Katiyabaaz Review|Bollymoviereviewz
Thursday, August 28, 2014

Katiyabaaz Review

Katiyabaaz Rating: 3.63/5

From All the  reviews on the web

Showing 9 Reviews

Katiyabaaz Hindi Movie Review



Ratings:Don't Miss Review By: Rajeev Masand Site:CNN IBN
When we go the movies, we long for a good story to unfold. It is a rare thing then to come away with the image of one unforgettable character. Katiyabaaz, an excellent documentary on the tangled power struggles in Kanpur in the middle of a deep electricity crisis, gives us one such character in the pint-sized Loha Singh. He is a katiyabaaz - an anti-hero who steals electricity to help out the power-strapped locals of the city.
Visit Site for more
Ratings:3.5/5 Review By: Renuka Vyavhare Site: Times Of India (TOI)
When circumstances push you way past your breaking point, can disobeying the law be justified? This conflict lies at the heart of this riveting docu-drama based on real events in Kanpur. Though it predominantly deals with something as serious as 'electricity theft', it never ceases to be a humane drama that is heartbreaking, yet funny at times. Sensitively directed, realistically shot,* Katiyabaaz* will make you value the most basic thing your city provides you with, that you often take for granted - *bijli.*
Visit Site for more
Ratings:4/5 Review By: Anupama Chopra Site: Film Companion
Visit Site for more
Ratings:3.5/5 Review By: Saibal Chaterjee Site: NDTV
This sharp and free-flowing 84-minute documentary, directed by Deepti Kakkar and Fahad Mustafa, is a crackling livewire of a film. Katiyabaaz is both entertaining and unflinching in its depiction of an India that lags light years behind the rest of the civilised world but isn’t willing to give up without a fight. This powerful little film is a must watch.
Visit Site for more
Ratings:4/5 Review By: Sonil Dedhia Site: Rediff
The dark humour, infused by way of Loha Singh makes this often gritty and riveting documentary exceedingly entertaining. The background tracks, composed by the Indian Ocean band (Amit Kilam, Rahul Ram) and lyricist Varun Grover (of Gangs of Wasseypur fame) blend in the film pretty well. I strongly recommend Katiyabaaz.
Visit Site for more
Ratings:3/5 Review By: Shubhra Gupta Site: Indian Express
But overall the film, overlaid by a peppy Indian Ocean number that lays out the connection between the `aadhe bujhe chiraag’ that power `poora Kanpoora’, does what it sets out to do : present us with a vivid portrait of a once vibrant city in the throes of decay and darkness. I also liked that the filmmakers provide no pat solutions : well-intentioned babus get transferred, pols leapfrog to the next issue, the `katiyas’ remain. So does the `katiyabaaz’.
Visit Site for more
Ratings:3.5/5 Review By: Tushar Joshi Site: DNA
Shot in a guerilla style the film grips you from the beginning largely due to the colorful Loha Singh who will entertain you with his one liners and metaphors on everyday life in Kanpur.A bold and honest attempt to expose the dire state of the people of Kanpur, Katiyabaaz will make you count your blessings for having access to the luxuries of having something as basic as electricity.
Visit Site for more
Ratings:4/5 Review By: Rahul Desai Site: Mumbai Mirror
Katiyabaaz covers all bases and cause-and-effect repercussions riots and elections, mills, tanneries and hospitals cut with an engaging rhythm that brings to light one of the greatest failures of fifthworld India. It leaves you with enduring images of a calamitous environment navigated by two antivillains whose thoughts and souls form a storied documentary that could well be a game-changer.
Visit Site for more
Ratings:3.5/5 Review By: Mohar Basu Site: Koimoi
Despite the film’s story being a thin plot which offers no conclusive solution to the problem at hand, it paints a glorified picture of Loha Singh. The film is exceedingly well shot, kept tight and flows lucidly. Even if the problems playing might seem alien to you, the film draws your attention and engages you with its intelligent workings. Given that Deepti and Fahad have spent a good deal of time working on the film, the scale on which they were able to mount the film was spectacular. The violent shots of angry mobs were all possible because of the same.
Visit Site for more
Also Try:
Singham Returns Review
India Box Office
Indian Movies 2014 List
Upcoming Movies Calendar 2014 


Katiyabaaz Review
  • Comments
  • Facebook Comments

4 comments:

  1. movie kaa naam K se nahin C se shuru hona chahiye tha

    ReplyDelete
  2. my review of #KATIYABAAZ
    ड्रामा, एक्शन, इमोशन…सब असली है! [3.5/5]

    कहानियाँ जो ज़िंदगी की सच्चाई से निकली हों, काल्पनिक कथाओं से कहीं बेहतर, कहीं रोचक होती हैं. रत्ती भर का बनावटीपन नहीं और कहीं भी पकड़ छूटने या बनाये रखने का दबाव नहीं. बस छोड़ दीजिये अपने आप को और बहते रहिये एक ऐसे बहाव में, जिस से आप अछूते नहीं हैं. जिसकी रवानगी कहीं न कहीं आपके ज़ेहन में कैद है, ज़िंदा है. हालांकि 'कटियाबाज़' कानपुर से ताल्लुक रखती एक डाक्यूमेंटरी ड्रामा है, पर ऐसा नहीं है कि आप बड़े शहरों में रहते हों और इस तरह के हालात से बिलकुल ही परिचित न हों.

