की झलक भी नहीं दिखती, पर परदे पर जब भी स्वानंद आते हैं, उनकी सहजता-सरलता बेबस आपका ध्यान अपनी ओर खींचती है. अभिनय में ये उनका पहला प्रयोग है पर स्वानंद किसी तरह की झिझक की भनक भी नहीं लगने देते। शिल्पा शुक्ला बनावटी हैं पर अपने किरदार की हद में! एक दृश्य में जब उनके पति निनाद कार के टायर बदलने में देर लगते हैं, शिल्पा उनपे टूट पड़ती हैं, "harmonal changes हो रहे हैं क्या??". अन्य कलाकार भी कमोबेश ठीक ही हैं.

    अंत में, रितेश मेनन की 'क्रेज़ी कुक्कड़ फैमिली' ढेर सारी उम्मीदें तो जगाती है पर उन्हें पूरा करने की हिम्मत नहीं उठाती। असफल वैवाहिक जीवन से कुंठित पति और समलैंगिक शादी जैसे गैर-मामूली और नए विषयों पर काफी कुछ किया जा सकता था लेकिन उन्हें सिर्फ चौंकाने के लिए ही फिल्म में डाला गया है. इसी तरह, फिल्म के अंत में सभी किरदारों और ज़िंदगी में उनके रवैयों को सही साबित करने का सारा ताम-झाम बहुत ही आसानी से सुलझा लिया जाता है. फिल्म के शुरू में पैसों के पीछे भागती फैमिली अचानक ही हाथों में हाथ डाले 'हैप्पी एंडिंग' का गीत गाने लगती है, देख कर असहज महसूस होता है. खैर, इस 'क्रेज़ी कुक्कड़ फैमिली' में कुछ क्रेजी किरदार तो जरूर हैं, पर इनके पीछे भागने की कोई जरूरत नहीं! अच्छा होगा, कुछ मजेदार पल घर पर ही बिताएं...अपनी फैमिली के साथ! [1.5/5]

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top