    कानपुर, जो कभी 'भारत का मैनचेस्टर' कहा जाता था, आज बिजली कटौती की भयंकर समस्या से जूझ रहा है. गर्मियों में 45 डिग्री तक पारा पहुँचने वाले इस शहर में 16-18 घंटे तक की बिजली कटौती होती है और व्यवस्था की इस नाकामी से लोगों को जो थोड़ी बहुत राहत मिलती है, उसका सर्वेसर्वा है, कटियाबाज़ी का उस्ताद लोहा सिंह! कटियाबाज़ यानि गैर कानूनी तरीके से बिजली की चोरी के लिए तार जोड़ने का हुनर जानने वाला! लोहा सिंह को मौत छू भी नहीं सकती (उसका मानना है कि तार जोड़ते वक़्त वह अपनी साँसे रोक लेता है और इसीलिए मौत उसे पहले से ही मरा जान कर छोड़ जाती है), लोहा सिंह को व्यवस्था से भी कोई डर नहीं! लोहा सिंह एक ठिगना सा आम आदमी ही क्यों न हो, आप को उसमें बॉलीवुड के तक़रीबन-तकरीबन सारे एंटी-हीरोज़ की झलक देखने को मिल जायेगी। तो अगर लोहा सिंह फिल्म का एंटी-हीरो है, हीरो कौन है? कानपुर बिजली सप्लाई कंपनी की नयी मैनेजिंग डायरेक्टर रितु माहेश्वरी बिजली चोरी रोकने में कोई कसर छोड़ना नहीं चाहती। कानपुर जैसे शहर में, और कानपुर ही क्यों? ऐसे हर शहर में जहां लोग जरूरत की सारी सुविधाएं मुफ्त में लेने को मरे जाते हों, ये नामुकिन सा ही लगता है.

    फ़हाद मुस्तफ़ा और दीप्ति कक्कड़ की 'कटियाबाज़' उन चंद डॉक्यूमेंटरी फिल्मों में से है, जिनमें मनोरंजन और ड्रामा की भरपूर गुंजाइश है. सच्ची घटनाओं को एक सुगढ़ नाटकीय तरीके से पेश करने की उम्दा कोशिश! प्रसिद्द म्यूज़िक बैंड 'इण्डियन ओसीन' का गंवई अंदाज़ और उस पर वरुण ग्रोवर के ठेठ गीत एकदम सटीक बैठते हैं, फिल्म के कथानक और उसके मूड के हिसाब से. फिल्म में ऐसे मजेदार दृश्यों की भरमार है जो आपको शायद ही किसी बॉलीवुड फिल्म में देखने को मिलें, मसलन बिजली चोरी रोकने के लिए बनाया गया स्क्वाड जो कटिया के तारों को बाकायदा सबूत की तरह सँभालते दिखते हैं. पर 'कटियाबाज़' को एक बेहतर फिल्म बनाती है उसकी संवेदनशीलता, एक तगड़ी पकड़ उन इमोशंस पर जो शायद हम देखना भी नहीं चाहते! एक दबंग नेता के चलते जब रितु माहेश्वरी का तबादला हो जाता है और लोग उनके विदाई समारोह में उनकी प्रशंसा के गीत गा रहे होते हैं, गुलदस्तों के ढेर के बीच बैठी एक नेक नीयत आईएएस अफसर के अंदर का खालीपन आपको अंदर तक कचोट जाता है. ऐसा ही कुछ फिल्म के अंत में देखने को मिलता है, जब शराब के देसी ठेके पर लोहा सिंह को उसकी कटियाबाज़ी के काम के लिए दुत्कार मिलती है. फिल्म के ये दोनों किरदार कभी आपस में मिलते नहीं, पर एक-दूसरे से जाने-अनजाने काफी कुछ बांटते हैं.

    'कटियाबाज़' 85 मिनट की सिर्फ एक फिल्म नहीं है, 'कटियाबाज़' हम सबकी ज़िंदगी का एक हिस्सा है जहां ड्रामा, एक्शन, इमोशन सब असल का है. अगर आपको लगता है डॉक्यूमेंटरी सिर्फ कुछ चुनिंदा, बहुत ही संजीदा किस्म के लोगों के लिए ही बनती और बनायीं जाती हैं, आप 'कटियाबाज़' ज़रूर देखें। ये आपकी अपनी फिल्म है और आप ही के लिए बनाई गयी है! [3.5/5]

    ReplyDelete
    Replies
    1. Gaurav bhai..mwin bhi kanpur shehar se hi hoon aur mera bachpan bhi inhi sab ilaakon me guzra hai..
      Sachh me mujhe nahi laga ki main film dekh raha hoon..balki aisa laga ki main apne shahar ko uski roz marra ki pareshaniyon ko bade parde me dekh raha hoon..wo kanpur jo kabhi joot mills aur leather tannery ke liye mashhoor tha..Rajya sarkaron ki andekhi aur moolbhoot suvidhaaon ke abhaav me khud ko khota jaa raha hai..aur jin neta jee"irfan Solanki" ko isme dikhaya gaya hai..wo pichhle dino Kanpur ke medical college me hue kaand ko lekar desh bhar me chha chuke hain..
      Sachh kahoon to kisi bhi desh ya shehar ko uske log banaate hain aur wohi bigaadte hain..
      Bharat ka manchaster kaha jaane waale mere "kanpur" ke saath yahi hua hai..is film me dikhaya gaya ek ek drashya kisi teer ki tarah har kanpuriye ko chubhega..

      Delete
  3. After watching fake movie like singham returns go watch the movie katiyabaaz then you know about problam of common indian

    ReplyDelete

Please don't use abusive language
All comments go through automatic verification and anything abusive will be auto filtered

Top